कोरोना संकट में एक दर्जन स्कूलों में नही हुआ पोषाहार वितरण

जैसलमेर /भीखोडाई. जिम्मेदारों की अनदेखी के चलते क्षेत्र की भीखोड़ाई, बलाड़, दांतल सहित अन्य ग्राम पंचायतों की एक दर्जन से अधिक स्कूलों में पोषाहार परिवहन नहीं होने के कारण कोविड. 19 एवं ग्रीष्मकालीन अवकाश का पोषाहार छात्रों को वितरण नहीं हो सका।

By: Deepak Vyas

Published: 07 Jul 2020, 09:12 AM IST

जैसलमेर /भीखोडाई. जिम्मेदारों की अनदेखी के चलते क्षेत्र की भीखोड़ाई, बलाड़, दांतल सहित अन्य ग्राम पंचायतों की एक दर्जन से अधिक स्कूलों में पोषाहार परिवहन नहीं होने के कारण कोविड. 19 एवं ग्रीष्मकालीन अवकाश का पोषाहार छात्रों को वितरण नहीं हो सका। गौरतलब है कि सरकारी स्कूलों में अध्ययनरत छात्र-छात्राओं को छुट्टियों का पोषाहार देने के सरकार के निर्णय के चलते कोविड.19 के तहत संपूर्ण लॉकडाउन को ध्यान में रखते हुए सत्र 2019-20 में पढऩे वाले कक्षा 1 से 8 तक के सभी छात्र-छात्राओं को 14 मार्च से 30 जून तक कुल 94 दिनों का पोषाहार उनके अभिभावकों को विद्यालय में बुलाकर वितरित किया जाना था। स्कूली स्तर पर पोषाहार वितरण के लिए एक कमेटी के माध्यम से तीन सदस्य जिसमें संस्था प्रधान, पोषाहार प्रभारी व एक अन्य शिक्षक होगा। पोषाहार केवल छात्र-छात्राओं के अभिभावक व माता.पिता को ही दिया जाना था लेकिन क्षेत्र की स्कूलो में पोषाहार परिवहन नहीं होने के कारण कोरोना काल में छात्रों को पोषाहार वितरण नहीं हो सका। गौकक्षा 1 से 5 तक के छात्र. छात्राओं को 100 ग्राम प्रति छात्र प्रतिदिन के हिसाब से 94 दिन का 9 किलो 400 ग्राम गेहूं या चावल तथा कक्षा 6 से 8 तक डेढ़ सौ ग्राम प्रति छात्र प्रतिदिन के हिसाब से 94 दिन का 14 किलो 100 ग्राम गेहूं या चावल वितरित करना था।

भिजवा दी है डिमांड

पीइइओ क्षेत्र की स्कूलों में पोषाहार परिवहन नहीं होने के कारण छात्रों को वितरण नहीं हो सका।

पोषाहार के लिए डिमांड भिजवा दी है आते ही वितरण कर दिया जाएगा।- सुंदर गोयल, कार्यवाहक पीइइओ बलाड़

उच्चाधिकारियों को कराया है

अवगतस्टॉक में पोषाहार नहीं होने के कारण छात्रों को गेहूं चावल वितरण नहीं हो सका। पोषाहार नहीं होने के संबंध में उच्च अधिकारियों को अवगत करवा दिया गया है।

-जेताराम प्रधानाध्यापक राउप्रावि झलोड़ा

Deepak Vyas Bureau Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned