सरकारी अस्पताल में मशीन खराब, निजी जांच केंद्र वसूल रहे मनमाना शुल्क

-करीब दस दिन से अस्पताल में बंद सिटी स्कैन जांच
-निर्धारित राशि से ज्यादा वसूले जा रहे दाम, निय

By: Deepak Vyas

Published: 21 Oct 2020, 06:55 PM IST

जैसलमेर. कोरोना संक्रमण के भयभीत करने वाले माहौल के बीच जिला अस्पताल राजकीय जवाहर चिकित्सालय में सिटी स्कैन मशीन पिछले करीब दस दिनों से खराब है। उधर, जिला मुख्यालय पर स्थित निजी जांच केंद्र के संचालकों की ओर से राज्य सरकार की ओर से निर्धारित की गई दर से कहीं अधिक शुल्क लोगों से वसूले जाने की शिकायतें सामने आ रही हैं। दूसरी तरफ चिकित्सा एवं स्वास्थ्य महकमा इस सबसे बेखबर बना हुआ है। पत्रिका पड़ताल में यह बात सामने आई है कि राजकीय जवाहर चिकित्सालय में स्थापित सेंटर में सिटी स्कैन जांच केवल 800 रुपए में की जाती रही है। शेष राशि का पुनर्भरण सरकार संबंधित लैब को करती है। वहीं निजी केंद्र वालों ने शुल्क निर्धारित किए जाने से पहले 3500 से 4000 रुपए और अब 2700 से 3000 रुपए तक वसूले जा रहे हैं। कई लोगों ने बताया कि मांगने पर निजी केंद्र की ओर से वसूले गए शुल्क की रसीद भी नहीं दी जाती है। मौके पर पहुंची पत्रिका टीम को राजकीय जवाहर चिकित्सालय में मशीन संचालक ख्यालीराम गुर्जर ने बताया कि गत दिनों मशीन में तकनीकी खामी आ जाने से फिलहाल सिटी स्कैन नहीं किया जा रहा है। मशीन के आगामी कुछ दिनों में शुरू होने की बात कही जा रही है। शहर में औसतन 20-30 मरीजों द्वारा चिकित्सक की सलाह पर सिटी स्कैन करवाया जा रहा है। निजी केंद्र पर सरकारी आदेश के बावजूद ज्यादा शुल्क लिए जाने के संबंध में चिकित्सा एवं स्वास्थ्य महकमे के उच्चाधिकारियों को जानकारी करवाए जाने के बावजूद उन्होंने अब तक कोई कदम नहीं उठाया है। ऐसे में लोग निर्धारित राशि से ज्यादा चुकाने के लिए विवश बने हुए हैं।
यह दर की गई निर्धारित
राजस्थान के स्वास्थ्य विभाग की ओर से करीब 20 दिन पहले एचआर सिटी स्कैन जांच शुल्क के सबंध में आदेश जारी किए गए थे। इसके अनुसार प्रदेश में कोरोना मरीजों में फेफड़ों के गंभीर संक्रमण की निजी चिकित्सालयों व जांच प्रयोगशालाओं को नॉन-एनएबीएच, नेशनल एक्रिडिटेशन बोर्ड ऑफ हॉस्पिट, एनएबीएल, नेशनल एक्रिडिटेशन बोर्ड ऑफ टेस्टिंग लैब में एचआरसीटी स्कैन जांच के लिए निर्धारित शुल्क 1700 रुपए और एनएबीएच एनएबीएल लैब में एचआरसिटी स्कैन जांच के लिए यह शुल्क 1955 रुपए निर्धारित किया गया है। विभाग की ओर से जारी आदेश में यह भी कहा गया कि निर्धारित दरों से अधिक शुल्क लेने पर संबधित निजी चिकित्सालय व जांच प्रयोगशाला के विरुद्ध कड़ी कार्यवाही करने के लिए संबधित अधिकारियों को निर्देशित किया गया है।

जांच करवाएंगे
फेफड़ों की सिटी स्कैन जांच के लिए सरकार ने दर तय कर रखी है। जैसलमेर में निजी केन्द्र पर सिटी स्कैन कितनी राशि में की जा रही हैए इसकी जांच करवाएंगे।
-डॉ. बीके बारूपाल, सीएमएचओ,

Deepak Vyas Bureau Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned