scriptDo service to the nation by taking inspiration from the lives of marty | शहीदों के जीवन से प्रेरणा लेकर करें देशसेवा | Patrika News

शहीदों के जीवन से प्रेरणा लेकर करें देशसेवा

- शहीद फतेहखां की शहादत पर किया याद

जैसलमेर

Updated: February 24, 2022 08:27:22 pm

पोकरण. क्षेत्र के सांकड़ा गांव में स्थित राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय में गुरुवार को शहीद निरीक्षक फतेहखां के 22वें शहादत दिवस पर कार्यक्रम का आयोजन किया गया। गौरतलब है कि सीमा सुरक्षा बल में निरीक्षक के पद पर कार्यरत फतेहखां कश्मीर के बारीपुरा श्रीनगर में आतंकवादियों से लोहा लेते हुए 24 फरवरी 2000 को शहीद हो गए थे। उनके शहादत दिवस के मौके पर गुरुवार को आयोजित कार्यक्रम में उनकी तस्वीर पर पुष्प अर्पित कर दो मिनट का मौन रखकर श्रद्धांजलि दी गई। इस मौके पर जिला परिषद सदस्य व पूर्व जिला प्रमुख अंजना मेघवाल ने कहा कि शहीद राष्ट्र की धरोहर है। उनके बताए मार्गों पर चलकर व जीवन से प्रेरणा लेकर राष्ट्र निर्माण में भागीदार बनें। उन्होंने कहा कि शहीदों की बदोलत ही देश सुरक्षित है। उन्होंने शहीद फतेहखां के बलिदान को याद करते हुए अपनी ओर से श्रद्धांजलि दी। पंचायत समिति सांकड़ा के प्रधान भगवतसिंह तंवर ने कहा कि शहीद फतेहखां ने देश के लिए अपने प्राणों की आहुति दी। उन्होंने देश के सभी शहीदों को श्रद्धांजलि देते हुए उनके शहादत दिवस पर ऐसे कार्यक्रमों का आयोजन करने और उनके जीवन से प्रेरणा लेने की बात कही। सीमा सुरक्षा बल के निरीक्षक वरुणकुमार ने कहा कि बल के जवान विकट भौगोलिक परिस्थितियों में भी देश की सेवा करते है। उन्होंने कहा कि निरीक्षक फतेहखां जैसे बहादुरों की बदोलत देश की जनता सुरक्षित है और निरीक्षक ने शहीद होकर क्षेत्र का नाम रोशन किया है। तनेरावसिंह सांकड़ा ने कहा कि सांकड़ा वीरों की भूमि है। शहीद फतेहखां के बलिदान से सांकड़ा को नई पहचान मिली। भोमसिंह सांकड़ा ने कहा कि शहीद राष्ट्र की धरोहर है, जिसे संजोए रखना आवश्यक है। कार्यक्रम में गफूरखां माधोपुरा ने भी विचार रखे। इस मौके पर भीखसिंह लूणा, पंचायत समिति सदस्य भीखसिंह सांकड़ा, पृथ्वीसिंह जैमला, बलवंतसिंह जोधा, केवलराम, अलादीनखां, मालूखां, नींबसिंह सांकड़ा, अमीरखां, मलूकखां, सत्तारखां सदरासर, दीपक मेघवाल, मेरदीनखां, दुर्गसिंह, मूलसिंह, कासमखां, रमजानखां, जाकिरखां, सफीखां, बरकतखां, अकबरखां, बाबूखां आदि उपस्थित रहे। शहीद के पुत्र एडवोकेट इस्लामखां ने धन्यवाद ज्ञापित किया। संचालन शिक्षक सवाईसिंह ने किया।
शहीदों के जीवन से प्रेरणा लेकर करें देशसेवा
शहीदों के जीवन से प्रेरणा लेकर करें देशसेवा

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

यहाँ बचपन से बच्ची को पाल-पोसकर बड़ा करता है पिता, जैसे हुई जवान बन जाता है पतियूपी में घर बनवाना हुआ आसान, सस्ती हुई सीमेंट, स्टील के दाम भी धड़ामName Astrology: पिता के लिए भाग्यशाली होती हैं इन नाम की लड़कियां, कहलाती हैं 'पापा की परी'इन 4 राशियों के लड़के अपनी लाइफ पार्टनर को रखते हैं बेहद खुश, Best Husband होते हैं साबितजून में इन 4 राशि वालों के करियर को मिलेगी नई दिशा, प्रमोशन और तरक्की के जबरदस्त आसारमस्तमौला होते हैं इन 4 बर्थ डेट वाले लोग, खुलकर जीते हैं अपनी जिंदगी, धन की नहीं होती कमी1119 किलोमीटर लंबी 13 सड़कों पर पर्सनल कारों का नहीं लगेगा टोल टैक्ससंयुक्त राष्ट्र की चेतावनी: दुनिया के पास बचा सिर्फ 70 दिन का गेहूं, भारत पर दुनिया की नजर

बड़ी खबरें

आंध्र प्रदेश में जिले का नाम बदलने पर हिंसा, मंत्री का घर जलाया, कई घायलपंजाब के पूर्व स्वास्थ्य मंत्री के OSD प्रदीप कुमार भी हुए गिरफ्तार, 27 मई तक पुलिस रिमांड में विजय सिंगलारिलीज से पहले 1 जून को गृहमंत्री अमित शाह देखेंगे अक्षय कुमार की 'पृथ्वीराज', जानिए किस वजह से रखी जा रहीं स्पेशल स्क्रीनिंगGujrat कांग्रेस के वरिष्ठ नेता का विवादित बयान, बोले- मंदिर की ईंटों पर कुत्ते करते हैं पेशाबIPL 2022, Qualifier 1 RR vs GT: मिलर के तूफान में उड़ा राजस्थान, गुजरात ने पहले ही सीजन में फाइनल में बनाई जगहRajya Sabha Election 2022: राजस्थान से मुस्लिम-आदिवासी नेता को उतार सकती है कांग्रेस'तुम्हारे कदम से मेरी आँखों में आँसू आ गए', सिंगला के खिलाफ भगवंत मान के एक्शन पर बोले केजरीवालसमलैंगिकता पर बोले CM नीतीश कुमार- 'लड़का-लड़का शादी कर लेंगे तो कोई पैदा कैसे होगा'
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.