परमाणु नगरी में नगर निकाय चुनाव का संग्राम, पांच नए वार्डों को मिलेंगे पार्षद

- अध्यक्ष पद के लिए इस बार कड़ा मुकाबला होना तय
- 25 वार्ड के लिए चुनाव, दोनों पार्टियां अंतर्कलह से ग्रस्त
- दावेदार जुटे जोड़-तोड़ में, 11 को होगा नामांकन

By: Deepak Vyas

Published: 09 Jan 2021, 08:49 PM IST

पोकरण. परमाणु नगरी पोकरण नगरपालिका के चुनाव पिछले विधानसभा चुनाव की तरह कांटे की टक्कर वाले होते प्रतीत हो रहे हंै। चुनाव तारीखों का ऐलान होने के बाद चर्चाओं का बाजार गरम है और मुकाबला भी कड़ा होता नजर आ रहा है। हालांकि नामांकन प्रक्रिया 11 जनवरी को शुरू होगी, लेकिन दावेदार अपने दस्तावेज तैयार करने में जुट गए हैं। गौरतलब है कि पोकरण नगरपालिका की स्थापना आजादी से पूर्व वर्ष 1936 में हुई थी। 'डीÓ श्रेणी वाले इस स्थानीय निकाय में गत चुनाव में 20 वार्ड थे। इस बार परिसीमन से पांच वार्डों की बढ़ोतरी हुई है तथा अब इनकी संख्या बढ़कर 25 हो गई है। 11 वर्षों तक पोकरण नगरपालिका में भाजपा के बोर्ड के बाद गत 2015 में यहां कांग्रेस का बोर्ड बना। कांग्रेस इस बार भी अपना बोर्ड बनाने के लिए जी तोड़ प्रयास कर रही है। पार्टी अपना नगरपालिका अध्यक्ष बनाकर शहरी क्षेत्र में वर्चस्व दिखाना चाहती है। दूसरी तरफ भाजपा मौजूदा कांग्रेस बोर्ड की असफलताओं को गिनाते हुए सत्ता विरोधी हवा बनाकर मतदाताओं को रिझाने तथा बहुमत प्राप्त कर अपना बोर्ड बनाने के लिए प्रयासरत है।
अंदरुनी लड़ाई से जूझ रहे दोनों दल
पोकरण में कांग्रेस और भाजपा दोनों पार्टियां अंतर्कलह से जूझ रही हैं। कांग्रेस व भाजपा में अध्यक्ष पद के तीन-तीन दावेदार चुनाव मैदान में उतरने की रणनीति बना रहे हैं। विशेष बात यह है कि इन दावेदारों के बीच आपसी प्रतिस्पद्र्धा होने के चलते एक दूसरे को हराने के प्रयास भी देखने में आ सकते हैं। जिसका सीधा असर पार्टियों के चुनाव प्रदर्शन पर पडऩा तय है। ये दावेदार अपनी जीत की बजाय अन्य वार्डों में खड़े अपने प्रतिद्वंद्वी को हराने की मशक्कत करते नजर आ रहे हैं। अंदरुनी लड़ाई के कारण दोनों पार्टियों को नुकसान होता नजर आ रहा है। वहीं, यह लड़ाई चुनाव को रोचक भी बना रही है।
समर्थकों को टिकट दिलाने के लिए मशक्कत
दोनों पार्टियों में अध्यक्ष के दावेदारों की संख्या बढ़ जाने से वे अपने चहेतों को टिकट दिलाने की मशक्कत करते देखे जा सकते हैं। उनका मानना है कि यदि पार्टी अन्य को टिकट देती है, तो वे बहुमत के समय उनके साथ चलने को तैयार होंगे या नहीं। ऐसे में अध्यक्ष पद के दावेदार सभी वार्डों में अपने आदमी तैयार करते देखे जा सकते हैं। साथ ही ये दावेदार अपनी पार्टियों के बड़े नेताओं से टिकट की गुहार लगा रहे हैं। नगरपालिका चुनाव की तिथियों की घोषणा होने के साथ बड़े नेताओं के घर दावेदारों का तांता लगा रहा है। विशेष रूप से रात के समय दावेदार नेताओं के घर पहुंचकर उन्हें अपनी जीत का गणित बता रहे हैं और टिकट की मांग कर रहे हैं।

Deepak Vyas Bureau Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned