Jaisalmer- प्रतिभाओं ने दिखाई ऐसे शारीरिक प्रतिभाएं कि देखते रह गए सब

By: jitendra changani

Published: 08 Nov 2017, 10:21 PM IST

Jaisalmer, Rajasthan, India

Rajasthan patrika

1/6

संविधान निर्माण में कई विद्वानों व स्वतंत्रता सैनानियों की भूमिका महत्वपूर्ण जैसलमेर. स्थानीय एस.बी.के राजकीय महाविद्यालय के युवा कौशल विकास प्रकोष्ठ के तत्वावधान में भारतीय संविधान की आधारभूत संकल्पना विषय पर व्याख्यान का आयोजन हुआ। प्राचार्य डॉ. जे. के. पुरोहित ने बताया कि काशी विद्यापीठ वाराणसी के राजनीति विज्ञान के पूर्व विभागाध्यक्ष प्रो. सतीश कुमार राव ने छात्र-छात्राओं को संबोधित किया। उन्होंने कहा कि भारतीय संविधान के निर्माण में डॉ. बीआर अम्बेडकर, जवाहर लाल नेहरू, सरदार वल्लभ भाई पटेल के साथ-साथ कई विद्वानों व स्वंतत्रता सेनानीयों की महत्पूर्ण भूमिका रही। इसमें भारतीय आदर्श, मूल्य, विचारधारा का एक लम्बा इतिहास जुड़ा हुआ है। इसे राजनीति दल बदलने का दुस्साहस नहीं कर सकते। हमारे संविधानिक लोकतंत्र के चार बुनियादी आधारों में राष्ट्रवाद, लोकतंत्रवाद, धर्मनिपेक्षकता एवं समाजवाद ने पुष्ट किया है। भारतीय राष्ट्रीय आंदोलन में लोकतंत्र की जो चेतना विकसित हुई वह आज फलीभूत हो रही है। आज हमारा लोकतंत्र शेष विश्व के लोकतंत्रों से अधिक मजबूत व टिकाऊ है। महाविद्यालय के प्राचार्य ने कहा कि विश्व के महत्पूर्ण लोकतंत्रों में भारतीय लोकतंत्र की गिनती होती हैै। डॉ. अशोक तंवर ने संबोधित किया। कार्यक्रम में प्रवीण कुमार चंदेल, संजीव कुमार वर्मा, एन.डी. प्रजापत, राजेन्द्र प्रसाद विकास केवलिया, ललित सुथार आदि उपस्थिति रहे।

Patrika
Show More

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned