जयपुर में यूट्यूब के सितारे, होटल क्लार्क्स आमेर में यूट्यूबर्स कॉन्क्लेव ‘थिंक वीआइडी’ शुरू

यूट्यूब आज दुनिया में सबसे बड़ा वीडियो प्लेटफॉर्म और गूगल के बाद दूसरा सबसे बड़ा सर्च इंजन है। इसलिए इस प्लेटफॉर्म पर देश-विदेश के लाखों लोग और बिजनेस सफलता का मंत्र ढूंढते रहते हैं, लेकिन उचित मार्गदर्शन के अभाव में सफलता प्राप्त नहीं हो पाती...

By: dinesh

Updated: 07 Mar 2020, 05:03 PM IST

जयपुर। यूट्यूब आज दुनिया में सबसे बड़ा वीडियो प्लेटफॉर्म और गूगल के बाद दूसरा सबसे बड़ा सर्च इंजन है। इसलिए इस प्लेटफॉर्म पर देश-विदेश के लाखों लोग और बिजनेस सफलता का मंत्र ढूंढते रहते हैं, लेकिन उचित मार्गदर्शन के अभाव में सफलता प्राप्त नहीं हो पाती। इसी को ध्यान में रखते हुए जयपुर में ‘आइस्टार्ट थिंकवीआइडी’ का आयोजन किया जा रहा है। इस इवेंट का को-प्रजेंटर राजस्थान पत्रिका है। होटल क्लार्क्स आमेर में आज आयोजित होने वाले इस यूट्यूबर्स कॉन्क्लेव में पूरे देशभर से जाने-माने 20 यूट्यूबर्स रूबरू होंगे। इन स्पीकर्स की ऑनलाइन फॉलोइंग 20 मिलियन से भी ज्यादा है। इसमें फिटनेस इन्फ्लूएंजर जीत सलाल, सुपर स्टाइल टिप्स की कोमल गुड्न, टीवीएफ के बद्री चावन और सिविल बिइंग्स से सागर डोड़ेजा शामिल है।

यूट्यूब पर आने वाले कमेंट मुझे इंस्पायर करते हैं : बद्री चावन
जयपुर इंजीनियरिंग के बाद मैंने अपनी पसंद का काम शुरू किया, पैरेंट्स चाहते थे कि मैं आइएएस बनूं, लेकिन मैंने अपनी दिल की सुनते हुए कॉमेडी और एक्टिंग की राह चुनी। आज पैरेंट्स को भी मेरे वीडियो और उन पर आने वाले कमेंट्स खुशी देते है, यही कमेंट्स मुझे मोटिवेट करते है। यह कहना है, एक्टर और यूट्यूबर बद्री चव्हाण का। यूट्यूब कॉन्क्लेव में हिस्सा लेने आए बद्री शुक्रवार को झालाना स्थित राजस्थान पत्रिका ऑफिस पहुंचे। इस दौरान उन्होंने पत्रिका प्लस के साथ अपने अनुभवों को शेयर किया। उन्होंने कहा कि यूट्यूब पर कॅरियर की भरपूर संभावनाएं है, यदि शिद्दत और आत्मविश्वास के साथ वीडियो बनाए जाए तो एक न एक दिन पहचान जरूर मिलेगी।

काम दिखते रहना चाहिए
ब्रदी ने कहा कि कोई भी यूट्यूबर हो, उसे पहचान बनाने में समय लगता ही है। इतना ध्यान रखना जरूरी है कि हमेशा काम दिखते रहना चाहिए, यानी एक बार वीडियो डाला तो कई दिनों तक दूसरा कोई वीडियो नहीं डाला। महीने में चार वीडियो तो आने ही चाहिए। इसमें कंटेंट पर ध्यान देना जरूरी है, मैं भी अपने पहले वर्क में बतौर को-राइटर जुड़ा था।

ट्रोलर्स करते हैं पब्लिसिटी
उन्होंने कहा कि ऐसा नहीं है कि वीडियोज पर सिर्फ अच्छे कमेंट्स ही आते है, वहां ट्रोलर्स भी स्वागत करने के लिए तैयार रहते हैं। वैसे ट्रोलर्स के कमेंट भी मोटिवेट करते हैं, मैं उसे कजुअल ही रखता हूं। मेरा मानना है कि यह भी पब्लिसिटी का माध्यम है, ये लोग हमें पब्लिसिटी दिलाते हैं। ऐसे में मैं इसे फन की तरह लेता हूं, इसमें उलझता नहीं हूं। उन्होंने इंजी भाई कैरेक्टर पर बात करते हुए कहा कि मैं भी बचपन में क्रिकेट खेलते वक्त रनआउट ही होता था, ऐसे में मैंने इंजमाम भाई से खुद की तुलना करते हुए इस कैरेक्टर को तैयार किया है। जब वीडियो बनाया तो इंडिया और पाकिस्तान से हर तरह के रिएक्शन सामने आए।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned