शीतलहर की चपेट में जैसाण: मौसम का पलटवार, फिर चमकी सर्दी

- बर्फीली हवाओं के सितम, दोपहर में धूप से राहत

By: Deepak Vyas

Published: 24 Dec 2020, 10:00 AM IST

जैसलमेर. जिले में कड़ाके की सर्दी ने फिर से सितम ढाना शुरू कर दिया है। सर्द मौसम में रोजमर्रा के कामकाज प्रभावित हो रहे हैं। हालांकि बुधवार को मौसम विभाग के अनुसार जैसलमेर का तापमान न्यूनतम तापमान 10.0 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, लेकिन ठिठुरन का असर बना रहा। बर्फीली हवाओं ने लोगों को रजाइयों में दुबकने को मजबूर कर दिया है तो जगह-जगह लोग अलाव तापकर सर्दीसे बचने के जतन कर रहे हैं। कम हो रहे तापमान से सर्दी का असर बढ़ा है तो बर्फीली हवाओं ने लोगों की धूजणी छुड़ा दी है। ग्रामीण क्षेत्रों में तो लोग और भी बेहाल है। खुले मैदान वाले इलाकों में आमजन के साथ ही पशुधन भी बेहाल नजर आ रहा है। दूसरी ओर सर्दी के कारण लोगों का जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। स्वर्णनगरी भ्रमण पर आने वाले सैलानी भी गर्म लिबासों में पर्यटन स्थलों का भ्रमण करते देखे जा सकते है।
परेशान वाहन चालक भी
एक ओर सर्दी का सितम और दूसरी ओर सुबह के समय छाए रहने वाले कोहरे ने वाहनचालकों की परेशानी बढ़ा दी है। सुबह कोहरा छाया रहने से सर्दी का असर बढ़ जाता है। अलसुबह तो वाहनचालकों को हेडलाइट जलाकर वाहन चलाने पड़ रहे हैं। धूप खिलने के बाद ही कोहरे का असर कम हो पाता है। इस बीच दिन भर चली बर्फीली हवाओं ने ठिठुरन बढ़ा दी है। बुधवार सुबह सर्द हवाओं ने लोगों को झकझोर कर रखा। दिन भर बर्फीली हवाएं चलने से सर्दी का असर अधिक नजर आया। दोपहर के समय खिली धूप लोगों को सुहाने लगी। ग्रामीण अंचलों में भी जनजीवन प्रभावित होने लगा है। कड़ाके की सर्दी ने लोगों की दिनचर्या प्रभावित कर दी है। सुबह लोग देरी से अपने घरों से बाहर निकलते हंै, वहीं शाम ढलते ही जल्द वापस अपने घरों की ओर लौट जाते हैं। शहर के बाजार भी देरी से खुलने और शाम के समय जल्दी बन्द होने लगे हैं। सर्दी का असर बाजारों में लोगों की चहल-पहल पर भी पड़ा है।
सर्द हवाओं से बचने के जतन
जिले में पड़ रही कड़ाके की सर्दी से बचने के लिए लोगों ने जहां अनेक जतन करने शुरू कर दिए हैं, वहीं हाथ के मोजे और हीटर की बिक्री बढ़ गई है। सर्दी के साथ ही चल रही बर्फीली हवाओं ने आमजन को झकझोर कर रख दिया है। ऐसे में जहां कई घरों में अंगीठियां जलनी शुरूहो गई है तो कई घरों में हीटर चलने शुरू हो गए और इनकी मांग बढ़ गई।

Deepak Vyas Bureau Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned