scriptHeavy vehicle entered the crowd, there is a possibility of accident ev | भीड़ में प्रवेश कर गया भारी वाहन, आए दिन तेज गति से रहती है हादसे की आशंका | Patrika News

भीड़ में प्रवेश कर गया भारी वाहन, आए दिन तेज गति से रहती है हादसे की आशंका

तेज गति पर कैसे लगे लगाम?

जैसलमेर

Updated: May 02, 2022 07:32:57 pm

पोकरण. सरहदी जिले की परमाणु नगरी पोकरण का मुख्य चौराहा तथा जैसलमेर रोड व जोधपुर रोड अतिव्यस्ततम मार्गों में से एक है। दिन में यहां भारी वाहनों का प्रवेश निषेध गया है, लेकिन पुलिस से आंख बचाकर ऐसे भारी वाहन आए दिन कस्बे में प्रवेश कर जाते है। यही नहीं प्रवेश के बाद तेज गति से मुख्य चौराहे से निकालते है। जिससे हर समय हादसे की आशंका बनी रहती है। रविवार को भी दोपहर एक ऐसा ही ट्रक कस्बे में घुस आया तथा बाइक सवार को चपेट में ले लिया। जिससे युवक की मौत हो गई। गौरतलब है कि परमाणु नगरी पोकरण स्वर्णनगरी जैसलमेर का प्रवेश द्वार है। जैसलमेर जाने वाले वाहन पोकरण होकर ही गुजरते है। इसके अलावा रामदेवरा में बाबा रामदेव की समाधि के दर्शनों के लिए भी जाने वाले श्रद्धालु भी पोकरण से निकलते है। ऐसे में दिनभर चौराहे पर वाहनों की रेलमपेल लगी रहती है। पोकरण के आसपास ग्रामीण क्षेत्रों से प्रतिदिन बड़ी संख्या में लोग खरीदारी के लिए पोकरण आते है। जिससे चौराहे पर पूरे दिन आमजन की भीड़ देखी जा सकती है। इस कारण फलसूण्ड तिराहे से जैसलमेर रोड मदरसे तक भारी वाहनों के प्रवेश पर दिन में प्रतिबंध लगाया गया है, ताकि कोई हादसा नहीं हो, लेकिन बड़े वाहनों के चालक किसी तरह कस्बे में प्रवेश कर जाते है और हादसे का सबब बन जाते है।
दोपहर में घुस आते है वाहन
सुबह आठ बजे यातायात पुलिसकर्मी मुख्य चौराहे व कस्बे के मुख्य मार्गों पर तैनात हो जाते है। ऐसे में कस्बे में प्रवेश करने वाले भारी वाहनों को बाईपास कर देते है और कस्बे में नहीं घुसने देते। दोपहर के समय जब यातायात पुलिसकर्मी भोजन के लिए चले जाते है तो ऐसे वाहन चालक आंख बचाकर कस्बे में प्रवेश कर जाते है। इसके बाद तेज गति से सड़क पर वाहन को दौड़ाते है। जिसके कारण कई बार किसी वाहन के चपेट में आने से हादसे हो जाते है।
बाईपास बना, उपयोग कम
जोधपुर-जैसलमेर राष्ट्रीय राजमार्ग से गुजरने वाले वाहनों के लिए एनएचएआइ की ओर से बाईपास मार्ग का निर्माण अवश्य करवाया गया है, लेकिन पर्यटकों के अलावा कोई वाहन इस बाईपास का उपयोग नहीं करता है। जिसके कारण कस्बे में वाहनों की भीड़ हो जाती है। यदि बाईपास मार्ग का उपयोग हो जाए तो कस्बे में वाहनों की भीड़ कम हो सकती है।
हादसे के बाद चेते जिम्मेदार
कस्बे के भीतरी भागों में वाहनों के आने तथा तेज गति से यहां से वाहन निकालने का दौर लंबे समय से चल रहा है, लेकिन जिम्मेदार कोई ध्यान नहीं दे रहे थे। रविवार को हुए हादसे के बाद सोमवार को यातायात पुलिस सचेत नजर आई। पुलिस की ओर से यहां सड़क पर खड़े वाहनों को दूर किया गया तथा भारी वाहनों को कस्बे से बाहर होकर संचालित करवाया गया। यही चुस्ती यातायात पुलिस लगातार रखती है तो कस्बे की यातायात व्यवस्था में काफी हद तक सुधार हो सकता है और हादसों पर भी लगाम लग सकती है।
भीड़ में प्रवेश कर गया भारी वाहन, आए दिन तेज गति से रहती है हादसे की आशंका
भीड़ में प्रवेश कर गया भारी वाहन, आए दिन तेज गति से रहती है हादसे की आशंका

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

17 जनवरी 2023 तक 4 राशियों पर रहेगी 'शनि' की कृपा दृष्टि, जानें क्या मिलेगा लाभकिसी भी महीने की इन तीन तारीखों में जन्मे बच्चे होते हैं बेहद शार्प माइंड, लाइफ में करते हैं बड़ा कामसूर्य-बुध की युति से बनेगा ‘बुधादित्य’ राजयोग, जानिए किसकी चमकेगी किस्मत?दिल्ली के सरकारी स्कूलों में सिर्फ 15 दिन का समर वेकेशन, जानिए प्राइवेट स्कूलों को लेकर क्या हुआ फैसला17 मई से 3 राशि वालों के खुलेंगे भाग, मंगल का मीन में गोचर दिलाएगा अपार सफलता2023 तक मीन राशि में रहेगा 'जुपिटर ग्रह', 3 राशियों की धन-दौलत में करेगा जबरदस्त वृद्धिगेहूं के दामों में जोरदार उछाल, एक माह में बढ़े 300 रुपए क्विंटलजमकर बिकी Tata की ये किफायती SUV! एडवांस फीचर्स और 5 स्टार सेफ़्टी के आगे फेल हुएं सभी

बड़ी खबरें

चिंतन शिविर को लेकर बोले सचिन पायलट, 'मंथन के बाद नए स्वरूप में सामने आएगी कांग्रेस'हिजाब विवाद के बीच अब मेरठ में कुर्ता पजामा पर बवाल, परीक्षा देने आए छात्र को पीटाडॉ. माणिक साहा बने त्रिपुरा के नए मुख्यमंत्री, 11 महीने बाद ही राज्य में होना है विधानसभा चुनावIPL 2022 KKR vs SRH Live Updates: आंद्रे रसल के तूफान में उड़ा हैदराबाद, कोलकाता ने 54 रनों से जीता मैच7th Pay Commission: सरकार ने की इन सरकारी कर्मचारियों की पेंशन में 13% बढ़ोतरीकौन हैं माणिक साहा जो होंगे त्रिपुरा के नए मुख्यमंत्रीबिहार में नितिन गडकरी ने कोईलवर सिक्सलेन पुल का किया उद्धाटन, नीतीश कुमार को नहीं दिया निमंत्रणमुठभेड़ के 12 घंटे के अंदर शिकारियों के घरों पर चलाया बुलडोजर
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.