Corona: पति के अंतिम दर्शन के लिए अब जा सकेगी मल्लू

-खेतों में काम करने आए थे, अब फंस गए

By: Deepak Vyas

Published: 18 Apr 2020, 08:42 PM IST

रामदेवरा. वे लॉक डाउन से पहले गरीब परिवार खेतों में काम करने के लिए आए थे, लेकिन अब यहां फंस गए। इस दौरान उनके पति की मौत हो गई इससे माहौल और गमगीन हो गया था। अब पोकरण उपखण्ड अधिकारी की तरफ से उन्हें जाने की अनुमति जारी की गई है। मध्य प्रदेश के गोंडा जिले के रहने वाले श्रमिक लॉक डाउन के कारण रामदेवरा में फंस गए थे, इस बीच 50 वर्षीय मल्लू बाई के पति की मौत गोंडा जिले में हो गई। सूचना मिलने पर महिला रामदेवरा में गत तीन दिन से भूखी प्यासी रो रही थी बिलख रही, साथ ही पति के अंतिम दर्शन करने के लिए जाने के को प्रशासन से गुहार लगाती रही।
लॉकडाउन में एक दूसरे से जुदा हुए
ऐसे में 50 वर्षीय महिला 3 दिनों से मूर्छित सी अवस्था में रामदेवरा के धर्मशाला में अपने दो बेटे वह एक बेटी के साथ अचेत पड़ी थी। जब कभी उसे होश आ जाता है तो वह अपने पति को याद करके रोने लगती है कि उसे अपने पति के अंतिम दर्शन करना भी नसीब नहीं हो रहा था। गांव में उसके पति की 3 दिनों से अंतिम क्रियाकर्म भी नही हो पाया था। रामदेवरा में दो छोटे बच्चे वह एक नाबालिग बालिका भी रो-रो कर अपने पिता को याद कर रहे थे।
कलेक्टर ने समझा पीडि़त का दद
प्रशासन से लगातार तीन दिनों से गुहार लगा रही मल्लू बाई महिला की पीड़ा अंतत जिला प्रशासन तक पहुंची तो जिला कलेक्टर नमित मेहता ने मानवीय संवेदनाओं को देखते हुए त्वरित प्रभाव से पोकरण उपखंड अधिकारी को आदेश दिए कि उस महिला को उसके पैतृक गांव तक जाने की अनुमति दी जाए। वह महिला अपने पति के अंतिम क्रियाकर्म कर सके। इसकी सूचना मिलते ही मृतक की पत्नी मल्लू बाई की आंखों से अश्रुधारा बह निकली। पीडि़त परिवार ने जिला प्रशासन का आभार जताया।

Deepak Vyas Bureau Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned