राजस्थान में कौन सी पार्टी की एमएलए हो गई कांग्रेस में शामिल, जानिए दिलचस्प है मामला

Pawan kumar

Publish: May, 18 2018 12:18:54 PM (IST)

Jaipur, Rajasthan, India
राजस्थान में कौन सी पार्टी की एमएलए हो गई कांग्रेस में शामिल, जानिए दिलचस्प है मामला

— जमींदारा पार्टी विधायक सोना देवी ने थामा कांग्रेस का हाथ
— कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष की मौजूदगी में बिना शर्त कांग्रेस में हुई शामिल

जयपुर। राजस्थान की राजनीति में आज एक बड़ा घटनाक्रम हुआ। जमींदारा पार्टी की विधायक सोना देवी बावरी ने आज कांग्रेस का हाथ थाम लिया। प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में प्रदेशाध्यक्ष सचिन पायलट की मौजूदगी में सोना देवी कांग्रेस में शामिल हो गईं। श्रीगंगानर के रायसिंह नगर विधानसभा क्षेत्र की विधायक सोना देवी ने बताया कि वे बिना शर्त कांग्रेस में शामिल हुई हैं। सोना देवी के कांग्रेस का हाथ थामने के साथ ही जमींदारा पार्टी के विधायकों की संख्या घटकर महज एक रह गई हैं।
गौरतलब है कि 2013 के विधानसभा चुनाव में जमींदारा पार्टी के 2 विधायक चुने गए थे। श्रीगंगानगर से कामिनी जिंदल और रायसिंह नगर से सोना देवी बावरी। इनमें से एक विधायक सोना देवी कांग्रेस में शामिल हो गई हैं। अब जमींदारा पार्टी की सिर्फ एक विधायक कामिनी जिंदल ही रह गई है। हाल ही हुए राज्यसभा चुनाव में जमींदारा पार्टी के विधायकों ने भाजपा का समर्थन किया था। इसके बाद से ही ये कयास लगाए जा रहे थे कि जमींदारा पार्टी का 2018 के आखिर में होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले भाजपा में विलय हो सकता है। लेकिन विधायक सोना देवी के कांग्रेस में शामिल होने से भाजपा को झटका लगा है। जमींदारा पार्टी का विधायक

ग्वार की राजनीति से बनी थी जमींदारा पार्टी
आपको बता दें कि 2011—12 में कृषि जिंस ग्वार के भाव अचानक से बढ़ गए थे। 3,500 रूपए प्रति क्विंटल बिकने वाला ग्वार 30,000 रूपए प्रति क्विंटल तक बिकने लगा था। उस दौर में ग्वार गम के व्यापारी बीडी अग्रवाल ने किसानों से ग्वार नहीं बेचने की अपील की। साथ ही ग्वार की खेती के लिए किसानों को मुफ्त में ग्वार का बीज भी बांटा था। बीडी अग्रवाल ने ग्वार के भाव बढ़ने की बात कही थी। ग्वार को लेकर बीडी अग्रवाल किसानों के बीच लोकप्रिय हो गए। इसके बाद 2013 के विधानसभा चुनाव से पहले जमींदारा पार्टी का गठन कर चुनाव लड़ा। ग्वार की खेती वाले इलाकों रायसिंह नगर और श्रीगंगानगर में जमींदारा पार्टी के विधायक चुनाव जीत गए।

अब जमींदारा पार्टी के अस्तित्व पर संकट
विधायक सोना देवी के कांग्रेस में शामिल होने से जमींदारा पार्टी की एक विधायक ही बाकी बची हैं। संभावना ये हैं कि विधायक कामिनी जिंदल के भाजपा के प्रति झुकाव को देखते हुए विधानसभा चुनाव से पहले भाजपा में शामिल हो सकती हैं। ऐसे में 2018 के विधानसभा चुनाव तक जमींदारा पार्टी अस्तित्व में रहेगी या नहीं, ये कहना मुश्किल है। यदि ऐसा हुआ तो जमींदारा पार्टी राजस्थान की राजनीतिक इतिहास की ऐसी पार्टी बन जाएगी, जिसने पहले ही चुनाव में 2 सीटें जीत लीं और फिर अगले चुनाव से पहले खत्म भी हो गई।

भाजपा ने लोकतंत्र का गला घोंटा
कर्नाटक में सरकार बनाने को लेकर सियासी घमासान जारी है। इसी बीच कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष सचिन पायलट ने आज भाजपा पर लोकतंत्र का गला घोंटने का आरोप लगाया। पायलट ने कहा कि कर्नाटक के राज्यपाल ने बिना बहुमत के भाजपा को सरकार बनाने का न्योता दे दिया। जबकि कांग्रेस—जेडीए गठबंधन के पास पूर्ण बहुमत है। कांग्रेस प्रदेश के सभी जिला मुख्यालयों पर प्रदर्शन कर कर्नाटक में लोकतंत्र की हत्या का विरोध जताएगी।

 

डाउनलोड करें पत्रिका मोबाइल Android App: https://goo.gl/jVBuzO | iOS App : https://goo.gl/Fh6jyB

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned