scriptEnglish medium school will not open in the marginal district | सीमांत जिले में अंग्रेजी माध्यम की नहीं खुलेगी स्कूल! | Patrika News

सीमांत जिले में अंग्रेजी माध्यम की नहीं खुलेगी स्कूल!

- १९४ अंग्रेजी माध्यम की स्कूलों की स्थापना में जैसलमेर दरकिनार
- ऐसे तो शिक्षा के क्षेत्र में पिछड़ा ही रहेगा जैसलमेर

जैसलमेर

Published: January 11, 2022 06:33:53 pm

जैसलमेर। सरकारी स्तर पर अंग्रेजी माध्यम की शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए राज्य सरकार ने साढ़े तीन सौ से ज्यादा नए स्कूलों की स्थापना की घोषणा के सिलसिले में १९४ नए स्कूलों में प्रधानाचार्यों की सूची भी जारी कर दी गई। शिक्षा विभाग की ओर से जारी इस सूची में सीमांत जैसलमेर जिले में एक भी अंग्रेजी माध्यम के नवस्थापित स्कूल शामिल नहीं है। जबकि जिले में आधा दर्जन जगहों नोख, मोहनगढ़, भणियाणा, रामदेवरा, चांधन और सम का चयन अंग्रेजी माध्यम के स्कूल खोलने के लिए किया जा चुका है। दरअसल सरकार ने इन स्कूलों में प्रधानाचार्य के पद पर नियुक्ति साक्षात्कार के आधार पर करने की नीति बनाई हुई है। यह जैसलमेर जिले का दुर्भाग्य ही है कि यहां की भौगोलिक दूरियों व विषमताओं के मद्देनजर एक भी प्रधानाचार्य साक्षात्कार देने के लिए नहीं पहुंचा। इसके चलते व सरकारी स्तर पर जैसलमेर के प्रति उपेक्षा भाव ने आगामी सत्र में अंग्रेजी माध्यम के जिले में नए स्कूल की स्थापना की राह में अवरोध उत्पन्न कर दिया है। गौरतलब है कि राजस्थान सरकार ने ब्लॉक स्तर पर एक-एक महात्मा गांधी अंग्रेजी माध्यमिक स्कूल के लिए सरकार ने स्कूल घोषित किए थे। नवम्बर में साक्षात्कार की प्रकिया हुई।
पहले भी हुई है उपेक्षा
शिक्षा के स्तर पर जैसलमेर जिले की उपेक्षा का यह कोई पहला उदाहरण नहीं है। स्टाफिंग पैटर्न पुनर्निर्धारण में भी जैसलमेर को उपेक्षा का दंश झेलना पड़ा था। माध्यमिक शिक्षा में स्टाफिंग पैटर्न आज तक नहीं हुआ है और प्रारंभिक शिक्षा में जो स्टाफिंग पैटर्न हुआ वह जनसंख्या और विद्यार्थियों के नामांकन को आधार बनाकर किया गया। जबकि जैसलमेर की भौगोलिक परिस्थितियां अलग है। इसके कारण पूर्ण रूप से शिक्षक जिले को प्राप्त नहीं हो रहे हैं। जैसलमेर में तृतीय भाषा के पद सर्जन को लेकर अनेक प्रकार की विसंगतियां है जिन पर विभाग ने आज तक कोई कार्रवाई नहीं की। शिक्षा विभाग ने जैसलमेर के प्रति कोई संज्ञान नहीं लिया गया और स्टाफिंग पैटर्न में वही मापदंड रखा गया जो अलवर, जयपुर, अजमेर जिलों में रखा गया। हाल ही में जारी स्टाफिंग पैटर्न में सबसे कम पदों का सर्जन जैसलमेर जिले में हुआ जबकि शिक्षा के स्तर में जैसलमेर सबसे निचले पायदान पर है।
नवम्बर में हुए थे साक्षात्कार
अंग्रेजी माध्यम के 345 में से 194 स्कूलों में प्रधानाचार्य लगाए गए हैं और सूची जारी की गई। जिसमें जैसलमेर का एक भी विद्यालय शामिल नहीं है। जैसलमेर में महात्मा गांधी अंग्रेजी माध्यम स्कूल का सपना सपना ही रहेगा। जैसलमेर में अभिभावक यह सपना पाले हुए थे कि उन्हें अंग्रेजी माध्यम में बच्चों को पढ़ाने का अवसर मिलेगा।
सीमांत जिले में अंग्रेजी माध्यम की नहीं खुलेगी स्कूल!
सीमांत जिले में अंग्रेजी माध्यम की नहीं खुलेगी स्कूल!
निदेशालय के स्तर का मामला
नए अंग्रेजी माध्यम के स्कूलों में प्रधानाचार्य पद के लिए जारी हुई सूची में जैसलमेर के शामिल नहीं होने के संबंध में मैं जिला शिक्षा अधिकारी से जानकारी लूंगा।
- आरके बैरवा, मुख्य जिला शिक्षा अधिकारी जैसलमेर
जिले को रखा गया वंचित
यह इतिहास में पहला उदाहरण है एक पूरे जिले को वंचित रखा गया है। शिक्षा के क्षेत्र में जैसलमेर के साथ हमेशा अन्याय होता आया है। चाहे स्टाफिंग पैटर्न हो, नए स्कूल हो, कामचलाऊ शिक्षा अधिकारी का मामला हो। शिक्षक तबादला सूची में सबसे छोटी लिस्ट भी जैसलमेर की रहती है। इस बार उम्मीद थीं, मगर घोर अन्याय हुआ है। राज्य सरकार के मुखिया को ज्ञापन देंगे।
- प्रकाश विश्नोई, प्रदेश मंत्री, राज. शिक्षक एवं पंचायतीराज कर्मचारी संघ

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

इन नाम वाली लड़कियां चमका सकती हैं ससुराल वालों की किस्मत, होती हैं भाग्यशालीजब हनीमून पर ताहिरा का ब्रेस्ट मिल्क पी गए थे आयुष्मान खुराना, बताया था पौष्टिकIndian Railways : अब ट्रेन में यात्रा करना मुश्किल, रेलवे ने जारी की नयी गाइडलाइन, ज़रूर पढ़ें ये नियमधन-संपत्ति के मामले में बेहद लकी माने जाते हैं इन बर्थ डेट वाले लोग, देखें क्या आप भी हैं इनमें शामिलइन 4 राशि की लड़कियों के सबसे ज्यादा दीवाने माने जाते हैं लड़के, पति के दिल पर करती हैं राजशेखावाटी सहित राजस्थान के 12 जिलों में होगी बरसातदिल्ली-एनसीआर में बनेंगे छह नए मेट्रो कॉरिडोर, जानिए पूरी प्लानिंगयदि ये रत्न कर जाए सूट तो 30 दिनों के अंदर दिखा देता है अपना कमाल, इन राशियों के लिए सबसे शुभ

बड़ी खबरें

Azadi Ka Amrit Mahotsav में बोले पीएम मोदी- ये ज्ञान, शोध और इनोवेशन का वक्तपाकिस्तान के लाहौर में जोरदार बम धमाका, तीन की नौत, कई घायलNEET UG PG Counselling 2021: सुप्रीम कोर्ट ने कहा- नीट में OBC आरक्षण देने का फैसला सही, सामाजिक न्‍याय के लिए आरक्षण जरूरीटोंगा ज्वालामुखी विस्फोट का भारत पर भी पड़ सकता है प्रभाव! जानिए सबसे पहले कहां दिखा असरCorona cases in India: कोरोना ने तोड़ा 8 महीने का रिकॉर्ड; 24 घंटे में 3 लाख से ज्यादा कोरोना के नए केस, मौत का आंकड़ा 450 के पारराहुल गांधी से लेकर गहलोत तक कांग्रेस के नेता देश के विपरीत भाषा बोलते हैं : पूनियांश्रीलंकाई नौसेना जहाज की भारतीय मछुआरों के नौका से टक्कर, सात मछुआरे बाल बाल बचेटीआई-लेडी कॉन्स्टेबल की लव स्टोरी से विभाग में हड़कंप, दो बच्चों का पिता है टीआई
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.