scriptYou will be responsible if a crime is committed by mobile | सलाखों की पीछे पहुंचा देगा दो-चार सौ का लालच | Patrika News

सलाखों की पीछे पहुंचा देगा दो-चार सौ का लालच

गली-मोहल्लों में फेरी वाले पुराने मोबाइल खरीदकर अपराध को दे रहे बढ़ावा, मोबाइल से अपराध हुआ तो जिम्मेदार होंगे आप

जयपुर

Published: November 19, 2021 10:05:16 pm

मोहित शर्मा
जयपुर.अगर आपके पास कोई पुराना मोबाइल है और आप उसे किसी अनजान व्यक्ति को बेचने की सोच रहे हैं तो ऐसी गलती बिल्कुल न करें। उस मोबाइल से यदि कोई भी अपराध होता है तो उसके जिम्मेदार सिर्फ आप होंगे।
साइबर आरोपियों का गैंग देशभर में सक्रिय है और गली मोहल्लों में पुराने मोबाइल फोन के बदले बर्तन, ड्राई फ्रूट जीरा या अन्य चीजे दे रहे हैं, लेकिन मोबाइल बेचने की न कोई लिखा पढ़ी की जा रही है और ना ही आपको बिल दिया जा रहा है। आपका मोबाइल किसे बेचा जाएगा इसकी जानकारी भी किसी के पास नहीं है।
साइबर अपराधी पुराने मोबाइल फोन को ठीक कर ऑनलाइन ठगी आदि के काम ले रहे हैं। जांच के बाद पुलिस उसे पकड़ती है जिसके नाम पर मोबाइल शोरूम से खरीदा गया है। या फिर जिसके नाम से मोबाइल का इंटरनेशनल मोबाइल स्टेशन इक्यूपमेंट आईडेंटीटी (आईएमईआई ) नंबर है। इस प्रकार फेरी वालों को बेचा गया 200 से 500 रुपए का मोबाइल आपको सलाखों के पीछे पहुंचा सकता है।
सलाखों की पीछे पहुंचा देगा दो-चार सौ का लालच
सलाखों की पीछे पहुंचा देगा दो-चार सौ का लालच
दूसरे राज्यों से आतेे हैं फेरी वाले
साइबर अपराधियों से जुड़े 90 फीसदी फेरी वाले दूसरे राज्यों से आते हैं। ये पुराने मोबाइल खरीदकर उन्हें सही कर फिर से एक्टिवेट कर साइबर ठगी में इस्तेमाल करते हैं। अपराध के बाद पुलिस सबसे पहले पहले उसे पकड़ती है जिसके नाम से मोबाइल खरीदा गया होता है। आईएमईआई नंबर से सब कुछ पता चल जाता है।
पुलिस ने पकड़े
पिछले दिनों जयपुर में तत्कालीन डीसीपी अमृता दुहान की टीम ने चोरी के मोबाइल रखने वाले पकड़े। महेश नगर थाना क्षेत्र से सन्नी और मालपुरा गेट थाना क्षेत्र से नवरतन बावरिया को पकड़ा गया। सन्नी के पास 9 और नवरतन के पास 8 मोबाइल बरामद किए। पूछताछ में दोनों बोले उन्हें यह मोबाइल कबाड़ में मिले थे।
मोबाइल बेचें तो पहचान पत्र जरूर लें
फेरी वाले को अपना मोबाइल बेचने से पहले उसका पहचान पत्र, आधार य वोटर कार्ड जरूर ले लें। इससे आप काफी हद तक सुरक्षित रह सकते हैं। दस्तावेज नहीं होने पर पुलिस मोबाइल मालिक के खिलाफ कानूनी कार्रवाई कर सकती है।
मेघचंद मीना, एसीपी कोतवाली

सेल एग्रीमेंट होना आवश्यक
मोबाइल फोन में आईएमईआई नंबर अहम होता है। इसी के ही आधार पर क्राइम होने की स्थिति में पुलिस अपराधी की लोकेशन को ट्रेस करती है। मोबाइल को बेचने की स्थिति में उसका सेल एग्रीमेंट होना जरूरी है। क्योंकि फर्जी आईडी से सिम एक्टिवेट कर अपराधी अपराध को अंजाम दे सकते हैं।
आयुष भारद्वाज, साइबर स्क्यिोरिटी एक्सपर्ट

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

हार्दिक पांड्या ने चुनी ऑलटाइम IPL XI, रोहित शर्मा की जगह इसे बनाया कप्तानVIDEO: राजस्थान में 24 घंटे के भीतर बारिश का दौर शुरू, शनिवार को 16 जिलों में बारिश, 5 में ओलावृष्टिName Astrology: अपने लव पार्टनर के लिए बेहद लकी मानी जाती हैंधन-संपत्ति के मामले में बेहद लकी माने जाते हैं इन बर्थ डेट वाले लोग, देखें क्या आप भी हैं इनमें शामिलइन 4 राशि की लड़कियों के सबसे ज्यादा दीवाने माने जाते हैं लड़के, पति के दिल पर करती हैं राजप्रदेश में कल से छाएगा घना कोहरा और शीतलहर-जारी हुआ येलो अलर्टEye Donation- बेटी को जन्म दे, चल बसी मां, लेकिन जाते-जाते दो नेत्रहीनों को दे गई रोशनीयदि ये रत्न कर जाए सूट तो 30 दिनों के अंदर दिखा देता है अपना कमाल, इन राशियों के लिए सबसे शुभ

बड़ी खबरें

विश्व के सबसे लोकप्रिय नेता बने PM Modi, ग्लोबल सर्वे में बाइडेन और ट्रूडो जैसे दिग्गजों को पछाड़ाCorona Update: कोरोना ने बनाया नया रिकॉर्ड, 24 घंटे में 3 लाख 47 हजार नए केस, 2.51 लाख रिकवरदिल्ली में घटते कोरोना मामलों के बीच वीकेंड कर्फ्यू हटाने का फैसला, CM अरविन्द केजरीवाल ने उपराज्यपाल को भेजा पत्र50 साल से जल रही ‘अमर जवान ज्योति’ आज से इंडिया गेट पर नहीं, राष्ट्रीय युद्ध स्मारक पर जलेगीT20 World Cup: टीम इंडिया का पूरा शेड्यूल, जानें कब और किस टीम से होगा मुकाबलाUP Election 2022: राहलु और प्रियंका ने जारी किया कांग्रेस का घोषणा पत्र, युवाओं पर फोकसइंडिया गेट पर लगेगी नेता जी की मूर्ति, पीएम मोदी ने ट्वीट की तस्वीरUP Election 2022: पूर्वांचल में कितना और क्या गुल खिलाएगा अखिलेश का ब्राह्मण कार्ड
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.