Photo story in jaislamer- ‘मुस्लिम महिलाओं के लिए ऐतिहासिक दिन’

By: jitendra changani

Published: 22 Aug 2017, 09:56 PM IST

Jaisalmer,Rajasthan,India
1/3

निर्णय का सम्मान सर्वोच्च न्यायालय के निर्णय का सम्मान करते है। इससे महिलाओं को अपना हक मिलेगा। जहां तक धर्म का मामला है, सरियत को भी उस पर समीक्षा करने का अधिकार है। उसे भी मानना चाहिए। -अमतुल्लाह मेहर, प्रधान पंचायत समिति सांकड़ा, पोकरण।

जैसलमेर/ पोकरण. सुप्रीम कोर्ट की ओर से मंगलवार को तीन तलाक पर ऐतिहासिक फैसले के बाद स्थानीय स्तर पर भी मुस्लिम समाज के लोगों ने न्यायालय के फैसले का समर्थन करते हुए सरियत को इसकी समीक्षा करने की बात कही है। गौरतलब है कि वर्षों पूर्व मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड की ओर से तीन तलाक को लेकर न्यायालय में वाद दायर किया गया था। मंगलवार को सर्वोच्च न्यायालय के पांच जजों की पीठ ने इस मामले में सुनवाई करते हुए तीन तलाक को असंवैधानिक करार दिया तथा तीन-दो के बहुमत के साथ अपना फैसला सुनाया।इस फैसले पर देशभर से आ रही प्रतिक्रियाओं के साथ स्थानीय लोगों ने भी अपनी प्रतिक्रियाएं दी।


सर्वोच्च न्यायालय का निर्णय सर्वमान्य है। जिसका सभी को सम्मान करना चाहिए। महिलाओं के हकों को लेकर न्यायालय की ओर से ऐतिहासिक फैसला दिया गया है। जिससे महिलाओं को सम्मान मिलेगा।
-फिरोजखां मेहर, एडवोकेट, पोकरण।

 

 

मुस्लिम महिलाओं के लिए ऐतिहासिक दिन
सुप्रीम कोर्ट की ओर से ट्रिपल तलाक को असंवैधानिक करार दिए जाने का फैसला मुस्लिम महिलाओं व बच्चों के भविष्य को सुरक्षित करने वाला है। आज का दिन इन महिलाओं के लिए ऐतिहासिक है। मुस्लिम महिलाओं के मौलिक अधिकारों की रक्षा करने में आयोग सक्षम होगा।
-सुधा पुरोहित, अध्यक्ष, जिला महिला आयोग, जैसलमेर

Show More

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned