वेट ट्रेनिंग के हैं कई सारे फायदे

वेट ट्रेनिंग के हैं कई सारे फायदे

Archana Kumawat | Publish: Jun, 02 2018 04:23:23 PM (IST) | Updated: Jun, 02 2018 04:30:13 PM (IST) Jaipur, Rajasthan, India

यदि आप पहली बार वेट लिफ्टिंग एक्सरसाइज करना शुरू कर रहे हैं तो प्रशिक्षक की देख-रेख में ही करें

वजन घटेगा


वजन उठाने का सबसे पहला फायदा यह होता है कि इससे मसल्स में मेटाबॉलिज्म की दर तेज होती है। ऐसे में मसल्स एनर्जी के लिए फैट का उपयोग करती है। इस तरह ज्यादा कैलोरी बर्न करके ही मसल्स टिश्यूज को मेंटेन रखा जा सकता है। लीन मसल्स को बढ़ाने के लिए भी यह बहुत फायदेमंद है। यह कार्डियो एक्सरसाइज की तरह असरदार है।

डिप्रेशन


वेट लिफ्टिंग सीधे रूप से मूड को इंप्रूव करने से जुड़ी है। यह बॉडी में स्ट्रेस हार्मोन को नियंत्रित करने का काम भी करती है। ऐसे में डिप्रेशन और क्रॉनिक एंजाइटी को दूर करने में वेट लिफ्टिंग एक्सरसाइज को बहुत फायदेमंद माना गया है। इस तरह मूड को बूस्ट करके आप हेल्दी डाइट को भी मेंटेन कर सकते हैं और साथ ही वजन घटाने के टारगेट को भी पूरा कर सकते हैं।

हार्ट हेल्थ


इस संबंध में एक रिसर्च से सामने आया कि नियमित रूप से वेट लिफ्टिंग एक्सरसाइज से ब्लड फ्लो को बढ़ाया जा सकता है। साथ ही ब्लड प्रेशर भी २० फीसदी तक कम किया जा सकता है। इस तरह वेट लिफ्टिंग एक्सरसाइज करने से हार्ट अटैक और स्ट्रोक का खतरा कम किया जा सकता है। हाइपरटेंशन के मरीजों के लिए भी यह एक्सरसाइज बहुत फायदेमंद है।

डायबिटीज


नियमित एक्सरसाइज करने से डायबिटीज का रिस्क कम हो जाता है। वर्क आउट से ब्लड ग्लूकोज को मेंटेन रखा जा सकता है। साथ ही डाइटरी फाइबर एवं हेल्दी लाइफस्टाइल पर भी ध्यान देना जरूरी है। एक स्टडी के अनुसार वेट लिफ्टिंग एक्सरसाइज से डायबिटीज एवं अन्य तरह की क्रॉनिक डिजीज का रिस्क कम होता है।

बॉडी बैलेंस


शारीरिक संतुलन को बढ़ाने के लिए भी वेट लिफ्टिंग एक्सरसाइज फायदेमंद है। मल्टीपल मसल्स ग्रुप जैसे कोर, बैक एवं लैग मसल्स को व्यवस्थित करने में भी यह एक्सरसाइज अच्छी है। इस तरह बॉडी में बैलेंस एवं फ्लैक्सिबिलिटी को बढ़ाया जा सकता है। इससे उम्र बढऩे पर भी शरीर में लचीलापन रहता है।

ऑस्टिओपोरोसिस रिस्क घटेगा


वजन उठाने से मसल्स को ताकत मिलती है। साथ ही मसल्स टिश्यूज की वृद्धि भी तेज होती है। वेट लिफ्टिंग एक्सरसाइज से हड्डियों को मजबूती मिलती है। इसके अलावा बोन डेंसिटी भी बढ़ती है। इससे आगे चलकर उम्र के अनुसार होने वाले ऑस्टिओपोरोसिस का रिस्क कम किया जा सकता है। एक्सरसाइज के साथ ही कैल्शियम एवं प्रोटीन डाइट पर भी ध्यान दें।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned