पहले बिजली अब पानी बिलों की बारी...

जलदाय विभाग ने जारी किए औसत उपभोग के आधार पर पानी बिल
पानी बिलों में गड़बड़ी
बिल दुरुस्त कराने वालों की जुटने लगी सब डिवीजन कार्यालयों में भीड़

By: anand yadav

Published: 27 Jul 2020, 12:21 PM IST

जयपुर। अनलॉक डाउन शुरू होने पर पहले बिजली सब डिवीजन दफ्तरों में बिजली बिलों में गड़बड़ी को लेकर उपभोक्ताओं की भीड़ उमड़ी। वहीं अब जलदाय विभाग के सब डिवीजन कार्यालयों में भी उपभोक्ताओं की आवाजाही लगातार बढ़ने लगी है। विभाग ने उपभोक्ताओं के तीन महीने के जल उपभोग बिल जारी किए हैं और उपभोक्ताओं का कहना है कि बिना मीटर रीडिंग जारी किए पानी बिलों में कम जल उपभोग होने पर भी ज्यादा राशि के बिल दिए गए हैं।


गौरतलब है कि राज्य सरकार ने प्रदेश में कोरोना लॉकडाउन से पैदा हुए आर्थिक हालातों में प्रदेश के 30 लाख से ज्यादा पेयजल उपभोक्ताओं को बड़ी राहत दी है। इन उपभोक्ताओं पर अब मार्च से जून तक स्थगित किए गए पेयजल बिलों के भुगतान का भार एक साथ नहीं आएगा। इन बिलों के भुगतान की राशि को जुलाई से लेकर सितंबर तक जारी होने वाले बिलों की राशि के साथ समायोजित किया गया है। आदेश के अनुसार जुलाई में मार्च व जून, अगस्त में अप्रेल और सितंबर में आने वाले बिल के साथ मई के बिलों की भुगतान राशि समायोजित की जाएगी।
जुलाई माह में जारी हुए जल उपभोग बिलों में उपभोक्ताओं को औसत राशि के बिल जारी किए हैं। उपभोक्ताओं का कहना है कि बिना मीटर रीडिंग लिए ही जारी किए गए बिलों में कम उपभोग के बावजूद ज्यादा राशि बिलों में जोड़ी गई है। दूसरी तरफ जलदाय अफसरों का कहना है कि कोरोना संक्रमण के कारण फिलहाल पिछले बिलों की औसत राशि के अनुसार ही जल उपभोग बिल जारी किए जा रहे हैं। हालांकि सिटी सर्कल सब डिवीजन कार्यालयों में शिकायत वाले पानी बिलों को दुरुस्त करने के निर्देश दिए गए हैं।

anand yadav Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned