Jaisalmer- औद्योगिक विकास की यहां खुल रही पोल, बजट आवंटन के बाद भी नमक उद्योग की किस्मत खराब..

नमक उत्पादन क्षेत्र में सुविधाएं हो रही ध्वस्त
-सडक़, पुलिए व जीएलआर क्षतिग्रस्त हालत में

By: jitendra changani

Published: 28 Nov 2017, 09:01 PM IST

पोकरण. कस्बे में धीरे-धीरे लुप्त हो रहे नमक व्यवसाय के साथ ही नमक उत्पादन क्षेत्र में करवाए गए विकास कार्य भी ध्वस्त होने लगे है। जिससे सरकार की ओर से खर्च की गई लाखों रुपए की धनराशि बेकार साबित हो रही है तथा यहां विकसित जनसुविधाओं का भी नमक उत्पादकों व श्रमिकों के लिए उपयोग नहीं हो रहा है। गौरतलब है कि वर्षों पूर्व नमक उत्पादन एवं नमक व्यवसाय क्षेत्र का मुख्य उद्योग हुआ करता था।

Jaisalmer patrika
IMAGE CREDIT: patrika

यहां कस्बे से पांच किमी दूर रिण क्षेत्र में करीब चार दर्जन नमक उत्पादन इकाइयों पर प्रतिवर्ष सैंकड़ों टन नमक उत्पादन कार्य किया जाता था। यह नमक रेलों के माध्यम से खुदरा लदान (पीस मील लोडिंग) सुविधा के चलते रेल वेगनों में भरकर देश के कोने-कोने में जाता था।जहां नमक के अच्छे दाम मिल जाते थे। गत कई वर्षों पूर्व रेलवे विभाग की ओर से खुदरा लदान बंद कर दिए जाने के कारण स्थानीय नमक व्यवसाय लगभग बंद होने के कगार पर पहुंच गया है। यहां कुछ नमक उत्पादन इकाइयों को छोडकऱ अधिकांश इकाईयां बंद हो गई है, जिसके चलते उत्पादन क्षेत्र में करवाए गए विकास कार्य भी नकारा पड़े है।

Jaisalmer patrika
IMAGE CREDIT: patrika

सुविधाएं जो हो रही ध्वस्त
जब रेल से खुदरा लदान के तहत यहां से नमक देश के विभिन्न भागों तक जाता था, तब नमक उत्पादकों के साथ ही राज्य सरकार व उद्योग विभाग को भी टैक्स के रूप में अच्छी आमदनी होती थी। इसी के चलते उद्योग विभाग की ओर से दो दशक पूर्व लाखों रुपए खर्च कर यहां डामर सडक़ व पुलियों का निर्माण भी करवाया गया था। इसके अलावा श्रमिकों के लिए मीठे पानी की अलग से पाइपलाइन लगाकर यहां आधा दर्जन जीएलआर व पशु खेळियों का भी निर्माण भी करवाया गया था। गत कई वर्षों से नमक उत्पादन व व्यवसाय में कमी आने के कारण यहां उद्योग विभाग के अधिकारियों का भी ध्यान लगभग हट चुका है। ऐसे में यहां निर्माण करवाई गई सडक़ क्षतिग्रस्त हो गई। यहां निर्मित एक पुलिया तो पूरी तरह से ढह गया है। जिससे कभी भी दुर्घटना भी घटित हो सकती है। इसी तरह यहां बनाई गई सभी जीएलआर व पशु खेळियां भी पूर्ण रूप से क्षतिग्रस्त हो चुकी है तथा जमीन में लगाई गई पाइपलाइन भी सड़ गल गई है। जिसके चलते सरकार की ओर से लाखों रुपए खर्च कर यहां दी गई सुविधाओं का कोई लाभ नहीं मिल पा रहा है।

Jaisalmer patrika
IMAGE CREDIT: patrika
Show More
jitendra changani Desk/Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned