मनाया शीतला सप्तमी का पर्व

- बासी भोजन का किया सेवन

By: Deepak Vyas

Updated: 03 Apr 2021, 09:00 PM IST

पोकरण. कस्बे में शीतला सप्तमी का पर्व शनिवार को परंपरागत रूप से मनाया गया। लोगों ने इस दिन बासी भोजन किया। लोगों ने दिन की शुरुआत में शीतला माता का पूजन कर शारीरिक पीड़ा के प्रकोप से बचाने की प्रार्थना की। शीतला सप्तमी पर कस्बे के चारभुजा मंदिर व गांधी चौक स्थित शीतला माता मंदिर में मेले जैसा माहौल देखने को मिला। पूजा-अर्चना के दौरान महिलाओं ने शीतला माता को बासी पकवान का भोग लगाया और स्वस्थ, समृद्धि व खुशहाली की कामना की। कस्बे सहित आसपास के गांवों में अधिकांश घरों में गृहणियों ने एक दिन पूर्व भोजन पकाया। जिसमें विशेषकर कैर सांगरी व कूमट की सब्जी, दही व छाछ के साथ राब, चावल व दाल की पूडिय़ां आदि व्यंजन बनाए। परंपरा के चलते पोकरण क्षेत्र की मिष्ठान की दुकानों में भी ताजे पकवान नहीं बने। जिससे अधिकांशत: मिठाई की दुकानें मंगल ही रही।
आज भी मनाया जाएगा शीतला माता का पर्व
कस्बे के कई समाजों ने शीतला सप्तमी का पर्व शनिवार को चैत्र कृष्णा सप्तमी को मनाया। जबकि कुछ समाजों में शीतला अष्टमी का पर्व मनाया जाता है। ऐसे में कई परिवारों की ओर से शनिवार को व्यंजन व खाद्य सामग्री बनाई गई और रविवार को शीतला माता की पूजा कर ठण्डा भोजन किया जाएगा।
लाठी. शीतला सप्तमी का पर्व शनिवार को क्षेत्र में परंपरागत रूप से मनाया गया। श्रद्धालुओं ने शीतला माता की पूजा कर बासी भोजन का सेवन किया। शीतला माता के मंदिर पर शनिवार को सुबह भीड़ नजर आई। महिलाओं ने बासी पकवान का प्रसाद चढ़ाया तथा पूजन के बाद प्रसादी ग्रहण की। गौरतलब है कि शीतला सप्तमी से एक दिन पूर्व भोजन बनाया जाता है तथा सप्तमी के दिन शीतला माता की पूजा कर बासी भोजन का सेवन किया जाता है। इस दिन घरों में चूल्हे नहीं जलते है। महिलाओं ने शीतला माता की पूजा कर सुख, समृद्धि, अमन, चैन व खुशहाली की प्रार्थना की।

Deepak Vyas Bureau Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned