चुनाव के जोश में बिसराया कोरोना का होश

-कोरोना की रोकथाम में पंचायतीराज चुनाव बने चुनौती
-धारा 144 लागू होना मुश्किल

By: Deepak Vyas

Published: 22 Nov 2020, 06:56 PM IST

जैसलमेर. मरुस्थलीय जैसलमेर जिले में इन दिनों पंचायतीराज चुनाव की सरगर्मियां जोरों पर हैं। चार चरणों में होने वाले इन चुनावों के लिए पहले चरण का मतदान आगामी 23 तारीख को होना है। उसके बाद 27 नवम्बर, 1 दिसम्बर व 5 दिसम्बर को अलग-अलग क्षेत्रों में मतदान करवाया जाएगा। यही कारण है कि सभी पार्टियां और प्रत्याशी प्रचार में दिन.रात एक किए हुए हैं। शक्ति प्रदर्शन की भी होड़ मची है। ऐसे में कोरोना से बचाव की गाइडलाइन 'दो गज की दूरी और मास्क है जरूरीÓ को साइडलाइन कर दिया गया है। चुनावों की बिछी चैसर के बीच कोरोना के मामले भी जिले में निरंतर बढ़ते जा रहे हैं। इस बीच राज्य सरकार की ओर से प्रदेश भर में धारा 144 लागू करने का आदेश भी जारी कर दिया गया। यह आदेश जैसलमेर समेत चुनाव वाले 21 जिलों में लागू होना फिलहाल तो मुमकिन नहीं दिख रहा है।
दूरी है न मास्क
ग्रामीण क्षेत्रों में प्रत्याशियों के समर्थन में बड़ी सभाओं का चलन भी जोरों पर है। भाजपा की तरफ से दो केंद्रीय मंत्री प्रचार कर चुके हैं। दोनों ने बड़े कस्बानुमा गांवों में सैकड़ों की भीड़ को सम्बोधित किया। कांग्रेस की तरफ से प्रचार का जिम्मा दोनों विधानसभा क्षेत्रों के विधायकों ने मुख्य रूप से संभाल रखा है। बाहर से अभी तक पार्टी का कोई बड़ा चेहरा प्रचार करने नहीं पहुंचा है। इसके बावजूद कांग्रेस की सभाएं भी भीड़ वाली हो रही है। इन चुनावी सभाओं में लोग एक दूसरे से सट कर बैठे नजर आते हैं तो अधिकांश के चेहरों पर मास्क या तो होता ही नहीं अथवा नाक से नीचे लगा रहता है। चुनावी जोश में नेता और प्रत्याशी भी ग्रामीण मतदाताओं से निकटता दिखाने के लिए उनके बीच मौजूद रहते हैं। हालांकि नेता फिर भी ज्यादातर मास्क लगा कर प्रचार में पहुंचते हैं, लेकिन संवाद कायम करते समय कई बार मास्क को उतार कर हाथ में ले लेते हैं।
गांवों में बढ़ रहे केसेज
इस बीच पिछले अर्से के दौरान ग्रामीण क्षेत्रों में कोरोना के संभावित मामले बढऩे की जानकारी मिली है। जागरुकता के अभाव ज्यादातर ग्रामीण इसके लक्षणों को सर्दी, जुकाम मान कर नजरअंदाज कर देते हैं। जानकारी के अनुसार नवम्बर महीने में गांवों में कई लोगों की अचानक तबीयत बिगडऩे से मौतें तक हुई है। जांच नहीं होने के कारण वे कोरोना के तहत अंकित नहीं हो पाई हैं। बढ़ते मामलों को देखते हुए राज्य सरकार ने प्रदेश भर में आगामी 21 जनवरी तक धारा 144 लागू करने के आदेश जारी किए। यह आदेश जिले में चल रहे पंचायतीराज चुनावों के मद्देनजर लागू होना मुश्किल लगता है।

Deepak Vyas Bureau Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned