सरकार क्यों लाई SPG संशोधन बिल

केन्द्रीय गृहमंत्री अमित शाह Union Home Minister Amit Shah ने बुधवार को लोकसभा Lok Sabhaमें SPG संशोधन बिल पेश किया जिसे बहुमत से पारित कर दिया गया। इसके पारित होने के बाद अब सिर्फ मौजूदा प्रधानमंत्री को ये सुरक्षा मिलेगी। उनके अलावा खतरे को देखते हुए पूर्व प्रधानमंत्री व उनके परिवार को पांच साल तक ये सुविधा मिलेगी।

By: Prakash Kumawat

Published: 27 Nov 2019, 08:07 PM IST

जयपुर
केन्द्रीय गृहमंत्री अमित शाह Union Home Minister Amit Shah ने बुधवार को लोकसभा Lok Sabhaमें SPG संशोधन बिल पेश किया जिसे बहुमत से पारित कर दिया गया। इसके पारित होने के बाद अब सिर्फ मौजूदा प्रधानमंत्री को ये सुरक्षा मिलेगी। उनके अलावा खतरे को देखते हुए पूर्व प्रधानमंत्री व उनके परिवार को पांच साल तक ये सुविधा मिलेगी।
बता दें कि केंद्र सरकार की ओर से SPG नियमों में कुछ बदलाव किए गए हैं, जिसके कारण गांधी परिवार से SPG सुरक्षा वापस ले ली गई है. इस मसले पर कांग्रेस की ओर से जबरदस्त हंगामा भी किया गया था. सोनिया गांधी, राहुल गांधी, प्रियंका गांधी को अभी तक SPG सुरक्षा मिलती थी लेकिन अब इनकी सुरक्षा CRPF के हाथ में चली गई है। आज लोकसभा में इस संशोधन बिल पर गृहमंत्री अमित शाह के जवाब पर कांग्रेस के सांसदों वाक आउट किया।
गृहमंत्री अमित शाह ने लोकसभा मे कहा कि इसमें पहले भी संशोधन हुए है। अब संशोधन होने के बाद जो एक्ट बनेगा, उसके बाद प्रधानमंत्री और उनके परिवार के सदस्यों के लिए जो प्रधानमंत्री आवास पर रहते हैं तथा पूर्व प्रधानमंत्री और उनके परिवार को पांच साल की अवधि के लिए SPG प्रोटेक्शन मिलेगा।
संविधान के अनुसार हेड ऑफ गवर्नमेंट प्रधानमंत्री ही हैं, उनके कार्यालय को सुरक्षित करने के लिए SPG बनी है। देश में दो पूर्व प्रधानमंत्री की हत्या हुई उसके बाद यह कानून बनाया गया। एसपीजी सुरक्षा कवच सिर्फ प्रधानमंत्री और उनके साथ रहने वाले परिवार से सदस्यों के लिए सीमित करने के लिए एसपीजी संशोधन विधेयक लाया गया है। पहले यह ग्रुप सिर्फ पीएम के लिए था, बाद में इस संशोधन कर बदलाव किए गए थे। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री कई कठोर फैसले लेते हैं, जो देश और अंतरराष्ट्रीय तौर पर महत्वपूर्ण रहते हैं. उनको सुरक्षित करने के लिए इसकी जरूरत है।
शाह के अनुसार इंदिरा गांधी की हत्या के बाद जो कमेटी बनी उसने इस तरह के ग्रुप की मांग की थी। इसमें सिर्फ किसी व्यक्ति की सुरक्षा की बात नहीं है, बल्कि उनके पद, कार्यालय समेत अन्य सभी बातों को भी ये ग्रुप सुरक्षा देता है।
इस बिल पर चर्चा के दौरान लोकसभा में कांग्रेस सांसद मनीष तिवारी ने कहा कि इतिहास इस बात का गवाह है कि जब-जब ऐसे नकारात्मक कदम उठाए गए हैं बहुत बड़ा खामियाजा इस देश को भुगतना पड़ा है। सरकार इंगित करती है कि कुछ लोग ऐसे हैं जिनको सरकार की तरफ से सुरक्षा देने की जरूरत है। थ्रेट असेसटमेंट के हिसाब से विभिन्न श्रेणियों में सुरक्षा प्रदान की जाती हैं, ये जो थ्रेट असेसमेंट है क्या यह परफेक्ट साइंस है।
अभी तक पीएम मोदी अलावा, SPG पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, उनकी पत्नी गुरशरण कौर, अटल बिहारी वाजपेयी की दत्तक बेटी नमिता भट्टाचार्य, कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, राहुल और प्रियंका गांधी की सुरक्षा करती है। इसके जवान पीएम को 24 घंटे एक विशेष सुरक्षा घेरा प्रदान करते हैं। पूरे देश में तथा विदेशी दौरों पर, हर स्थान पर, हर क्षण, प्रधानमंत्री की अंगरक्षा एवं किसी भी प्रकार के हमले से उनकी सुरक्षा की जिम्मेदारी SPG की होती है। प्रधानमंत्री आवास, प्रधानमंत्री कार्यालय तथा हर वह स्थान जहाँ प्रधानमंत्री रहते हैं, एपीजी उनकी सुरक्षा करती है।

Show More
Prakash Kumawat
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned