scriptCorona's eclipse removed from Jasan's horoscope, now Mars is 'Mars' | जैसाण की कुंडली से हटा कोरोना का ग्रहण अब मंगल को 'मंगल' | Patrika News

जैसाण की कुंडली से हटा कोरोना का ग्रहण अब मंगल को 'मंगल'

-1 दिन में 2 हजार जोड़े बंधेंगे विवाह बंधन में, बाजार में बरसे 40 करोड़
-अबूझ सावों में बंपर शादियां, शहर से गांव तक मांगलिक कार्यों की धूम

जैसलमेर

Updated: May 02, 2022 07:13:11 pm

जैसलमेर. जैसाण की कुंडली से कोरोना के बाहर होते ही दो वर्ष तक खुशियों पर लगा ग्रहण अब हट चुका है। इस बार अक्षय तृतीया के अबूझ सावों को लेकर शहर से गांव तक उत्साह व उल्लास का माहौल इसलिए भी है कि क्योंकि दो वर्ष बाद गाइड लाइन की पांबदी व नियमों की बाध्यता के बिना विवाह समारोहों का आयोजन हो रहा है। पत्रिका पड़ताल में यह बात सामने आई है कि सरहदी जिले में एक ही दिन में 2 हजार जोड़े विवाह समारोहों में बंधेंगे। सुखद बात यह भी है कि ईद, अक्षय तृतीया व परशुराम जयंती एक साथ होने से बाजारों में रौनक देखी जा रही है, वहीं भीषण गर्मी में भी खरीदारी जमकर हो रही है। गौरतलब है कि अक्षय तृतीया के अबूझ मुहूर्त पर 3 मई को जिले में करीब 2 हजार जोड़े विवाह के पवित्र बंधन में बंधने जा रहे हैं। शहर से गांव तक सभी प्रमुख विवाह स्थल इन मांगलिक कार्यों के साक्षी बनने जा रहे हैं। उधर, स्वर्णनगरी की बड़ी होटलों में भी विवाह समारोह को लेकर आयोजन किए जा रहे हैं। आलम यह है कि गांव-गांव में शहनाइयों की गूंज है तो मांगलिक कार्यक्रमों के आयोजन में हर कोई व्यस्त नजर आ रहा है। डीजे, लाइटिंग, टेंट डेकोरेशन, बड़े भोज, आरओ का पानी, कैटरिंग, फोटो व वीडियोग्राफी के साथ डिस्पोजल सामग्री आदि से जुड़े सभी उद्यमियों की पूछ बढ़ गई है।
खुशियों के माहौल में रोजगार भी अपार
करीब दो वर्ष के बाद विवाह समारोहों को लेकर माहौल में दुगुना उत्साह देखा जा सकता है। शादी समारोहों के दौरान जिले भर में व्यापारियों के साथ श्रमिकों को भी कार्य मिल रहा है। खाद्य सामग्री, रेडिमेड वस्त्रों की दुकानों, कपड़े सिलाई करने वालों से लेकर टेंट हाउस वालों और विवाह स्थल पर विभिन्न प्रकार की मजदूरी करने वाले लोगों के पास काम की काम है। विवाह समारोह से प्रिंटिंग प्रेस में शादी कार्डों की छपाई हो या शहर की गली-गली में विवाह एवं अन्य मांगलिक समारोहों में रोशनी की व्यवस्था या फिर बड़ी दावतों के जरिए हलवाइयों की व्यस्तता...। इन समारोहों से हजारों हाथों को भी रोजगार मिल रहा है।
जैसाण की कुंडली से हटा कोरोना का ग्रहण अब मंगल को 'मंगल'
जैसाण की कुंडली से हटा कोरोना का ग्रहण अब मंगल को 'मंगल'
गांवों में भी अब महंगे हुए शादी समारोह
सरहदी जिले में अक्षय तृतीया को अबूझ सावों के दौरान करीब 40 करोड़ रुपए खर्च होने का अनुमान है। शहर के साथ-साथ अब गांवों में भी महंगी शादियों का दौर चल निकला है। एक अनुमान के तौर पर वर व वधु पक्ष की ओर से न्यूनतम एक-एक लाख रुपए तो खर्च किए ही जाते हैं। कई विवाह समारोहों में 20 से 50 लाख अथवा एक करोड़ रुपए तक भी खर्च किया जा रहा है।
बाल विवाहों पर प्रशासन की 'आंखÓ
वैसे, शहर हो या फिर ग्रामीण क्षेत्र अब शिक्षा के प्रचार-प्रसार तथा कानूनी कार्रवाई के भय से बाल विवाह होने की घटनाएं पहले की अपेक्षा खासी कम हो चुकी हैं। ऐहतियात के तौर पर अक्षय तृतीया पर अथवा उसके आसपास नाबालिगों की शादियों पर प्रशासन ने नजरें जमा रखी है तो सूचना तंत्र को भी सक्रिय कर दिया है। सरकारी कार्मिकों को जमीनी स्तर पर जिम्मेदारियां सौंपी गई।
फैक्ट फाइल -
-3 मई के दौरान अबूझ सावे में बड़ी संख्या में होने है विवाह समारोह
-40 करोड़ रुपए का खर्च होने का अनुमान
-3000 से अधिक लोगों को मिला सीधा रोजगार

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

DGCA ने इंडिगो पर लगाया 5 लाख रुपए का जुर्माना, विकलांग बच्चे को प्लेन में चढ़ने से रोका थापंजाबः राज्यसभा चुनाव के लिए AAP के प्रत्याशियों की घोषणा, दोनों को मिल चुका पद्म श्री अवार्डIPL 2022 के समापन समारोह में Ranveer Singh और AR Rahman बिखेरेंगे जलवा, जानिए क्या कुछ खास होगाबिहार की सीमा जैसा ही कश्मीर के परवेज का हाल, रोज एक पैर पर कूदते हुए 2 किमी चलकर पहुंचता है स्कूलकर्नाटक के सबसे अमीर नेता कांग्रेस के यूसुफ शरीफ और आनंदहास ग्रुप के होटलों पर IT का छापाPM Modi in Gujarat: राजकोट को दी 400 करोड़ से बने हॉस्पिटल की सौगात, बोले- 8 साल से गांधी व पटेल के सपनों का भारत बना रहाOla, Uber, Zomato, Swiggy में काम करके की पढ़ाई, अब आईटी कंपनी में बना सॉफ्टवेयर इंजीनियरपंजाब की राह राजस्थान: मंत्री-विधायक खोल रहे नौकरशाही के खिलाफ मोर्चा, आलाकमान तक शिकायतें
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.