बासनपीर दक्षिणी में रेत में दबा मिला मकान

-पालीवाल सभ्यता का निर्माण होने की संभावना

By: Deepak Vyas

Published: 19 Sep 2021, 07:34 AM IST


जैसलमेर। जिले के बासनपीर दक्षिणी गांव में रेतीली जमीन की खुदाई में शनिवार को एक मकान का तलघर नजर आया है। यह पालीवाल सभ्यता का पूरा मकान होने की संभावना है। इसे देखने के लिए बड़ी संख्या में ग्रामीण मौके पर पहुंचे। बताया जाता है कि शनिवार को आंगनवाड़ी केंद्र के पास पौधरोपण के लिए जेसीबी से खुदाई किए जाने पर उक्त निर्माण की सीढिय़ां नजर आई। तहखाने का ज्यादातर हिस्सा जमीन में नीचे तक दबा हुआ है। गौरतलब है कि यह इलाका पूर्व में पालीवाल ब्राह्मणों का गांव था। जिसे करीब दो सौ साल पहले पालीवाल छोड़ गए थे। माना जा रहा है कि यहां जमीन के नीचे बहुत बड़ा मकान आया हुआ है। जिसकी सीढिय़ां भी हैं। अंदर विषैले जीव-जन्तुओं के होने की आशंका से ग्रामीण अंदर नहीं जा पा रहे। वैसे उनके बीच यह चर्चा भी है कि मकान के भीतर कोई खजाना गड़ा हो सकता है।
84 गांव थे पालीवालों के
जैसलमेर में करीब 200 साल पहले पालीवाल ब्राह्मणों के 84 गांव आबाद थे। बताया जाता है कि वे तत्कालीन दीवान सालिम सिंह के अत्याचारों से आजिज आकर एक ही रात में यहां से पलायन कर गए। उनकी समृद्धि और उन्नत जीवनशैली का जीवंत प्रमाण कुलधरा गांव को माना जाता है। जिसकी बसावट देखने हर साल लाखों सैलानी पहुंचते हैं।

Deepak Vyas Bureau Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned