scriptIf we were thirsty then we used to keep guarding now for the abandoned | JAISALMER NEWS- प्यासे थे तो करते थे रखवाली, अब छोड़ दिया खंडहर होने के लिए.. | Patrika News

JAISALMER NEWS- प्यासे थे तो करते थे रखवाली, अब छोड़ दिया खंडहर होने के लिए..

प्यासे थे तो करते थे रखवाली, अब विरासत की अनदेखी
- उपेक्षा के शिकार परंपरागत पेयजल स्रोत

जैसलमेर

Published: January 11, 2018 01:42:07 pm

जैसलमेर. फलसूण्ड क्षेत्र में पुराने कुएं व परम्परागत पेयजल स्रोत उपेक्षा के शिकार हो रहे हैं। उनका रख रखाव नहीं होने से परंपरागत स्रोत धीरे-धीरे अस्तित्व खोते जा रहे हैं। गौरतलब है कि इन्हीं कुओं व बेरियों की लोग रखवाली करते थे, लेकिन अब कोई आंख उठाकर भी नहीं देखता। इसके चलते वे अमावस्या व एकादशी को तालाबों व कुओं पर श्रमदान कर साफ सफाई करते थे। ऐसे नजारे नई सोच व वैज्ञानिक युग के साथ कहीं नजर नहीं आ रहे। इन्हीं कुओं व तालाब से क्षेत्र के हजारों लोग व पशु अपनी हलक तर करते थे। अब सार-संभाल नहीं होने से ये रेत में दफन होते जा रहे हैं।
सूखा था यह क्षेत्र
रेगिस्तान के घने रेत के टीलों के बीच बसे फलसूण्ड क्षेत्र में पानी की कमी के चलते यह क्षेत्र सूखा रहता था। लोगों को पानी के लिए मीलों का सफर तय कर अपने साधनों से पानी लाना पड़ता था। धीरे-धीरे इस क्षेत्र में पालीवाल समाज के लोगों ने अपना डेरा जमाया। उन्होंने इस क्षेत्र के लोगों को साथ लेकर नाडी, तालाब, कुओं व छोटी-छोटी बेरियों का निर्माण करवाया। इससे लोगों को पानी की समस्या से निजात मिली और इस क्षेत्र में आज दर्जनों कुएं, तालाब व बेरियां हैं। इससे लोग अपनी व पशुओं की प्यास बुझाते थे, लेकिन आज वे उपेक्षित हालत में हैं। फलसूण्ड गांव में पानी की बेरियां, दांतल में पुराना कुआं, फूलासर में नाडियां व पार, भीखोड़ाई में मीठड़ा तला से कई गांवों के लोगों की प्यास बुझती थी।

Jaisalmer patrika
Patrika news
Jaisalmer patrika
IMAGE CREDIT: patrika
यह हुई स्थिति
इस क्षेत्र की दर्जनों बेरियां, कुएं, तालाब, नाडी का उपयोग नहीं होने से ये रेत से अट गई हैं। कई जगह इनके बबूल की झाडिय़ों से घिर जाने से पारंपरिक पेयजल स्रोत और इनके लिए पुराने समय आवंटन आगोरों पर अतिक्रमण होने से अब यह सिमट कर गए हैं। यदि इन सभी से मुक्त करवा दिया जाए, तो पुन: ये पेयजल स्रोत के रूप में विकसित हो सकते हैं।
रातभर करते थे चौकीदारी
बुजुर्गों का कहना है कि पहले पानी के लिए लम्बा सफर तय करना पड़ता था। बाद में बेरियां बनाई तो 10 फीट तक गहरा पानी मिल गया। इन बेरियों पर पानी भरने के लिए दिनभर महिलाओं का जमघट रहता था। वहीं रात को पुरुष इन कुओं व बेरियों की चौकीदारी करते थे। सुबह जो पानी इक_ा होता उसे बारी-बारी से भरते थे, लेकिन अब इन स्रोतों का रख-रखाव तक नहीं हो रहा।
Jaisalmer patrika
IMAGE CREDIT: patrika

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

कोरोना: शनिवार रात्री से शुरू हुआ 30 घंटे का जन अनुशासन कफ्र्यूशाहरुख खान को अपना बेटा मानने वाले दिलीप कुमार की 6800 करोड़ की संपत्ति पर अब इस शख्स का हैं अधिकारजब 57 की उम्र में सनी देओल ने मचाई सनसनी, 38 साल छोटी एक्ट्रेस के साथ किए थे बोल्ड सीनMaruti Alto हुई टॉप 5 की लिस्ट से बाहर! इस कार पर देश ने दिखाया भरोसा, कम कीमत में देती है 32Km का माइलेज़UP School News: छुट्टियाँ खत्म यूपी में 17 जनवरी से खुलेंगे स्कूल! मैनेजमेंट बच्चों को स्कूल आने के लिए नहीं कर सकता बाध्यअब वायरल फ्लू का रूप लेने लगा कोरोना, रिकवरी के दिन भी घटेCM गहलोत ने लापरवाही करने वालों को चेताया, ओमिक्रॉन को हल्के में नहीं लें2022 का पहला ग्रहण 4 राशि वालों की जिंदगी में लाएगा बड़े बदलाव

बड़ी खबरें

Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.