संघ को बदनाम करना कांग्रेस की पुरानी फितरत : प्रतापपुरी

- संकट के समय सरकार के नुमाइंदे जनता के बीच नहीं दिखे

By: Deepak Vyas

Published: 12 Jul 2021, 09:45 AM IST

जैसलमेर. संघ के वरिष्ठ प्रचारक नीम्बाराम के खिलाफ एसीबी में मामला दर्ज करने के मसले पर भाजपा ने रविवार को कांग्रेस सरकार के खिलाफ हमलावर तेवर दिखाए। पार्टी के वरिष्ठ नेता स्वामी प्रतापपुरी ने कहा कि कांग्रेस आजादी के ठीक बाद से राष्ट्रवादी संगठन राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ को बदनाम करने का प्रयास करती रही है। उसने महात्मा गांधी की हत्या तक का आरोप संघ पर लगाया, जो बाद में मिथ्या साबित हुआ। इसी तरह से प्रखर राष्ट्रवादी नीम्बाराम को कांग्रेस सरकार फंसाने का षड्यंत्र रच रही है। उसके यह मंसूबे कभी पूरे नहीं होंगे। नीम्बाराम ने अपना पूरा जीवन राष्ट्र और समाज के नाम किया है। संघ के प्रचारक तपस्वियों जैसा जीवन जीते हैं। स्वामी प्रतापपुरी रविवार को जैसलमेर भाजपा कार्यालय में पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे। इस अवसर पर भाजपा जिलाध्यक्ष चंद्रप्रकाश शारदा भी उपस्थित थे। इस अवसर पर उन्होंने प्रदेश की अशोक गहलोत सरकार को सभी मोर्चों पर विफल करार देते हुए आरोप लगाया कि कोरोना संक्रमण काल में भी सरकार के नुमाइंदे और मुखिया जनता के बीच नहीं पहुंचे और अपने बंगलो में बंद रहे। कई बहाने बनाकर वे आज भी घरों में बंद हैं। प्रदेश की जनता पछता रही है। उन्हें कांग्रेस ने जो सपने दिखाए थे, वे पूरे नहीं हुए। भाजपा सभी मसलों को लेकर प्रदेशवासियों को जगाएगी और सरकार को चेताएगी। भाजपा नेता ने कांग्रेस सरकार के इस आरोप का भी खंडन किया कि केंद्र सरकार राजस्थान के साथ राजनीतिक भेदभाव कर रही है। केंद्र ने पूरे संसाधन दिए लेकिन राज्य सरकार उनका उपयोग नहीं कर पाई।
जिले में राजनीतिक पक्षपात हावी
स्वामी प्रतापपुरी ने आरोप लगाया कि सीमावर्ती जैसलमेर जिले में कांग्रेस के जनप्रतिनिधि राजनीतिक पक्षपात के आधार पर काम कर रहे हैं। यहां से केबिनेट मंत्री हैं लेकिन वे भी जनता के हित में काम नहीं कर रहे। जिले में पानी व बिजली का भयावह संकट है। केंद्रीय योजनाओं में भी पक्षपात बरता जा रहा है। लोगों को राजनीतिक आधार पर प्रताडि़त किया जा रहा है। प्रशासन मूक हो चुका है। भ्रष्टाचार इतना बढ़ गया है कि कनेक्शन के लिए भी रिश्वत ली जा रही है। नाचना क्षेत्र में अपने चहेतों के यहां कनेक्शन करवा दिए, शेष लोग तरस रहे हैं। पानी पहुंचाने के मामले में भी भेदभाव किया जा रहा है। पोकरण शहर में हुए तिरंगा विवाद पर बोलते हुए भाजपा नेता ने कहा कि इस मामले में पूरे शहर की आवाज को दबाया गया है और मनमाने ढंग से झंडे का स्थान परिवर्तन किया गया। भाजपा ने जनता की आवाज को उठाया। कांग्रेस ने हठधर्मिता की और उसके नेताओं ने अशोभनीय बयान दिए।
पोकरण से ही लड़ेंगे चुनाव
इस मौके पर जब स्वामी प्रतापपुरी से पूछा गया कि क्या वह आगामी विधानसभा चुनाव जैसलमेर सीट से लड़ सकते हैं, तब उन्होंने साफ कहा कि वह ऐसा नहीं करेंगे। यहां नहीं तो वहां लड़ लूं, ऐसा मेरे जीवन का उद्देश्य नहीं है। मेरी चाहत क्षेत्र का विकास और संगठन की मजबूती है। इन्हीं दो उद्देश्यों को लेकर वह राजनीति में आए हैं। उन्होंने कहा कि विधानसभा चुनाव में पोकरण के अलावा अन्य क्षेत्रों से उनके चुनाव लडऩे की बातें सामने आई। बाद में लोकसभा चुनाव के समय भी उनके जालोर-सिरोही या बाड़मेर-जैसलमेर से चुनाव मैदान में उतरने की चर्चाएं चली। उन्होंने इनकार कर दिया। वे पोकरण क्षेत्र का विकास कर एक उदाहरण पेश करना चाहते हैं। स्वामी प्रतापपुरी ने जिला भाजपा में किसी तरह की गुटबाजी से भी इनकार किया। जिला परिषद की ओर से गत दिनों जारी हुए कार्यों में जिला प्रमुख प्रतापसिंह की भूमिका का बचाव किया।

Deepak Vyas Bureau Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned