Jaislamer news- विद्युत तारों में उलझनें से आठ गिद्धो कि मोत

- आए दिन गिद्धों की हो रही मौत से वन्यजीव प्रेमियों में रोष

By: jitendra changani

Published: 29 Mar 2018, 05:09 PM IST

जैसलमेर. लाठी क्षेत्र के धोलिया गांव के पास एक बार फिर विद्युत तारों की चपेट में आने से दुर्लभ गिद्धों की मौत हो जाने का मामला सामने आया है। गिद्धों की धोलियां में लगातार हादसों में मौत होने से वन्यजीव प्रेमियों ने रोष जताया है। उन्होंने बताया कि विद्युत तारों में उलझकर 8 दुर्लभ प्रजाति के गिद्धो की मौत हो गई।
हाईटेंशन लाइट से हुई मौत
जानकारी के अनुसार लाठी-धोलिया गांव के पास निकल रही हाईटेशन विद्युत के तारों के चपेट में आने से आठ दुर्लभ प्रजाति गिद्धो कि मौत हो गई है। सूचना मिलने पर अखिल भारतीय विश्नोई सभा के तहसील संयोजक राधेश्याम पैमाणी व लाठी वनविभाग से वनपाल कानसिंह सहित वनविभाग टीम मौके पर पहुंची और मृत बिखरे गिद्धों के शव को एकत्रित कर लाठी पशुचिकित्सालय लाया गया। जहां पोस्टमार्टम करवाने के बाद वनविभाग की टीम ने गिद्धों के शव को दफनाया।

Jaisalmer patrika
IMAGE CREDIT: patrika

ऐसे पहुंच रहे मौत के द्वार
गौरतलब है कि धोलिया और लाठी गांव के पास बड़ी संख्या में गोडावण गिद्ध व अन्य दुर्लभ प्रजाति के वन्यजीवों का रहवासी क्षेत्र है। पक्षी रात्रि के समय पानी पीने के लिए धोलिया, लाठी, खेतोलाई आदि गांव के तालाबों पर आते है और इसी दरम्यान हाईटेंशन तारों की चपेट में आकर मौत का शिकर हो रहे है।
नहीं है सुरक्षा के प्रबंध
गांव के तालाब के पास से निकल रही हाईटेंशन तार पर पक्षियों की सुरक्षा की दृष्टी से कोई प्रबंधन नहीं किए हुए है। इससे रात्रि में विद्युत लाईन दिखाई नहीं देने पर पक्षी उनमें उलझ कर मौत की आगोश में समा रहे है।
कईं बार हो चुकी मौत
पूर्व में विद्युत निगम के अधिकारियों की ओर से धोलिया व खेतोलाई गांव के पास विद्युत तारों पर रिफ्लेक्टरयुक्त व बर्ड डाईवर्टाटर लगाने का भरोसा दिलाया था, लेकिन कुछ जगहों पर टावर लगाने के बाद कार्य को बंद कर दिया गया जिससे यहां आए दिन तारों में उलझने से पक्षियों की मौत हो रही है।
- राधेश्याम पैमाणी संयोजक, अखिल भारतीय विश्नोई सभा

Show More
jitendra changani Desk/Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned