ऐसा क्या हुआ कि आठ दिन से सवा लाख घरों के लोग कर रहे हैं हूपर का इंतजार

ऐसा क्या हुआ कि आठ दिन से सवा लाख घरों के लोग कर रहे हैं हूपर का इंतजार

Ashwani Kumar | Publish: Sep, 09 2018 08:26:28 PM (IST) Jaipur, Rajasthan, India

—कई लोगों ने घर के बाहर निकालकर रखे डस्टबिन्स, सड़कों पर भी लगे ढेर
—पहले दो वार्डों का कचरा यहां आता था, अब संख्या बढ़कर 15 जा पहुंची

जयपुर. एक ओर स्थानीय लोग लगातार विरोध कर रहे हैं और दूसरी ओर नगर निगम कचरा ट्रांसफर स्टेशन को हटाने की बात कह चुका है। इसी बीच बीवीजी कम्पनी ने शहर के 15 वार्डों के करीब सवा लाख घरों से कचरा उठाना बंद कर दिया है। विरोध के दिन बढऩे के साथ ही इसका असर भी दिखना शुरू हो गया है। अब स्थिति यह है कि जिन वार्डों से कचरा नहीं उठ रहा है, वहां की सड़कों पर कचरा पसरा है। लगातार बारिश ने क्षेत्रीय लोगों की मुसीबतें और बढ़ा दी हैं। स्थिति यह हो गई है कि अब लोग घर के बाहर खुद ही कचरा डालने की लिए मजबूर हो रहे हैं। विरोध कर रहे लोगों का कहना है कि जब यहां पर ट्रांसफर स्टेशन की शुरुआत की गई थी, उस समय महज वार्ड नौ और दस का कचरा आता था। अब यहां पर 15 वार्डों का कचरा आना शुरू हो गया। स्थानीय लोगों का कहना है कि जब तक कचरा डिपो को नहीं हटाया जाएग, तब तक धरना जारी रहेगा।

सड़कों पर आ गया हजारों टन कचरा
घर-घर कचरा संग्रहण करने वाली बीवीजी कम्पनी के अनुसार 16 से 18 टन कचरा प्रति दिन प्रति वार्ड से निकलता है। ऐसे में इन 15 वार्डों से प्रतिदिन 270 टन कचरा रोज निकलता है। ट्रांसफर स्टेशन के मुख्य गेट पर हो रहे प्रदर्शन की वजह से गाडिय़ों की आवाजाही बंद है। ऐसे में इन वार्डों में दो हजार टन से अधिक कचरा नहीं उठ पाया है। इस वजह से कचरा सड़कों पर दिखाई देने लगा है।

हर जगह दिखे कचरे के ढेर
राजस्थान पत्रिका ने जमीनी पड़ताल की तो कई घरों के बाहर कचरे से भरे डस्टबिन्स दिखे। साथ ही विद्याधर नगर के वार्ड नौ और दस में था। यहां के सेक्टर-2, छह और नौ में बुरा हाल है। ट्रांसफर डिपो शुरू होने के बाद से इसके आस-पास रहने वाले 15000 से 20000 लोग परेशान हैं। इसी परेशानी को देखते हुए लोगों ने धरना शुरू किया है।

 

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned