scriptHindu society has been worshiper of Shakti for centuries: Vasudev | सदियों से हिन्दू समाज शक्ति का उपासक रहा है: वासुदेव | Patrika News

सदियों से हिन्दू समाज शक्ति का उपासक रहा है: वासुदेव

locationजैसलमेरPublished: Oct 05, 2022 08:46:58 pm

Submitted by:

Deepak Vyas

सदियों से हिन्दू समाज शक्ति का उपासक रहा है: वासुदेव

सदियों से हिन्दू समाज शक्ति का उपासक रहा है: वासुदेव
सदियों से हिन्दू समाज शक्ति का उपासक रहा है: वासुदेव
जैसलमेर. सीमाजन कल्याण समिति की चांधन तहसील के हमीरा शक्तिकेन्द्र पर आयोजित शक्ति पूजन कार्यक्रम को संबोधित करते हुए सीमाजन कल्याण समिति जिला संगठन मंत्री वासुदेव ने कहा कि शस्त्र पूजन की परम्परा हमारी सनातन परम्परा रही हैं। हिन्दू समाज सदियों से शक्ति का आह्वान तथा शक्ति संचय का कार्य नवरात्रा में करता हैं। हम उस परम्परा को विस्मृत न करे यह प्रयास सीमाजन कल्याण समिति कर रही हैं। पुराने समय में हमारे समाज ने ऐसी व्यवस्था बना रखी थी कि कोई गरीबए असहाय व निर्बल को सता नहीं सके। कार्यक्रम का संचालक जिला युवा आयम रावल सिंह बडोडा गांव ने कहा कि हिंदुस्तान की संस्कृति और सभ्यता हमारा गौरव हैं। उसका संरक्षण करके हम अपनी आने वाली पीढ़ी में संस्कार निर्माण कर सकते है। कल्याण मंत्र द्वारा कार्यक्रम का विधिवत समापन किया गया।
सुमेरसिंह हमीरा ने बताया कि कार्यक्रम में हमीरा के सरपंच तुलछसिंह, पदमसिंह, मोहनसिंह, विक्रमसिंह सोढ़ा, चंद्रवीरसिंह, नरेन्द्र दैया, वीरेन्द्रसिंह, नरेन्द्रसिंह, जुंझारसिंह, राणसिंह, हरीसिंह, हुकमसिंह, देवीसिंह, रतनसिंह, झब्बरसिंह, राजूसिंह, मूलसिंह, भोपालसिंह, हरीसिंह, रणवीरसिंह आदि अनेक युवा उपस्थित थे। सीमाजन कल्याण समिति के तहसील अध्यक्ष कंवराजसिंह ने बताया कि इसके अलावा सोढ़ाकोर और थईयात में भी शस्त्र पूजन के कार्यक्रम आयोजित किए गए। जैसलमेर तहसील मंत्री भोमसिंह ने बताया कि जिला मंत्री भूरसिंह और संगठन मंत्री वासुदेव के सानिध्य में कोटड़ी शक्ति केंद्र, खुहड़ी, जानरा में शस्त्र पूजन कार्यक्रम आयोजित किया गया। दलपतसिंह सलखा ने बताया कि सलखा में भी शस्त्र पूजन का कार्यक्रम आयोजित किया गया। इसी क्रम में म्याजलार तहसील के म्याजलार शक्ति केन्द्र के म्याजलार ग्राम इकाई में शस्त्र पूजन कार्यक्रम का आयोजन किया गया। तहसील मंत्री ओंकारसिंह, सहमंत्री भोजाराम, सुल्तानसिंह, बख्तावरसिंह, रणवीरसिंह, समुंदरसिंह, अनवरसिंह, हेमंतसिंह, उम्मेदसिंह, विनोद, ओंकारसिंह, हनुमानाराम, मनोहरसिंह, गणपत, धर्मेंद्र, मोहनराम, हिंदूसिंह, प्रेमचंद उपस्थित रहे।
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.