मालगाड़ी से टकराई बोलरो, काल का ग्रास बने लोग !

-मॉकड्रिल के तहत राहत व बचाव कार्य की हुई जांच

By: Deepak Vyas

Published: 13 Oct 2021, 07:47 PM IST


लाठी. लाठी रेलवे स्टेशन से धोलिया की तरफ मालगाड़ी से बोलेरो टकराने से कुछ लोगों की मौत होने के बाद आरपीएफ व रेलवे के अधिकारियों ने राहत कार्य में तत्परता दिखाई। यह नजारा हकीकत में न होकर मॉक ड्रिल का हिस्सा था, जिसके तहत आरपीएफ और रेलवे की अधिकारियों की कार्यदक्षता को परखा गया। आरपीएफ व जीआरपी के जवानों और रेलवे के अधिकारियों ने समय रहते हुए राहत एवं बचाव कार्य शुरू किया। सोमवार देर शाम को बाकायदा सूचना प्रसारित की गई कि लाठी रेलवे स्टेशन से पांच किलोमीटर दूर धोलिया गांव के पास रेलवे ट्रेक पर मालगाड़ी की चपेट में आने से बोलरो गाड़ी क्षतिग्रस्त हो गई, वही उसमें सवार कुछ लोगों की भी मौत हो गई। सूचना मिलने पर ही निरीक्षक आरपीएफ जैसलमेर मदनलाल, हेड कांस्टेबल माधूराम, सीनियर सेक्शन इंजीनियर विद्युत अरूण कुमार, सीनियर सेक्शन इंजीनियर टेलीकॉम घनश्याम सोनी, स्टेशन अधीक्षक जैसलमेर एसके झां, सहायक उप निरीक्षक जीआरपी रामरख, लाठी रेलवे स्टेशन मास्टर संजय नवारिया, चंदन परिहार, प्रह्लाद चौधरी मय टीम के साथ मौके पर पहुंचे गए। वहां पर पहुंचने पर पता चला कि उनके पास आई सूचना ट्रेन दुर्घटना नहीं हुई बल्कि मॉकड्रिल थी। रेलवे की ओर से कर्मचारियों व अधिकारियों की मुस्तैदी परखने के लिए समय.समय पर मॉकड्रिल कराई जाती रहती है। वरिष्ठ मंडल संरक्षा अधिकारी मंडल जोधपुर सिखर बी मारु ने बताया कि मॉक ड्रिल का मकसद अपनी व्यवस्थाओं का परखना था। उन्होंने कहा कि किसी भी वक्त किसी भी परिस्थिति से निपटने के लिए मॉक ड्रिल करते रहना बेहद आवश्यक है।

Deepak Vyas Bureau Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned