महिला गैंग बना रही महिलाओं को ​निशाना, चार दिन में तीन वारदातों को दिया अंजाम

महिला गैंग बना रही महिलाओं को ​निशाना, चार दिन में तीन वारदातों को दिया अंजाम

Deepshikha | Publish: Apr, 17 2019 04:49:47 PM (IST) | Updated: Apr, 17 2019 04:49:48 PM (IST) Jaipur, Jaipur, Rajasthan, India

ई-रिक्शा में बैठी महिला के गले से तोड़ ले गई चेन

जयपुर. इन दिनों शहर में महिला ठग गैंग सक्रिय है जो महिलाओं को ही निशाना बना चैन स्नेचिंग, लूट, पर्स चोरी और मोबाइल चोरी की वारदात को अंजाम देती हैं। महिला गैंग ने चार दिन पहले झोटवाड़ा में चेन स्नेचिंग और मोबाइल चोरी की वारदात की थी। मंगलवार को लुटेरी महिला ने वैशाली नगर में बैंक कर्मी की की पत्नी गर्दन की नस दबा बेहोश कर घर की अलमारियां खंगाल गई।अब विद्याधर नगर थाना इलाके में घर जाने के लिए ई-रिक्शा में बैठी युवती के गले से सोने की चेन काटकर ले गई।


पुलिस ने बताया कि मैजर शैतान सिंह कॉलोनी निवासी संगीता ने रिपोर्ट दर्ज करवाई है कि वह किसी काम से बाजार गई थीं। अल्का टाकिज से घर जाने के लिए ई-रिक्शा में बैठी। रिक्शे में बैठने के तुरंत बाद चार महिलाएं और दस साल की लड़की भी उसमें बैठ गई। मना करने के बावजूद भी चालक ने जबरदस्ती पीड़ि़ता के दायीं तरफ बिठा लिया। दोपहर एक बजे विद्याधर नगर स्थित मंदिर मोड़ पर चारों महिलाएं और लड़की उतर गईं। घर जाने के बाद जब गले पर हाथ लगाया तो चेन नहीं मिली।

 

गर्दन की नस दबा महिला को किया बेहोश , दिया वारदात को अंजाम
वैशालीनगर में मंगलवार शाम लूट की अलग ही तरह की वारदात सामने आई। वहां बैंककर्मी के घर का दरवाजा खटखटाया गया। बैंककर्मी की पत्नी ने जैसे ही दरवाजा खोला, स्कार्फ बांधकर आई एक महिला ने धक्का मारकर अंदर धकेल दिया। गर्दन की नस दबाकर बेहोश कर दिया। हाथ बांधे, मुंह में कपड़ा ठूंसकर अलमारियां खंगाल गई। पुलिस जांच कर रही है कि लुटेरी महिला अकेली थी या गिरोह था। शाम को पीडि़ता का पुत्र घर लौटा तब वारदात का पता चला।
पुलिस ने बताया कि संसारचन्द्र रोड स्थित सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया में कार्यरत नरेश चौधरी का वैशालीनगर के सी ब्लॉक में घर है। दोपहर 2.30 बजे उनकी पत्नी मंजू घर पर अकेली थी। तभी किसी ने दरवाजा खटखटाया। मंजू ने दरवाजा खोला तो सलवार-कुर्ता पहने और मुंह पर स्कार्फ बांधे एक महिला खड़ी थी। उसने मंजू को अंदर धकेलकर गर्दन के पास नस दबा दी। इससे मंजू बेहोश हो गईं। इसके बाद क्या हुआ, मंजू को कुछ नहीं पता। शाम 4.50 बजे मंजू का बेटा अक्षय घर आया तो मां को बंधे हुए देखा।

पीडि़त परिवार को समझा रहे हैं कि मुकदमा दर्ज कराएं। गिरोह को तलाश रहे हैं। पीड़ि़त परिवार का कहना है कि महिला घर से कोई सामान नहीं ले गई।
विकास शर्मा, डीसीपी पश्चिम, जयपुर कमिश्नरेट

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned