scriptBeautiful landscape view of fish Aquarium | यहां देखिए फिश एक्वेरियम में खूबसूरत लैंडस्केप का नजारा | Patrika News

यहां देखिए फिश एक्वेरियम में खूबसूरत लैंडस्केप का नजारा

शहर में नेचुरल प्लांटेड एक्वेरियम बनाने की शुरुआत करने वाले संजय सरकार ने बताया कि एक्वेरियम के अंदर पौधे उगाने की कला जापान से आई है।

इंदौर

Published: March 09, 2016 06:25:41 pm


इंदौर। ड्रॉइंग रूम में रखे फिश एक्वेरियम को आकर्षक बनाने के लिए आमतौर पर उसमें प्लास्टिक के पौधे डाल दिए जाते हैं लेकिन अब शहर में नेचुरल प्लांटेड एक्वेरियम बनाए जा रहे हैं यानी जिनमे प्लास्टिक के पौधे नहीं बल्कि असली पौधे लगाए जा रहे हैं। ये पौधे वॉटर प्लांट्स हैं जो जापान से इंपोर्ट किए जाते हैं और इनसे कांच के एक्वेरियम के अंदर जो खूबसूरत लैंडस्केप नजर आता है वो दरअसल एक्वास्केप है।

जापान से आया एक्वास्केप

शहर में नेचुरल प्लांटेड एक्वेरियम बनाने की शुरुआत करने वाले संजय सरकार ने बताया कि एक्वेरियम के अंदर पौधे उगाने की कला जापान से आई है। इसलिए इसके पौधे और अन्य सामान भी जापान से ही मंगवाया जाता है। साइज के मुताबिक इनकी कीमत 25 हजार रुपए से एक लाख रुपए तक होती है। ये नेचुरल प्लांटेड एक्वेरियम अपने आप में एक छोटा ईको सिस्टम डेवलप करते हैं, क्योंकि पौधों की ऑक्सीजन मछलियां लेती हैं और मछलियों की छोड़ी हुई कार्बन डाइऑक्साइड पौधे लेते हैं।

fish tank3

ज्वालामुखी की मिट्टी और रेत

नेचुरल प्लांटेड एक्वेरियम में पौधे लगाने के लिए जो मिट्टी यूज की जाती है उसे एक्वा सॉइल कहते हैं। ये मिट्टी दरदरी होती है और ज्वालामुखी के लावे में से निकली हुई होती है। जापान में कई सक्रिय और सुप्त ज्वालामुखी हैं इसलिए वहां ये आसानी से मिलती है। एक्वा सॉइल के नीचे बिछाई जाने वाली रेत और लैंडस्केपिंग के लिए जो पत्थर यूज किए जाते हैं वो भी ज्वालामुखी के ही होते हैं। संजय सरकार ने बताया कि एक्वा स्केप के दृश्य की कल्पना करने के बाद वो पौधे चुनते हैं। 

फोटोसिंथेसिस के लिए स्पेशल लाइट

आमतौर पर पौधों की पत्तियां सूरज की रोशनी में फोटोसिंथेसिस की प्रकिया के जरिये भोजन बनाती हैं। ड्रॉइंग रूम के एक्वेरियम के पौधों के लिए एक स्पेशल लाइट होती है जिसके जरिए फोटोसिंथेसिस की प्रोसेस पूरी होती है। इस लाइट के बिना ये पौधे जीवित नहीं रह सकते। जरूरत पडऩे पर इस एक्वेरियम में ऑक्सीजन के साथ साथ कार्बन डाइऑक्साइड भी देना पड़ती है क्योंकि पौधों को इसकी जरूरत पड़ती है।

fish tank2

स्कूबा डाइविंग जैसा फील

फिश एक्वेरियम को हॉबी के रूप में अपनाने वाले संजय बापट ने अपने घर में प्लांटेड एक्वेरियम बनाया है। छह महीने में उनका एक्वेरियम हरा भरा हो गया है। स्कूबा डाइविंग के शौकीन बापट का कहना है कि इस एक्वेरियम को देख कर एेसा फील होता है जिस तरह स्कूबा डाइविंग करते समय पानी के अंदर हरियाली देख कर होता है। वो अपने एक्वेरियम की काफी केयर करते हैं। पौधों को हेल्दी रखने और एल्गी से बचाने के लिए लिक्विड केमिकल आदि का भी इस्तेमाल करते हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather. राजस्थान में आज 18 जिलों में होगी बरसात, येलो अलर्ट जारीसंस्कारी बहू साबित होती हैं इन राशियों की लड़कियां, ससुराल वालों का तुरंत जीत लेती हैं दिलशुक्र ग्रह जल्द मिथुन राशि में करेगा प्रवेश, इन राशि वालों का चमकेगा करियरउदयपुर से निकले कन्हैया के हत्या आरोपी तो प्रशासन ने शहर को दी ये खुश खबरी... झूम उठी झीलों की नगरीजयपुर संभाग के तीन जिलों मे बंद रहेगा इंटरनेट, यहां हुआ शुरूज्योतिष: धन और करियर की हर समस्या को दूर कर सकते हैं रोटी के ये 4 आसान उपायछात्र बनकर कक्षा में बैठ गए कलक्टर, शिक्षक से कहा- अब आप मुझे कोई भी एक विषय पढ़ाइएUdaipur Murder: जयपुर में एक लाख से ज्यादा हिन्दू करेंगे प्रदर्शन, यह रहेगा जुलूस का रूट

बड़ी खबरें

Britain के पीएम बोरिस जॉनसन ने दिया इस्तीफा, जानें वो 'एक फैसला' जिससे गई कुर्सीMaharashtra Cabinet: कैबिनेट विस्तार पर बीजेपी और शिंदे गुट में ऐसे बनी सहमति, जानें किसके के खाते में कौन-कौन से विभागMaharashtra: सपा विधायक अबू आजमी को जान से मारने की धमकी देने के मामले में मुंबई पुलिस की बड़ी कार्रवाई, पुणे से दो आरोपी गिरफ्तारBhagwant Mann Marriage Live Updates: पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान को अरविंद केजरीवाल ने दी बधाईपीएम मोदी पहुंचे काशी, बिताएंगे चार घंटे, देंगे 1774 करोड़ की सौगात, सुरक्षा में लगे 10 हजार जवानED के एक्शन से घबराए Vivo निदेशक देश छोड़कर भागे, जांच से तिलमिलाया चीनMaharashtra Politics: उद्धव ठाकरे को फिर लगा तगड़ा झटका, अब ठाणे नगर निगम के 67 में से 66 पार्षद शिंदे खेमे में हुए शामिलदो समुदायों के झगड़े के बाद फैली अफवाह, करौली में एक घंटे रहा दहशत का माहौल
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.