डिग्गी में डूबने से पति-पत्नी व भाभी की मौत

- क्षेत्र में छाई शोक की लहर

By: Deepak Vyas

Published: 21 Feb 2021, 07:50 PM IST


पोकरण/नाचना. क्षेत्र की आकल का तला ग्राम पंचायत सरहद में चक नौ जेडब्ल्यूएम में स्थित एक मुरबे पर शुक्रवार शाम डिग्गी में डूबने से पति-पत्नी व भाभी की मौत हो गई। जिससे क्षेत्र में शोक की लहर छा गई। तीनों मृतकों के शवों को नाचना अस्पताल की मोर्चरी में रखवाया गया। शनिवार को पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों को सुपुर्द किए गए। गौरतलब है कि आकल का तला ग्राम पंचायत सरहद में चक नौ जेडब्ल्यूएम में प्रेमाराम भील अपने आवंटनसुदा मुरबे में ढाणी बनाकर परिवार सहित निवास करता है। करीब 20 वर्षों से उसका परिवार यहां काश्त कर रहा है। कुछ समय पूर्व ही ढाणी से कुछ मीटर की दूरी पर करीब 100 गुणा 100 फीट व 10 फीट गहरी कच्ची डिग्गी का निर्माण करवाकर उसमें पॉलिथीन लगाकर नहरी पानी संग्रह कर इंजिन से स्प्रंगलर पद्धति से खेती का कार्य शुरू किया गया। शुक्रवार शाम इसी डिग्गी में डूबने से परिवार के तीन सदस्यों की मौत हो गई।
सफाई करते गिरा रमेश, पत्नी व भाभी बचाने के प्रयास में डूबी
प्रेमाराम के छोटे पुत्र रमेश (22), उसकी पत्नी रानी (19) व बड़े पुत्र रिड़मलराम की पत्नी गवरी शुक्रवार शाम करीब पांच बजे डिग्गी पर पहुंचे। इंजिन चालू करने पर पाइप में पानी नहीं आने पर रमेश डिग्गी में उतरा और पाइप के पास काई व कचरा हटाने लगा। इस दौरान उसका पांव फिसल गया और वह गहरे पानी में चला गया। पास खड़ी रमेश की पत्नी रानी ने अपने पति को बचाने के लिए डिग्गी में छलांग लगा दी। इस दौरान भाभी गवरी भी दोनों को बचाने के लिए डिग्गी में उतरी, लेकिन तीनों गहरे पानी में चले गए और उनकी मौत हो गई।
पॉलिथिन पकड़कर बचाई पिता की जान
हादसे के दौरान ढाणी में बैठे प्रेमाराम व उसके पुत्र रिड़मलराम ने जब डिग्गी पर तीनों को नहीं देखा, तो दौड़कर डिग्गी के पास आए। डिग्गी में तीन जनों को गिरा देख पहले प्रेमाराम व बाद में रिड़मलराम ने भी डिग्गी में छलांग लगा दी। डिग्गी गहरी होने के कारण वे दोनों भी डूबने लगे, लेकिन रिड़मलराम ने जैसे-तैसे मशक्कत कर पॉलिथिन पकड़कर अपने पिता को बाहर निकाला और जान बचाई। इसके बाद वह स्वयं बाहर निकला।
डिग्गी तोड़कर निकाले शव, छा गया मातम
हादसे से ढाणी में अफरा तफरी मच गई। परिवारजनों की चीख-पुकार सुनकर आसपास क्षेत्र से मदनलाल, कपिल, ओमप्रकाश विश्रोई, लालदीन सहित बड़ी संख्या में लोग मौके पर पहुंचे। उन्होंने ट्रैक्टर से डिग्गी तोड़कर पानी निकाला तथा पांच-छह फीट गहरे पानी में कंटिली तार से डूबे तीन लोगों को बाहर निकाला, तब तक उनकी मौत हो चुकी थी। यहां उपस्थित लोगों ने परिवारजनों को सांत्वना दी और ढाढं़स बंधाया।
पोस्टमार्टम के बाद शव किए सुपुर्द
सूचना मिलने पर शुक्रवार देर रात नाचना पुलिस मौके पर पहुंची। पुलिस ने देर रात शवों को अपने कब्जे में लिया तथा नाचना अस्पताल की मोर्चरी में रखवाए। मृतक गवरी के पीहर पक्ष के लोग हमीरा गांव से शुक्रवार देर रात ही नाचना पहुंच गए। जबकि मृतक रानी के पीहर पक्ष के लोग जैमला फलोदी से शनिवार को दोपहर करीब एक बजे नाचना पहुंचे। यहां प्रेमाराम के पड़ौसियों व ग्रामीणों ने मृतका के पीहर पक्ष को घटना की जानकारी दी। इस दौरान नायब तहसीलदार गोविंदाराम भी नाचना अस्पताल पहुंचे और घटना की जानकारी दी। शनिवार को दोपहर तक अस्पताल की मोर्चरी में लोगों की भीड़ रही। पुलिस ने परिजनों की सहमति पर बिना पोस्टमार्टम करवाए शव उन्हें सुपुर्द किए।
छाई शोक की लहर
हंसी खुशी परिवार के लोग खेत पर काम कर रहे थे। काल का पहिया इस कद्र घूमा कि कुछ ही पल में परिवार के तीन सदस्यों की मौत की आगोश में समा गए। घटना से परिवार सहित ढाणी व आसपास क्षेत्र में शोक की लहर छा गई। पति-पत्नी व भाभी की मौत पर हर किसी ने दु:ख जताया। घटना के बाद अस्पताल में पहुंचे लोग भी परिवारजनों का रुदन देखकर अपने आंसू रोक नहीं सके। ग्रामीणों ने परिवारजनों को सांत्वना देकर ढाढ़ंस बंधाया।
की जा रही है जांच
मृतक महिलाओं के पीहर पक्ष के लोगों ने घटना की जानकारी ली तथा किसी भी प्रकार का शक नहीं जताया। जिस पर पुलिस ने लिखित सहमति पर बिना पोस्टमार्टम करवाए शव परिजनों को सुपुर्द कर दिए। साथ ही मर्ग दर्ज कर जांच उपखंड अधिकारी को सुपुर्द की गई है।
- रमेश ढाका, थानाधिकारी पुलिस थाना, नाचना।

Deepak Vyas Bureau Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned