दर्जनों भवन गिरने के कगार पर, जिम्मेदारों की लापरवाही से बनी स्थिति

-ग्रामीण क्षेत्रों में सरकार भवनों की स्थिति बदहाल

By: Deepak Vyas

Published: 10 Jul 2021, 09:50 AM IST

जैसलमेर/ रामदेवरा. सरहदी जैसलमेर जिले में सरकारी भवनों के निर्माण को लेकर बड़ी धनराशि खर्च की जाती है, लेकिन उपयोग व सार-संभाल के अभाव में इनकी स्थिति दयनीय बनी हुई है। लंबे समय से बदहाली का दंश झेल रहे इन भवनों की ओर सरकारी नजरें भी इनायत नहीं हो रही है। हिलती दीवारें, जर्जर भवन और गिरने के इंतजार में छत..। ऐसे नजारें जिले भर में दर्जनों सरकारी भवनों में देखे जा सकते हैंं। जिले के ग्रामीण क्षेत्रों में भी स्थिति जुदा नहीं है। नहीं हुआ। गौरतलब है कि इन सरकारी भवनों के निर्माण में बड़ी धन राशि खर्च की गई है, लेकिन उपयोगिता और समयबद्ध सार-संभाल के अभाव में ये उपेक्षा का दंश झलते हुए बहदाली की कहानी खुद बयां कर रहे हैं।
रामदेवरा. क्षेत्र में करीब एक दर्जन विभागों के सरकारी भवन लंबे समय से उपयोग में नहीं लिए जाने से और जिम्मेदारों की अनदेखी के चलते धीरे.धीरे जर्जर होकर खंडहर में तब्दील हो रहे हैं। यहां पोकरण रोड पर स्थित यात्रीका भवन की हालत बेहद खराब है। लाखों रुपए के बजट से कई दशकों पहले बनाया गया। इसका उपयोग केवल रामदेवरा में लगने वाले ***** के वार्षिक मेले के दौरान सुरक्षा जाब्ते के कार्मिक ठहरने में करते है। शेष 11 महीने यह भवन लावारिस हालत में पड़ा रहता है। वर्तमान में इस भवन की अधिकांश खिड़की दरवाजे अज्ञात लोग उठाकर ले गए हैं। वही भवन की दीवारों में बड़ी.बड़ी दरारें आ चुकी है। करीब करीब पूरा यात्रीका भवन जर्जर हो रखा है, बावजूद इसके जिम्मेदारों की ओर से इस भवन की सुध ले कर इसे पूरे साल उपयोग में लेने को लेकर कोई सुध नहीं ली जा रही है।
यहां भी कहानी नहीं जुदा
आरसीपी रोड के किनारे स्थित राजकीय प्राथमिक विद्यालय को राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय में मर्ज करने पर विद्यालय भवन और चारदिवारी जिम्मेदारों की अनदेखी के चलते क्षतिग्रस्त होकर जर्जर हालत में पहुंच चुकी है। इतना ही नहीं विद्यालय भवन का एक कक्ष भी छत के गिरने के साथ धराशाही हो चुका है। उधर, कस्बे में बने राजकीय आयुर्वेद आवासीय भवन जो पिछले करीब तीन दशक से जर्जर होकर अब खंडहर में तब्दील हो चुका है। वर्तमान में ना जर्जर भवन को ठीक किया जा रहा है ना ही से गिरा कर इसकी जगह नया भवन मनाया जा रहा है। इसी तरह सार्वजनिक गेग हट भवन भी अनदेखी का शिकार .रामदेवरा कस्बे में राष्ट्रीय राजमार्ग 11पर बना सार्वजनिक निर्माण विभाग का सार्वजनिक गैंगहट है। जिसे परियोजना श्रमिक प्रवास गृह के नाम से जाना जाता है। इस भवन की चारदीवारी जहां बुरी तरह से क्षतिग्रस्त पड़ी है। वही भवन भी रामभरोसे है।
हो सकता है उपयोग
जगत विख्यात लोक देवता बाबा रामदेव जी का हर साल लगने वाले ***** मास के वार्षिक मेले के दौरान हजारों की संख्या में आने वाले सुरक्षा जाब्ते के कार्मिक, चिकित्सा विभाग के साथ ही अन्य सरकारी विभागों के अधिकारियों और कार्मिकों के ठहराव के लिए इन दर्जनों सरकारी जर्जर भवनों की मरम्मत करवा कर उपयोग में लिया जा सकता हैं। रामदेवरा बड़ा धार्मिक स्थल होने से वर्षभर यहां सरकारी विभागों के अधिकारियों के साथ केंद्रीय और राज्य मंत्रियों का भी यहां आना होता है। ऐसे में रामदेवरा में सरकारी जर्जर यात्रिका भवन की मरम्मत कर उसे मिडवे के रूप में भी काम लिया जा सकता है। इस संबंध में जिम्मेदार विभाग के अधिकारी जर्जर भवनों की स्थिति के बारे में उच्चाधिकारियों को सूचना दिए जाने का तर्क देकर पल्ला झाड़ रहे हैं।

Deepak Vyas Bureau Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned