अब क्वारेंटीन के लिए नहीं रही जगह, घरों में किया जा रहा आइसोलेट

-दो दिनों में एक भी पॉजिटिव नहीं

By: Deepak Vyas

Published: 23 Apr 2020, 08:21 PM IST

पोकरण. चीन के वुहान शहर से शुरू होकर भारत-पाक अंतरराष्ट्रीय सीमा से सटे सीमावर्ती जैसलमेर जिले के परमाणु नगरी पोकरण तक पहुंचे कोरोना वायरस संक्रमण के बाद हॉटस्पोट बन चुके वार्ड संख्या एक, सात व आठ में गत दो दिनों से कोई भी नया पॉजिटिव सामने नहीं आया है। चिकित्सा विभाग की ओर से वार्डों में लगातार सर्वे के साथ स्क्रीनिंग कर नमूने लेने का कार्य किया जा रहा है। गौरतलब है कि गत 20 दिनों से पोकरण में कोरोना वायरस संक्रमितों के मिलने का दौर चल रहा है। अब तक पोकरण में 34 पॉजिटिव पाए गए है। प्रशासन, पुलिस व चिकित्सा विभाग पूरी तरह से मुस्तैदी के साथ कार्य कर रहे है। चिकित्सा विभाग की अलग-अलग टीमें सर्वे, स्क्रीनिंग करने के साथ नमूने लेने के कार्य कर रही है। बुधवार को वार्ड संख्या एक व अन्य जगहों से चिकित्सा विभाग की ओर से 132 नमूने लिए गए थे। गुरुवार को भी 40 से अधिक लोगों को अस्पताल लाया गया और उनके नमूने लेकर आइसोलेट करने की कार्रवाई की गई।
40 की रिपोर्ट आई नेगेटिव
चिकित्सा विभाग सूत्रों के अनुसार बीते दो दिनों में 130 से अधिक नमूने लेकर जांच के लिए भिजवाए गए थे। जोधपुर में कोरोना संक्रमितों के साथ जांच के लिए नमूनों की संख्या भी बढ़ जाने के कारण पोकरण के नमूनों की जांच गति धीरे हो गई है। बुधवार देर रात 40 जनों की रिपोर्ट प्राप्त हुई, जो सभी नेगेटिव पाए गए थे। जिससे चिकित्सा विभाग ने राहत की सांस ली है।
अब क्वारेंटीन के लिए नहीं रही जगह
गौरतलब है कि कोरोना वायरस संक्रमण के कारण जिन लोगों के नमूने लिए जाते है, उन्हें 14 दिनोंं तक क्वारेंटीन में रखा जाता है। इन लोगों की 14 दिनों में तीन बार जांच की जाती है। ऐसे में कोई व्यक्ति 14 दिनों में पॉजिटिव नहीं आ जाए, इस कारण एहतियात के तौर पर उन्हें क्वारेंटीन किया जाता है। चिकित्सा विभाग के सूत्र बताते है कि पोकरण में 34 पॉजिटिव मिलने के बाद उनके परिवारजनों, संपर्क में आए लोगों की पुलिस के सहयोग से कॉन्टेक्ट हिस्ट्री तैयार की गई तथा 300 से अधिक लोगों को क्वारेंटीन किया गया। प्रशासन के सहयोग से कस्बे की कई होटलों, धर्मशालाओं, निजी अस्पताल, मदरसे के साथ क्षेत्र के रामदेवरा गांव की कुछ धर्मशालाओं को क्वारेंटीन सेंटर बनाया गया था। नमूने लेने के बाद लोगों को इन सेंटर्स में क्वारेंटीन किया गया। अब नए नमूने लेने पर उन लोगों को क्वारेंटीन करने की समस्या उत्पन्न हो रही है। सभी जगहोंं को लोगों से भर दिया गया है और कहीं पर भी अब लोगों को रखने की जगह नहीं है। ऐसे में वैकल्पिक व्यवस्था करते हुए अब संभवतया नमूने लेने के लिए लोगों को उनके घरों में ही एक कमरे में क्वारेंटीन व होम आइसोलेट किया जाएगा।

Deepak Vyas Bureau Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned