scriptअपराधी बेखौफ: निगरानी में खामी, तंत्र की नाकामी और चोरों की मनमानी | Patrika News
जैसलमेर

अपराधी बेखौफ: निगरानी में खामी, तंत्र की नाकामी और चोरों की मनमानी

सरहद से सटे जैसलमेर जिले में आंतरिक सुरक्षा में जिम्मेदारों की च्खामीज् और चोर गिरोहों में भय का माहौल बनाने में पुलिस तंत्र की च्नाकामीज् लगातार हो हरी चोरी की वारदातों की परिणिति के रूप में सामने आ रही है। शहर से गांव तक लगातार हो रही चोरी की वारदातों का क्रम अभी थमा ही नहीं था कि मंदिरों पर चोर गिरोहों की काली नजर पड़ गई है।

जैसलमेरMay 18, 2024 / 08:23 pm

Deepak Vyas

jaisalmer
फलसूंड क्षेत्र के भीखोड़ाई गांव में एक बंद मकान में 6 फरवरी 2024 को चोर सेंध लगाकर संदूक तोडकऱ नकदी व आभूषण चुरा ले गए।
केस दो-
भीखोड़ाई गांव में 12 अप्रेल 2024 रात को एक मकान में चोरी की नीयत से अज्ञात लोग घुसे, लेकिन घर में सो रही महिला की जाग हो जाने से आरोपी भाग गए।
केस तीन-

पोकरण कस्बे में 12 अप्रेल 2024 को व्यास सर्किल से केवल 50 मीटर दूर स्थित परचून की तीन दुकानों के पीछे से दीवार तोडकऱ चोरों ने चोरी की वारदात को अंजाम दिया।
केस चार-
मोहनगढ़ कस्बे से लगभग 18 किमी दूर स्थित छ: ढाणी में 12 मई 2024 को चोरों ने दो रहवासी मकानों में हाथ साफ कर दिया। लाखों रुपए की नगदी, सोने चांदी के गहने आदि चुरा कर ले गए।
सरहद से सटे जैसलमेर जिले में आंतरिक सुरक्षा में जिम्मेदारों की च्खामीज् और चोर गिरोहों में भय का माहौल बनाने में पुलिस तंत्र की च्नाकामीज् लगातार हो हरी चोरी की वारदातों की परिणिति के रूप में सामने आ रही है। शहर से गांव तक लगातार हो रही चोरी की वारदातों का क्रम अभी थमा ही नहीं था कि मंदिरों पर चोर गिरोहों की काली नजर पड़ गई है। अधिकांश मामलों में वारदातों का खुलासा नहीं होने व पुलिस के हाथ खाली रहने से स्थानीय लोगों में भय व रोष है। शुक्रवार को शहर के रेलवे स्टेशन मार्ग पर गुलाबसागर तालाब क्षेत्र में आए रामदेव मंदिर में चोरों ने मंदिर के ताले तोडकऱ चांदी के छत्र, घंटे व नकदी चुरा लिए। इस संबंध में मंदिर पुजारी ने पुलिस में रिपोर्ट पेश की है।मंदिरों में चोरी, हकीकत यह भी
जिले के ग्रामीण क्षेत्रों से लेकर जिला मुख्यालय तक के मंदिरों में आए दिन चोरी की वारदातें आए दिन सामने आ रही है। पुलिस के तमाम दावों के बावजूद हकीकत यह है कि बहुत कम मामलों में ही पुलिस चोरों तक पहुंच सकी है। अधिकांश चोरी की वारदातें एक गुत्थी बन कर रह जाती है। पुलिस की सलाह पर अधिकांश बड़े मंदिरों में सीसीटीवी कैमरे भी लगाए जा चुके हैं। उनमें चोरी की वारदात कैद होती है, लेकिन फिर भी पुलिस के हाथ उन तक नहीं पहुंच पाते। मंदिरों में सोने-चांदी के आभूषण, छत्तर आदि के साथ दान पेटिकाओं में रखी नगदी चोरों के निशाने पर रहती है। विगत महीनों में अलग-अलग समय में चूंधी के प्रसिद्ध गणेश मंदिर, कालेडूंगरराय शक्तिपीठ, तेमड़ेराय देवी के मंदिर, हिंगलाज मंदिर, देगराय मंदिर सहित अनेक मंदिरों में चोरी की वारदातें अब तक घटित हो चुकी हैं।

अंदेशा: चोरी से ड्रग एडिक्शन का कनेक्शन

जैसलमेर. चोरी की वारदातों में जहां चोर गिरोह की सक्रियता सामने आई है, वहीं कुछ चोरी की घटनाओं के पीछे च्ड्रग कनेक्शनज् होने का अंदेशा जानकारों ने जताया है। शहर में पूर्व में भी ऐसे मामले सामने आए हैं, जब पकड़े गए चोरों ने नशे की जरूरत पूरी करने के लिए धन जुटाने को लूट, चोरी व नकबजनी की वारदातों को अंजाम दिया।

विगत दिनों धरपकड़

पुलिस ने विगत दिनों चोरी, नकबजनी व लूट की वारदातों का खुलासा करते हुए आरोपियों की धरपकड़ की है। नशे के सौदागरों व स्थायी वारंटियों को भी पकड़ा है। बावजूद इसके वारदातों का सिलसिला अनवरत जारी है।

सक्रिय है पुलिस तंत्र

जिले में पुलिस तंत्र सक्रिय है। पूर्व में कई चोरी की वारदातों का खुलासा हुआ है, चोर गिरोह भी पकड़े गए हंै। रात्रि गश्त कर रहे हैं।

-सुधीर चौधरी, पुलिस अधीक्षक, जैसलमेर

Hindi News/ Jaisalmer / अपराधी बेखौफ: निगरानी में खामी, तंत्र की नाकामी और चोरों की मनमानी

ट्रेंडिंग वीडियो