सिर्फ एक कमरे के बराबर जगह और बन गया द्वीप 'जस्ट रूम इनफ आइलैंड'

जस्ट रूम इनफ आइलैंड, एक उपयुक्त नाम का निजी स्वामित्व वाला द्वीप है जिसका शाब्दिक रूप से अर्थ है कि एक घर के बराबर द्वीप। अपने मालिकों के लिए पर्याप्त जगह, पेड़ और बेंच कुर्सियों की एक जोड़ी के साथ एक छोटा समुद्र तट।

अमरीका और कनाडा के बीच की सीमा पर स्थित हजारों द्वीपों के द्वीपसमूह का हिस्से, जस्ट रूम इनफ आइलैंड के पास लगभग 3,300 वर्ग फीट का क्षेत्र हैं, जो इसे दुनिया का सबसे छोटा आबाद द्वीप बनाता है। इसे 1950 के दशक में सिजलैंड फैमिली की ओर से एक आरामदायक जगह के लिहाज से खरीदा गया था, लेकिन उन्होंने सोचा नहीं था कि यह जगह एक दिन अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मान्यता प्राप्त आकर्षण बन जाएगी।

दिलचस्प है कि भले ही सिजलैंड परिवार अपने छुट्टी के घर के लिए इतना प्रसिद्ध होने का इरादा नहीं करता था, प्रसिद्धि के लिए इसके उदय में फिर भी उनकी भूमिका थी। द्वीप के रूप में मान्यता प्राप्त होने के लिए कुछ आवश्यकताएं चाहिए होती है। एक वर्ग फुट से बड़ा क्षेत्र है, पानी से ऊपर है और कम से कम एक पेड़। वहां कोई पेड़ नहीं था और सिजलैंड फैमिली ने वहां एक पेड़ लगा दिया। इस तरह जाने—अनजाने में यह द्वीप बन गया।

अपने छोटे से घर - जिसे बाद में हब आइलैंड नाम दिया गया, को आधिकारिक द्वीप का दर्जा मिलने के बाद गिनीज रिकॉर्ड्स की उम्मीद भी सिजलैंड फैमिली को नहीं थी। ऐसा होने से पहले, दुनिया के सबसे छोटे द्वीप का खिताब बिशप रॉक के पास था जो कि आइल ऑफ स्किली से दूर स्थित है। वहीं हब द्वीप का आकार लगभग आधा था, इसलिए इसे खिताब मिला। सिजलैंड फैमिली ने इसका नाम बदलकर जस्ट रूम इनफ आइलैंड रख दिया और बाकी इतिहास है।

Amit Purohit Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned