JAISALMER NEWS- जैसलमेर आए रिटायर्ड मेजर जनरल बख्सी पाकिस्तान से युद्ध की पैरवी कर गए...

पाकिस्तान को ऐसा सबक सिखाएं कि बोलती बंद हो जाए

By: jitendra changani

Updated: 20 Mar 2018, 08:22 PM IST

-रिटायर्ड मेजर जनरल ने पाकिस्तान पर नरमी दिखाने के लिए सरकार को घेरा
-कहा, कहने का नहीं अब कुछ कर दिखाने का समय

जैसलमेर . पड़ोसी देश पाकिस्तान पिछले तीस वर्ष से भारत के साथ छेडख़ानी करता आ रहा है और हमारी सरकार केवल बातें करती नजर आ रही है। अब कहने का नहीं, कर दिखाने का समय है। पाकिस्तान को ऐसा झटका देना होगा कि उसकी बोलती बंद हो जाए और वह हमें अंकल कहने पर मजबूर हो जाए। यह उद्गार रिटायर्ड मेजर जनरल जीडी बख्शी ने सोमवार को जैसलमेर दुर्ग के भ्रमण के दौरान स्थानीय पत्रकारों से बातचीत में प्रकट किए। उन्होंने कहा कि भारत 2003 में पाकिस्तान को करारा जवाब दे चुका है, तब वह कई वर्षों तक संघर्ष विराम का समझौता करने पर मजबूर हुआ था। अब वह एक बार फिर सीमा पार से निरंतर गोलाबारी करने में जुटा है। सरकार को उसके खिलाफ प्रभावी कार्रवाई करनी होगी अन्यथा उसकी विश्वसनीयता पर सवालिया निशान लगने शुरू हो जाएंगे। मेजर जनरल ने दावा किया कि, भारत के पास इतनी क्षमता है कि वह पाकिस्तान को मुंहतोड़ जवाब दे।
हथियार क्या नुमाइश के लिए हैं?
बख्शी ने पाकिस्तान के खिलाफ मीडियम तोपों के इस्तेमाल पर पाबंदी पर सवाल खड़ा करते हुए कहा कि हमने जो इतने हथियार खरीदे हैं, क्या वे गणतंत्र दिवस पर प्रदर्शन के लिए ही हैं? उन्होंने कहा कि पाकिस्तान की हरकतों से भारत के करीब 80 हजार जवान और आम लोग शहीद हो चुके हैं। उसके चार टुकड़े कर देने चाहिए। बख्शी ने माना कि, कश्मीर के मामले में भारत को केवल पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर वापस लेने के संबंध में ही बात करनी चाहिए। कश्मीर पर हमें रक्षात्मक होने की कतई जरूरत नहीं है। हमें तो उससे यही कहना चाहिए कि वह गैरकानूनी रूप से कश्मीर के जिस हिस्से पर कब्जा करके बैठा है, उसे कब खाली कर रहा है?

Jaisalmer patrika
IMAGE CREDIT: patrika

यूपीए पर सेना को कमजोर करने का आरोप

रिटायर्ड मेजर जनरल ने दस वर्ष तक देश में शासन करने वाली यूपीए सरकार पर देश की सेनाओं को कमजोर करने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि तत्कालीन रक्षा मंत्री एंटनी ने रक्षा सौदों में किसी किस्म का भ्रष्टाचार नहीं होने देने का दावा करते हुए कोई सौदा ही नहीं किया। इससे भारतीय वायुसेना को सबसे ज्यादा नुकसान हुआ। उसे मिग विमानों से लेकर एनसीए, रफाल और पांचवीं पीढ़ी के अत्याधुनिक लड़ाकू विमान आदि नहीं मिल सके। ऐसे ही थल सेना को जरूरी हथियार नहीं मिले। उन्होंने कहा कि हाल में भारत ने निजी क्षेत्र के साथ मिलकर जो गन बनाई है, वह दुनिया में सबसे बेहतरीन गन के रूप में सामने आई है। भारत के पास दिमाग की कमी नहीं है। जरूरत है तो उसके इस्तेमाल की।
सीमा क्षेत्र पर होनी चाहिए सतत निगाह
रिटायर्ड मेजर जनरल ने पाकिस्तान से सटे जैसलमेर जिले को महत्वपूर्ण बताते हुए कहा कि चीन वहां जो इकॉनोमिक्स कॉरिडोर बना रहा है, उसका एक सिरा कश्मीर व पंजाब तथा दूसरा जैसलमेर के तनोट व लोंगेवाला के सामने वाले क्षेत्र में है। हमें इस सीमावर्ती क्षेत्र पर निरंतर निगाह बनाए रखनी चाहिए ताकि इस क्षेत्र के मूल बाशिंदों को दुश्मन देश अपने साथ मिलाने की कुत्सित चाल नहीं चल सके। उन्होंने जैसलमेर क्षेत्र को सैनिकों व पूर्व सैनिकों के लिए तीर्थस्थल जैसा बताया।
दुर्गवासियों ने किया स्वागत
इससे पहले सोनार दुर्ग पहुंचने पर रिटायर्ड मेजर जनरल जीडी बख्शी का दशहरा चौक में स्थानीय दुर्गवासियों ने गर्मजोशी के साथ स्वागत किया। होटल व्यवसायी चंद्रशेखर श्रीपत ने शॉल ओढ़ाई, माल्यार्पण कर साफा पहनाया। अन्य लोगों ने उन पर पुष्प वर्षा की। बख्शी यहां से लक्ष्मीनाथ भगवान के मंदिर गए। वहां उन्होंने दर्शन किए तथा प्रसाद ग्रहण किया। कई लोगों ने उनके साथ फोटो खिंचवाए। बख्शी ने स्थानीय लोगों के साथ घूमने आए पर्यटकों के साथ बातचीत की। इस मौके पर भाजपा के कंवराजसिंह चौहान उनके साथ थे।

Jaislamer patrika
IMAGE CREDIT: patrika
Show More
jitendra changani Desk/Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned