दिन भर काम, भरपेट भोजन भी नहीं मिलता

जयपुर. सुबह से लेकर रात तक कमरे में बंद कर काम कराया जाता है। (Work all day, do not get enough food) खाना भी भरपेट नहीं दिया जाता है

By: vinod sharma

Published: 01 Jul 2020, 10:54 AM IST

जयपुर. सुबह से लेकर रात तक कमरे में बंद कर काम कराया जाता है। (Work all day, do not get enough food) खाना भी भरपेट नहीं दिया जाता है। यह स्थिति पुलिस व श्रम विभाग की ओऱ से मुक्त कराए गए बाल श्रमिकों की। बाल श्रमिकों ने श्रम विभाग को यह हकीकत भी सुनाई। पुलिस को मुखबीर से सूचना मिली कि कालवाड़ा थाने की अंसल सुंशात सिटी के फ्लैट में एक परिवार ने बालक को बंधक बनाया हुआ है। जिस पर पुलिस श्रम विभाग के निरीक्षक को साथ में लेकर मौके पर पहुंची। घर में बालक झाड़ू लगाता हुआ मिला। पुलिस को देखकर बालक रोने लगा। उसने बताया कि मकान मालकिन दिन भर घर का काम कराती है। भोजन भी ठीक प्रकार से नहीं कराया जाता तथा घर वालों से मिलने भी नहीं दिया जाता है। रात के समय भी सुस्ताने पर मकान मालकिन मारपीट करती है। पुलिस को मुक्त करराके थाने ले। मकान मालकिन अंजली के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है। इसी प्रकार भट्टा बस्ती के चूड़ी कारखाने से भी बाल श्रमिक को मुक्त कराया गया। पुलिस ने बताया कि बाल श्रमिकों से चूड़ी कारखाने में दिन-रात काम कराया जाता है, उन्हें खाना समय पर नहीं दिया जाता है। इसके अलावा मजदूरी का भुगतान भी लम्बे समय से नहीं किया है। पुलिस के उपनिरीक्षक सुमेर सिंह ने चूड़ी कारखाने मालिक अरमान के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया है।


बिहार के बाल श्रमिक फंसे
लॉक डाउन के बाद बिहार तथा उत्तरप्रदेश के बाल श्रमिक जयपुर में फंसे हुए है। जिनसे सर्वाधिक संख्या में चूड़ी कारखाने में काम लिया जाता है। आए दिन पुलिस व श्रम विभाग की टीम बाल श्रमिकों को मुक्त भी करा रही है। इसके बाद भी फैक्ट्री के मालिक श्रम विभाग के नियमों की पालना नहीं कर रहे हैं।

vinod sharma
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned