scriptAnimals will get recognition parents will call this name | JAISALMER NEWS- पशुओं को मिलेगी पहचान, इस नाम से पुकारेंगे पालक | Patrika News

JAISALMER NEWS- पशुओं को मिलेगी पहचान, इस नाम से पुकारेंगे पालक

पशुओं को मिलेगी पहचान, लगाए टैग

जैसलमेर

Published: January 21, 2018 09:44:32 pm

पोकरण (जैसलमेर) . पशुओं की पहचान के लिए उनके कान पर टैग लगाए जा रहे हैं। जिससे यह पशु किस पशुपालक का है, इसकी समस्त जानकारी पशुपालन विभाग में मिल सकेगी। सरकार की इस योजना के अंतर्गत प्रथम चरण में दुधारू पशुओं को पहचान दिए जाने का कार्य शुरू किया गया है। गौरतलब है कि जैसलमेर जिला पशु बाहुल्य क्षेत्र है, यहां लोग ऊंट, गाय, भैंस, भेड़, बकरी, घोड़ा आदि पशुओं का पालन कर अपना जीवनयापन करते है। क्षेत्र में बारिश नहीं होने व अकाल की स्थिति में लोग अपने पशुओं को जंगल में आवारा छोड़ देते है। आवारा घूमते पशुओं के कारण कई बार दुर्घटनाएं होती है तथा ये पशु लोगों के खेतों में घुसकर खड़ी फसलों को भी बर्बाद करते है, लेकिन उनकी पहचान नहीं होने के कारण पशु मालिक की भी पहचान नहीं हो पाती है। योजना के अनुसार पशु के साथ पशुपालक की भी पूरी जानकारी विभाग के पास रहेगी।

Jaisalmer patrika
Patrika news
Jaisalmer patrika
IMAGE CREDIT: Patrika
12 डिजीट का होगा टैग
स्थानीय पशु चिकित्सालय के प्रभारी डॉ.रामजीलाल करोड़ीमल ने बताया कि प्रथम चरण में दुधारू गायों व भैंसों को टैग लगाए जा रहे है। इसके बाद दूसरे चरण में अन्य पशुओं के टैग लगाए जाएंगे। उन्होंने बताया कि सबसे पहले पशु व उसके मालिक की पूरी जानकारी एक प्रपत्र में दर्ज की जाएगी। जिसके अंतर्गत पशुपालक का नाम, पिता का नाम, पशु की नस्ल, रंग, गांव, पंचायत, तहसील, जिला, मोबाईल नंबर लिए जाएंगे तथा प्रत्येक पशु के कान पर टैग लगाया जाएगा। जिस पर 12 अंक अंकित होंगे। जिससे पशु व उसके मालिक की पहचान हो सकेगी। उन्होंने बताया कि अब तक 100 पशुओं के टैग लगाए जा चुके है।
पशुपालकों को मिलेगा लाभ
पशुओं को पहचान मिलने व उसके कान पर टैग लगने से पशुओं की तस्करी पर भी लगाम लगेगी। इसी प्रकार पशुओं की खरीद फिरोख्त की जानकारी पशुपालन विभाग के पास रहेगी। इससे पशु गणना में सुविधा होगी। किसी पशु में बीमारी फैलने की स्थिति में उसकी तत्काल जांच कर उसके संक्रमण को फैलने से बचाया जा सकेगा तथा उसका रिकॉर्ड भी पशु चिकित्सालय में सुरक्षित रहेगा। एक तहसील व जिले से दूसरे तहसील व जिले में पशुओं के बेचान से पशु गणना में बढोतरी व कटौती हो सकेगी। इसी प्रकार पशुपालकों के पास उपलब्ध पशुओं की संख्या के अनुसार पशुपालन विभाग की ओर से संचालित योजनाओं का लाभ भी उसे दिया जा सकेगा।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

कोरोना: शनिवार रात्री से शुरू हुआ 30 घंटे का जन अनुशासन कफ्र्यूशाहरुख खान को अपना बेटा मानने वाले दिलीप कुमार की 6800 करोड़ की संपत्ति पर अब इस शख्स का हैं अधिकारजब 57 की उम्र में सनी देओल ने मचाई सनसनी, 38 साल छोटी एक्ट्रेस के साथ किए थे बोल्ड सीनMaruti Alto हुई टॉप 5 की लिस्ट से बाहर! इस कार पर देश ने दिखाया भरोसा, कम कीमत में देती है 32Km का माइलेज़UP School News: छुट्टियाँ खत्म यूपी में 17 जनवरी से खुलेंगे स्कूल! मैनेजमेंट बच्चों को स्कूल आने के लिए नहीं कर सकता बाध्यअब वायरल फ्लू का रूप लेने लगा कोरोना, रिकवरी के दिन भी घटेCM गहलोत ने लापरवाही करने वालों को चेताया, ओमिक्रॉन को हल्के में नहीं लें2022 का पहला ग्रहण 4 राशि वालों की जिंदगी में लाएगा बड़े बदलाव

बड़ी खबरें

Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.