JAISALMER NEWS- दो करोड़ की जमीन ले रही आजादी की सांस, बेडिय़ों से मुक्ति मिलने के बाद यह हुआ उसके साथ....

-पक्के अतिक्रमण पर चला बुलडोजर, नगरपरिषद की बड़ी कार्रवाई

By: jitendra changani

Published: 07 Apr 2018, 10:16 AM IST

दो करोड़ की जमीन को कराया मुक्त, तुरंत बाद बना दी सडक़
जैसलमेर. अतिक्रमणों और अवैध कब्जों पर ढीला रवैया अपनाए रखने के आरोपों के बीच गुरुवार को जैसलमेर नगरपरिषद ने बड़ी कार्रवाई करते हुए एयरफोर्स चौराहा के समीप पक्के अतिक्रमणों पर बुलडोजर से चढ़ाई कर उसे समतल कर दिया। बाजार भाव से करीब दो करोड़ रुपए की इस बेशकीमती जमीन को अतिक्रमण मुक्त करवाने के साथ ही नगरपरिषद की ओर से हाथोहाथ पक्की सडक़ का निर्माण करवाया गया ताकि भविष्य में फिर कोई इस जमीन पर कब्जा नहीं जमा सके। आयुक्त झब्बरसिंह चौहान की अगुवाई में नगरपरिषद के अतिक्रमण हटाओ दस्ते ने गुरुवार अलसुबह करीब साढ़े छह बजे से कार्रवाई को अंजाम देना शुरू कर दिया। इस मौके पर शहर कोतवाल देरावरसिंह के नेतृत्व में भारी पुलिस जाब्ता तैनात था। हालांकि परिषद की इस कार्रवाई का विशेष विरोध नहीं हुआ।
गोपनीय हुई कार्रवाई
नगरपरिषद की ओर से गुरुवार अलसुबह अतिक्रमण हटाने की यह बड़ी कार्रवाई गोपनीय ढंग से हुई।एक दिन पहले जिला एवं पुलिस प्रशासन को अवगत करवाया गया, जिसके लिए जिला कलक्टर ने नायब तहसीलदार भागीरथसिंह लखावत को मजिस्ट्रेट की जिम्मेदारी सौंपी थी। तडक़े नगरपरिषद का लगभग पूरा लवाजमा मौके पर पहुंच गया और देखते ही देखते बुलडोजर के पीले पंजों ने दो ढाबों व तीन दुकानों को धराशायी करना शुरू कर दिया। अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई के दौरान नगरपरिषद के ट्रेक्टरों में भर कर मलबा भी हटाया गया। सूचना मिलने पर अच्छी खासी तादाद में लोग वहां जमा होना शुरू हो गए, जिन्हें पुलिस ने घटनास्थल से दूर किया।
लगातार जारी रहेगी कार्रवाई
नगरपरिषद ने गुरुवार को एयरफोर्स चौराहा के पास से अतिक्रमण हटाया है, वैसी कार्रवाई भविष्य में भी जारी रहेगी। शहर में जहां भी नगरपरिषद की जमीन पर अतिक्रमण किया गया है, उसे मुक्त करवाएंगे। अतिक्रमणकारियों को स्वयं पहल करते हुए कब्जा छोड़ देना चाहिए, वरना परिषद ऐसा करते हुए उनसे हर्जाना भी वसूल करेगी।
- झब्बरसिंह चौहान, आयुक्त नगरपरिषद, जैसलमेर

Jaisalmer patrika
IMAGE CREDIT: patrika

यह था मामला
एयरफोर्स चौराहा के पास करीब 35 गुणा 40 वर्गफीट जमीन पर सत्तार खां नामक व्यक्ति का कब्जा था। उसे जब नगरपरिषद ने बेदखल करना चाहा तो उसने कब्जे के संबंध में पत्रावली पेश की और न्यायालय की शरण में भी गया।
-उसके मामले की सुनवाई नियमानुसार करते हुए नगरपरिषद ने उसके कागजातों को गलत पाया तथा नियमन के लायक नहीं माना। इसके बाद अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई की।
-जानकारी के अनुसार अतिक्रमी ने जमीन को अलग-अलग व्यक्तियों को किराये पर चढ़ा दिया था, जहां भोजनालय व दुकानों में व्यावसायिक गतिविधियां संचालित हो रही थी।
..और बन गई पक्की सडक़
-नगरपरिषद प्रशासन ने जमीन को अतिक्रमण मुक्त करवाने के साथ ही कार्रवाई के संपन्न होने पर पक्की सडक़ का निर्माण करवा दिया।
-सुबह तोडफ़ोड़ की कार्रवाई के दौरान ही सडक़ निर्माण के लिए कंकरीट व डामर आदि सामग्री तैयार रखी गई थी।
-पूर्व में हनुमान चौराहा को अतिक्रमण मुक्त करवाने के तुरंत बाद ही सडक़ का निर्माण करवाए जाने के चलते ही वह जगह और अतिक्रमणों व अवैध कब्जों की भेंट नहीं चढ़ पाई।

Show More
jitendra changani Desk/Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned