जैसाणे में बढ़ने लगा वायु प्रदूषण का खतरा

जैसाणे में बढ़ने लगा वायु प्रदूषण का खतरा
jaisalmer

Mukesh Kumar Sharma | Publish: Jun, 04 2015 11:54:00 PM (IST) Jaisalmer, Rajasthan, India

सरहदी जैसलमेर जिले में इन दिनो डस्ट पॉल्युशन बढ़ता जा रहा है। इसके चलते अब एलर्जी व श्वास जनित

जैसलमेर।सरहदी जैसलमेर जिले में इन दिनो डस्ट पॉल्युशन बढ़ता जा रहा है। इसके चलते अब एलर्जी व श्वास जनित बीमारियां पांव पसारने लगी है। जैसलमेर में विगत सालों में हुए विकास के साथ-साथ यहां की आबोहवा में प्रदुषण का जहर भी घुला है। यहां कई ऎसे स्थान भी हैं, जहां श्वास लेना भी मुश्किल है।


जैसलमेर के रेलवे स्टेशन, रामगढ़, सोनू, हमीरा, मोहनगढ़ के लाइमस्टोन की खदानों के क्षेत्र के आस-पास व्याप्त डस्ट पोल्युशन सबसे अधिक हो रहा है। इन क्षेत्रों में आमजन के लिए श्वास लेना भी दुभर है। यही कारण है कि इन क्षेत्रों में संपर्क में आने वाले लोगों के स्वास्थ्य पर प्रतिकूल असर पड़ रहा है।

एलर्जी का दंश


जानकारो की माने तो प्रदूषण की चपेट में आने से सबसे पहले व्यक्ति में एलर्जी जनित बीमारियां बढ़ने लगी है। जुकाम, छींक से शुरूआत करने वाली ये बीमारियां आगे अस्थमा व टीबी जैसी गंभीर बीमारियों की जन्मदाता बन रही है।

इससे भी खतरा


जैसलमेर के लिए बायो वेस्ट पॉल्युशन भी खतरा बना हुआ है। बायोवेस्ट का उचित निस्तारण ही सही उपाय है, लेकिन लोगों को इसकी जानकारी नहीं होने से कईलोग इसे खुले में ही फेंक देते है।

पेड़ भी हो गए बदरंग


जैसलमेर के रेलवे स्टेशन के आस-पास इतना डस्ट पोल्युशन इतना है कि यहां लगे पेड़ भी बदरंग हो गए हैं। पॉल्युशन के कारण पेड़ो पर लगे पत्तो पर सफेद रंग देखा जा सकता है। यही हाल हमीरा के रेलवे स्टेशन का भी है।

कैसे मापें कितना प्रदूषण


प्रदूषण रोकने के लिए विभागीय स्तर पर कई दावे किए जाते रहे है, लेकिन सरहदी जैसलमेर में प्रदूषण की स्थिति का आंकलन भी नहीं किया जा रहा है। जिले में दस साल पहले कितना प्रदूषण था और वर्तमान में कितना प्रदूषण बढ़ा है। इसका आकलन करने के लिए यहां ना तो प्रदूषण मापने की मशीने है और ना ही कोई तकनीकी विशेषज्ञ अधिकारी ही है।

उजड़े उद्यानों का सहारा

जैसलमेर में पर्यावरण को शुद्ध बनाए रखने के लिए उद्यानों का सहारा है, लेकिन अधिकतर उद्यानों से हरीयाली गायब होने से सुबह के समय भी लोगों को पूरी तरह से शुद्ध हवा नहीं मिल पाती। जैसलमेर में बने उद्यान अधिकतर उजाड़ हो गए है। यहां लगे पेड़ देखरेख के अभाव में सूखने लगे है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned