अटके हुए कार्य को पूरा करवाने पर खर्च होंगे 16 करोड़

- लेटलतीफी का शिकार हुआ प्रोजेक्ट

By: Deepak Vyas

Published: 29 Jun 2020, 09:01 AM IST

जैसलमेर. जैसलमेर मुख्यालय पर डेडानसर मैदान में अटके हुए टाउन हॉल का निर्माण कार्य आगामी समय में फिर से शुरू हो सकेगा। राज्य सरकार की ओर से इसके लिए 16 करोड़ रुपए स्वीकृत किए गए हैं। स्वर्णनगरी के विकास और बाशिंदों की सुविधा के लिहाज से ड्रीम प्रोजेक्ट कहलाने वाले इस टाउन हॉल को भविष्य में इस लिहाज से तैयार किया जाएगा जिससे खर्च होने वाली करोड़ों की सरकारी राशि किश्तों में वसूल भी हो जाए और यह भव्य इमारत आत्मनिर्भर बन सके। माना जा रहा है कि ऐसा नहीं किए जाने पर इतनी बड़ी इमारत की नगरपरिषद के स्तर पर सार संभाल करना मुमकिन नहीं होगा और टाउन हॉल समय के थपेड़े सहन नहीं कर पाएगा।
आमदनी जुटाने की योजना
मुख्यमंत्री की ओर से जैसलमेर में टाउन हॉल के निर्माण को पूर्ण करवाने के लिए बजट घोषणा करने के बाद नगरपरिषद की तरफ से आगामी कार्यों के लिए विस्तृत परियोजना रिपोर्ट तैयार करवाई जा रही है। इसके तहत यहां 800 लोगों की बैठक क्षमता वाले हॉल निर्माण के साथ मैरिज हॉल, कैफेटेरिया जिसमें गार्डन रेस्टोरेंट होगा, भी तैयार करवाया जाएगा। इसे संचालन के लिए निजी क्षेत्र को सौंपा जाएगा। जिससे टाउन हॉल से वार्षिक आय होगी और निजी क्षेत्र के पास होने से इसकी सार-संभाल भी बेहतर ढंग से हो सकेगी। जानकारी के अनुसार 4400 वर्ग मीटर के क्षेत्रफल में बने टाउन हॉल में आर्ट गैलेरी भी तैयार करवाई जाएगी। जिसकी कमी अंतरराष्ट्रीय पर्यटन मानचित्र पर स्थान बना चुके जैसलमेर में लम्बे अर्से महसूस की जा रही है। ऐसे ही यहां एमपी थिएटर, लेंड स्केपिंग के साथ एक दर्जन आधुनिक सुविधाओं से सुसज्जित कमरे भी तैयार करवाए जाएंगे।
विवादों से रहा नाता
जैसलमेर में टाउन हॉल निर्माण का शुरुआत से विवादों से नाता रहा है। पूर्ववर्ती कांग्रेस सरकार के कार्यकाल में एसबीआई चौराहा के पास जहां वर्तमान में मंगलसिंह पार्क है, वहां इसका निर्माण करवाना प्रस्तावित था। तत्कालीन मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के हाथों शिलान्यास भी करवा दिया गया, लेकिन बाद में सोनार दुर्ग के निकट होने की वजह से पुरातत्व विभाग की ओर से इसके निर्माण पर आपत्ति जताए जाने के बाद नगरपरिषद ने आनन-फानन में डेडानसर मैदान में इसे शिफ्ट कर दिया और निर्माण कार्य शुरू करवा दिया गया। मनमाने ढंग से टाउन हॉल के कार्य को बढ़ाने के आरोप लगे और इसकी लागत 13.06 करोड़ की जगह 22 करोड़ से ज्यादा हो गई। विवाद बढऩे के बाद सरकार की ओर से काम रुकवा दिया गया और कई स्तर पर जांच करवाने का निर्णय लिया गया। पूर्व में करवाए कार्य का आंकलन करने के लिए निजी क्षेत्र के विशेषज्ञों की सेवा भी सरकार ने ली है। टाउन हॉल की मूल डिजाइन में मनमाने ढंग से बदलाव और नियम विरुद्ध निर्माण की जांच भी लम्बित है। बताया जाता है कि 10 करोड़ से ज्यादा का काम यहां हो चुका है और सरकार की ओर से 16 करोड़ स्वीकृत किए जाने से यह इमारत 26 करोड़ में बनकर तैयार होगी।
नए कलेवर में होगा काम
जैसलमेर नगरपरिषद की ओर से आगामी समय में टाउन हॉल में नई थीम के आधार पर काम शुरू करवाया जाएगा। जिससे करोड़ों के खर्च से बनने वाली इस सम्पत्ति से परिषद को नियमित आय संभव हो सके और व्यवसाय जगत इसमें भागीदारी निभाने के लिए आगे आए। अब तक यहां मूल ढांचा बनकर तैयार हो चुका है। जो भी कार्य होंगेए उसके भीतर ही होंगे। जमीन को लेकर यहां कोई समस्या नहीं आएगी क्योंकि डेडानसर मैदान से आगे जमीन भी नगरपरिषद की ही सम्पत्ति है।

फैक्ट फाइल -
- 2013 में शुरू हुआ कार्य
- 26 करोड़ की कुल आएगी लागत
- 4400 वर्गमीटर क्षेत्रफल में निर्माण

जल्द कार्य करवाना प्राथमिकता
जैसलमेर के बाशिंदों को टाउन हॉल की सौगात जितनी जल्द संभव हो, दिलाना हमारी प्राथमिकता है। यह कार्य अब बहुपयोगी करवाने पर हमने ध्यान केंद्रित किया है। इससे टाउन हॉल का आर्थिक भार भी नगरपरिषद पर नहीं पड़ेगा और आय भी अर्जित हो सकेगी।
- हरिवल्लभ कल्ला, सभापति, नगरपरिषद जैसलमेर

Deepak Vyas Bureau Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned