अस्पतालों में आई खून की कमी तो आगे आई शहर की महिलाएं और युवा, किया रक्तदान

लॉकडाउन के चलते इन दिनों प्रदेश के अस्पतालों में ब्लड की काफी कमी आ गई हैं। इस कमी को दूर करने के लिए युवाओं की एक टीम ने रक्तदान शिविर लगाकर इस कमी को पूरा करने का प्रयास किया...

By: dinesh

Published: 01 Apr 2020, 09:03 AM IST

जयपुर। प्रदेश के अस्पतालों में आई खून की कमी को पूरा करने के लिए शहर के युवाओं के साथ महिलाएं भी आगे आई। लॉकडाउन के चलते इन दिनों प्रदेश के अस्पतालों में ब्लड की काफी कमी आ गई हैं। इस कमी को दूर करने के लिए युवाओं की एक टीम ने रक्तदान शिविर लगाकर इस कमी को पूरा करने का प्रयास किया।

जयपुर के मुरलीपुरा में पांच नंबर रोड पर एसएमएस अस्पताल की सहायता यह कैंप लगाया गया। कैंप का आयोजन देवेंद्र निठारवाल की टीम की ओर से किया गया जिसमें 50 से अधिक युवा रक्तदान करने के लिए पहुंचे। इस दौरान विशेष तौर पर धारा 144 का ध्यान रखा गया और कोरोनावायरस संक्रमण के बचने के सभी उपाय किए गए। रक्त देने आए रक्तदाताओं ने सोशल डिस्टेंस बनाकर रखा गया। रक्त देने आए सभी युवाओं ने दूर दूर बैठकर अपनी बारी का इंतजार किया गया। रक्तदाताओं को रक्तदान के लिए बस में प्रवेश देने से पहले सभी को सैनिटाइजर किया गया और उनकी मेडिकल जांच कर रक्त लिया गया। इस दौरान कुल 42 यूनिट रक्त एकत्रित किया गया।

गौरतलब है कि इन युवाओं की टीम अब तक जरूरतमन्दों को भोजन सप्लाई में लगी थी।प्रतिदिन यह युवा शहर के जरुरतमंदों और ड्यूटी पर तैनात पुलिसकर्मियों और अन्य स्टाफ की सेवा में जुटे हैं। इन्हें जैसे ही अस्पतालों में आई रक्त की कमी का पता लगा तो इस कमी को भी दूर करने का संकल्प लिया। युवाओं की टीम ने बताया कि अब अन्य जगह भी अनु मति लेकर रक्तदान शिविर लगाया जाएगा। हमारा संकल्प है कि भूख और रक्त की कमी से कोई भी परेशान नहीं हो।

महिलाओं ने भी किया रक्तदान
इस कैंप में महिलाओं ने भी रक्तदान कर मिसाल पेश की। 42 यूनिट में से 8 यूनिट रक्त तो महिलाओं ने दिया। रक्तदान करने वाली महिला मनीषा, सुशीला सुनीता और मंजू ने बताया कि इस संकट की घड़ी में महिला शक्ति भी साथ खड़ी हैं। जो हमेशा किसी भी तरह की परेशानी को दूर करने के लिए कंधे से कंधा मिलाकर साथ देने का तैयार हैं। एसएमएस से आई मेडिकल टीम ने बतााया कि इस कैंप में कुछ लोग रक्तदान करने से रह गए है जिनका डाटा ले लिया गया है अब अस्पताल में जरुरत होने पर वंचित रह गए लोगों को कॉल कर बुलाकर उनका रक्त लिया जाएगा।

इसलिए आई खून की कमी
कोरोना वायरस संक्रमण की वजह से भीड़ एकत्रित करने पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। ऐसे में लोगों को एकत्रित कर सामूहिक रक्त दान शिविर आयोजित करना संभव नहीं हो पा रहा है जिसके चलते अस्पतालों से लेकर ब्लड बैंक तक में खून की कमी होने लगी है। ऐसे हालात में अब रोगी और उसके परिवार को खून के लिए परेशान होना पड़ रहा है। थैलेसीमिया के मरीजों को नियमित रूप से रक्त देना पड़ता है। कैंसर, हीमोफिलिया, जलने या बड़े हादसों में जख्मी होने वाले लोगों को हमेशा की खून की आवश्यकता होती है। इसके अलावे गर्भवती महिलाओं व जिनका बड़ा आपरेशन होता है उनके लिए हमेशा खून जरुरी होता है। लेकिन कोरोना महामारी से खून का संकट आ गया है। जमावड़े पर प्रतिबंध से क्लब और एनजीओ ने भी रक्त दान शिविर आयोजित करने से बच रहे हैं। यही नहीं पहले से तय रक्त दान शिविर को रद्द करना पड़ा है।

Show More
dinesh Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned