मध्यप्रदेश से 11 वर्ष पूर्व लापता युवक से मिले परिजन, छलक पड़े आंसू

- आश्रम के व्यवस्थापक व समाजसेवी ने की देखरेख

By: Deepak Vyas

Published: 22 Jun 2020, 10:16 PM IST

पोकरण. मध्यप्रदेश के बालाघाट से 11 वर्ष पूर्व लापता हुए मंदबुद्धि का एक युवक परिजनों को पुन: मिला। इस दौरान परिजनों के आंखों से आंसू छलक उठे। माता ने अपने बच्चे को गले लगाया, तो उसके आंसू छूट पड़े तथा यहां खड़े लोग भी अपने आंसू रोक नहीं पाए। गौरतलब है कि मध्यप्रदेश के बालाघाट निवासी लालू मंदबुद्धि का युवक है। वर्ष 2009 में परिजनों से परेशान होकर वह घर से निकल पड़ा। वह दिव्यांग भी है और बोलने में असमर्थ है। वह किसी तरह पोकरण पहुंच गया। यहां नेपालेश्वर महादेव मंदिर के पास भूखा-प्यासा बैठा देख, मंदिर व यहां संचालित आश्रम के व्यवस्थापक पुखराज दवे उर्फ कालू महाराज ने उसे आश्रम में जगह दी। गत 11 वर्षों से लालू को प्रतिदिन शौच आदि से निवृत करवाने, स्नान करवाने, भोजन आदि की व्यवस्था कालू महाराज की ओर से ही की जा रही थी। इसी प्रकार आश्रम के पास निवास कर रहे रामस्वरूप गुचिया की ओर से भी उसके लिए भोजन आदि की व्यवस्था की जाती थी। इसके अलावा जब वह युवक इधर उधर निकल जाता, तो स्थानीय लोग भी उसकी मदद करते। गत दिनों वह सड़क दुर्घटना में घायल हो गया। जिसका अस्पताल में उपचार करवाया गया। आश्रम के व्यवस्थापक कालू महाराज व उनके सहयोगियों मुकेश माली सहित युवाओं ने लालू के परिजनों को खोजने के लिए अभियान शुरू किया। सोशल मीडिया के माध्यम से उन्होंने मध्यप्रदेश के बालाघाट के जिला कलक्टर से बातचीत कर परिजनों को खोज निकाला।
...और छलक पड़े आंसू
लालू की मां व भाई रविवार शाम पोकरण पहुंचे। 11 वर्षों बाद अपने पुत्र से मिलने पर मां की आंखों से आंसू छलक उठे और अपने बेटे को गले लगा दिया। यह नजारा देख आसपास खड़े लोगों की आंखों से खुशी के कारण आंसू निकल पड़े। परिजनों की माली हालत को देखते हुए स्थानीय लोगों की ओर से 20 हजार रुपए की आर्थिक सहायता राशि एकत्र कर उन्हें दी गई और यहां से रवाना किया गया।

Deepak Vyas Bureau Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned