बिन चिकित्सक का अस्पताल,मरीजों की लग रही है लम्बी कतारेंं

बिन चिकित्सक का अस्पताल,मरीजों की लग रही है लम्बी कतारेंं
बिन चिकित्सक का अस्पताल,मरीजों की लग रही है लम्बी कतारेंं

Deepak Vyas | Updated: 12 Oct 2019, 06:16:07 PM (IST) Jaisalmer, Jaisalmer, Rajasthan, India

नाचना. क्षेत्र का सबसे बड़ा स्थानीय राजकीय सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र इन दिनों बिना चिकित्सक के मात्र प्रथम श्रेणी मेलनर्स के भरोसे संचालित हो रहा है। चिकित्सकों के अभाव में यहां आने वाले मरीजोंं को परेशानी हो रही है तथा मजबूरन पोकरण अथवा जोधपुर जाकर उपचार करवाना पड़ रहा है।

जैसलमेर/नाचना. क्षेत्र का सबसे बड़ा स्थानीय राजकीय सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र इन दिनों बिना चिकित्सक के मात्र प्रथम श्रेणी मेलनर्स के भरोसे संचालित हो रहा है। चिकित्सकों के अभाव में यहां आने वाले मरीजोंं को परेशानी हो रही है तथा मजबूरन पोकरण अथवा जोधपुर जाकर उपचार करवाना पड़ रहा है। बावजूद इसके सरकार व चिकित्सा विभाग की ओर से यहां चिकित्सक लगाने को लेकर कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है। गौरतलब है कि पोकरण उपखण्ड के ग्रामीण व नहरी क्षेत्र में एकमात्र बड़ा अस्पताल नाचना में स्थित है। यहां प्रतिदिन 400-500 मरीज अपने उपचार के लिए पहुंच रहे है। क्षेत्र के करीब 40 छोटे-बड़े गांवों के मरीज यहां अपना उपचार करवाने के लिए आते है। इस अस्पताल में वर्तमान में एक भी चिकित्सक नहीं है। यहां कार्यरत चिकित्साधिकारी का गत दिनों स्थानांतरण हो जाने के बाद मरीजों के बेहाल हो रहा है। उन्हें मजबूरन प्रथम श्रेणी मेलनर्स से उपचार करवाना पड़ रहा है। जिससे उन्हें परेशानी हो रही है। इसी प्रकार अस्पताल में जीएनएम का भी एक ही पद भरा हुआ है। शेष पांच पद रिक्त पड़े है। प्रयोगशाला तकनीशियन का भी स्थानांतरण हो जाने के बाद संविदा पर कार्यरत प्रयोगशाला सहायक की ओर से रक्त व अन्य जांचें की जा रही है।
यह है स्थिति
पद स्वीकृत कार्यरत
चिकित्सक 4 0
आयुष चिकित्सक 2 0
जीएनएम 6 1
लैब टेक्निशियन 1 0

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned