JAISALMER NEWS- इतिहास पुरुषों की याद में बनी कलात्मक छत्तरियों की ऐसी दुर्दशा देख आपकी आंखें हो जाएंगी...

कलात्मक छतरियां उपेक्षा की शिकार

By: jitendra changani

Published: 10 Mar 2018, 10:02 PM IST

जैसलमेर . फतेहगढ़ उपखंड मुख्यालय सहित क्षेत्र के विभिन्न गांवों में स्थित प्राचीन छतरियां इन दिनों खंडहर में तब्दील हो रही है। दूसरी और इनके संरक्षण व मरम्मत को लेकर संबंधित विभाग की ओर से कोई रुचि नहीं ली जा रही है। गौरवशाली अतीत की गवाह इन छतरियों को सरकारी नजरें इनायत होने का इंतजार है। देखरेख नहीं होने से उपेक्षा का दंश झेल रही कई प्राचीन छतरियां जमींदोज होने के कगार पर पहुंच चुकी है। सरकारी अनदेखी के साथ ही जन उपेक्षा नें इनके अस्तित्व के लिए कोई ठोस कदम नहीं उठाया है।हालात यही बनें रहे तो वो दिन दूर नहीं जब गौरवशाली अतीत की गवाह गांव-गांव में बिखरी ये प्राचीन धरोहर बीते जमाने की बात बन रह जाएगी । सदियों पुरानी यह विरासत अपनी कलात्मकता के कारण यहां आने वाले देशी व विदेशी पर्यटकों सहित हर किसी का मन मोह लेती है। पीले पत्थरों पर की गई बारीक नक्काशी व कुशल कारीगरों की ओर से की गई कलाकारी को दूर से देेखते ही हर किसी को रिझाती है। सरकारी संरक्षण के अभाव के कारण उपखंड क्षेत्र के कई गांवों में सदियों पुरानी ऐतिहासिक व कलात्मक छतरियां अपनी दुर्दशा पर आंसू बहाने को मजबूर है। बुजुर्ग ग्रामीणों के अनुसार कस्बे सहित आसपास के विभिन्न गांवों में स्थित कई दशक पुरानी छतरियों पर प्राचीन समय में चौपालें लगती थी जहां पर गांव के बड़े-बुजुर्ग बैठकर गांव की समस्याओ व अन्य मुद्दों पर चर्चाएं करते थे, लेकिन अब यह पुराने दिनों की बात बन कर रह गई है। उपखंड मुख्यालय सहित आसपास के विभिन्न गांवों में स्थित ऐतिहासिक छतरियां प्राचीन किलों की संबंधित विभाग की ओर से रख-रखाव मरम्मत करवाई जाए तो इन्हें निहारने के लिए हर दिन देशी व विदेशी पर्यटकों की बाहर आने लगे जिसके जिसके कारण यहां पर्यटक व्यवसाय को पंख लग सकते है तथा स्थानीय लोगों ं को रोजगार सुलभ हो सकता है। उपखंड मुख्यालय सहित कोडियासर सांगड भीयासर मंडाई रामा रीवड़ी देवीकोट सांडा सान्धुवा सीतोड़ाई काठोड़ा सहित उपखंड क्षेत्र के कई गांवों में ऐतिहासिक धरोहरें है जिसके देखभाल व संरक्षण की आवश्यकता है, लेकिन संबंधित विभाग की उदासीनता के कारण ऐतिहासिक व प्राचीन धरोहरें कलात्मक छतरियां खस्ता हालत में है।संबंधित विभाग की उदासीनता के कारण यह दिनोंदिन खंडर में तब्दील हो रही है।

Jaisalmer patrika
IMAGE CREDIT: patrika
Show More
jitendra changani Desk/Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned