निर्जला एकादशी पर हुए दान-पुण्य, दर्शन नहीं

- मुख्य मार्गों पर शीतल पेय का वितरण

 

By: Deepak Vyas

Updated: 02 Jun 2020, 08:27 PM IST

जैसलमेर. कोरोना संक्रमण के बाद उत्पन्न हालात में जिले भर में इस बार निर्जला एकादशी का नजारा हमेशा से थोड़ा बदला हुआ रहा। मंदिरों के पट बंद होने के कारण श्रद्धालु इष्टदेव के दर्शन नहीं कर सके। इसके अलावा लोगों ने दान-पुण्य किए। मिठाई, मटकियों व सेवियों की खरीदारी में अंतर नहीं आया। दुर्ग स्थित लक्ष्मीनाथ मंदिर के बाहर से दर्शन करने कई जने पहुंचे। एकादशी के दिन श्रद्धालुओं ने भूखों को भोजन करवाया और भिखारियों, असहायों व नि:शक्तजनों को दान दिया। बाजारों में चहल-पहल देखने को मिली। इस दिन पर परम्परानुसार बहन, बेटियों व गुरुओं को आम, मिठाई, वस्त्र, मटकी व शर्बत दिए गए। लोगों ने पूरे दिन फलाहार कर उपवास रखा। मूलसागर स्थित तुलसी गोशाला में बड़ी संख्या में लोगों ने गोवंश के लिए हरे चारे तथा पशु आहार आदि की व्यवस्था की।
शहर के ह्दयस्थल गोपा चौक में नगरपरिषद सभापति हरिवल्लभ कल्ला की ओर से राहगीरो के लिए पैकेटबंद शीतल पेय का वितरण किया गया। इस अवसर पर कल्ला के साथ उपसभापति खींवसिंह, पूर्व सभापति अशोक तंवर, पूर्व पार्षद अरविंद व्यास, मांगीलाल कल्ला, प्रशांत आचार्य, संजय वासु आदि ने राहगीरों को मनुहार कर शीतल पेय पिलाया। हनुमान चौराहा तथा गांधी कॉलोनी में भी निर्जला एकादशी के अवसर पर राहगीरों, दुपहिया वाहन चालकों और आवाजाही करने वाले महिलाएं, पुरुष व बच्चों को मनुहार कर शीतल पेय वितरण किया गया। ग्रामीणांचलों में भी एकादशी के दिन ग्रामीणों ने दान व पुण्य किए।

Deepak Vyas Bureau Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned