जैसलमेर में मूसलाधार बारिश, कई गांवों का सम्पर्क टूटा, कच्चे मकानों को क्षति

सीमावर्ती जैसलमेर जिले के ग्रामीण क्षेत्रों में भारी वर्षा का दौर शनिवार को भी जारी रहा। इस वजह से कई गांवों में पानी भर गया और कच्चे मकानों को क्षति पहुंची।

By: kamlesh

Published: 05 Sep 2020, 07:33 PM IST

जैसलमेर। सीमावर्ती जैसलमेर जिले के ग्रामीण क्षेत्रों में भारी वर्षा का दौर शनिवार को भी जारी रहा। इस वजह से कई गांवों में पानी भर गया और कच्चे मकानों को क्षति पहुंची।

बरसाती पानी से खेत, सड़कें, खड़ीन और नाडियां लबालब हो गई हैं। रामगढ़ और सम क्षेत्र की कई सड़कों पर पूरी तरह से पानी भर जाने के चलते गांवों का सम्पर्क टूट गया है।

इसके अलावा जोधपुर मार्ग पर बासनपीर, चांधन, लाठी, चाचा, सोढ़ाकोर और पोकरण उपखंड क्षेत्र के कई क्षेत्रों में मूसलाधार बारिश शाम तक जारी थी। जिला मुख्यालय के समीपस्थ डाबला और उससे लगते गांवों में व्यापक बरसात हुई।

जैसलमेर तहसील पर रेनगेज स्टेशनों पर हुई बारिश की जानकारी के अनुसार सुबह 8 से सायं 5 बजे तक नोख में 8, फतेहगढ़ में 15, रामगढ़ में 41, पोकरण में 53 मिलीमीटर बारिश हुई।

शुक्रवार दोपहर हुई बारिश के बाद पोकरण से जोधपुर जाने वाले मार्ग पर कालीमगरी फांटा से दक्षिण दिशा में स्थित मांगोलाई व पाउपाडिया गांव के आठ खड़ीन टूट गए। जिसके कारण कई ढाणियों के आसपास पानी जमा हो गया।

रात के समय यहां बाढ़ के हालात उत्पन्न हो गए। शनिवार को अधिकारियों की ओर से राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 125 की सड़क को तोड़कर पानी को निकाला गया और पोकरण रिण में पानी की निकासी की गई।

ग्रामीण हुए परेशान, 10 बकरियों की मौत
पानी जमा होने के कारण ढाणियों के ग्रामीणों में अफरा तफरी मच गई। तेज बहाव के साथ बहते पानी के कारण मांगोलाई के आसपास निवास कर रहे पशुपालकों की 10 बकरियां भी पानी के साथ बह गई और काल का ग्रास हो गई।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned