फलोदी जेल से फरार एक आरोपी मोहनगढ़ क्षेत्र में गिरफ्तार

- बार-बार लोकेशन बदल रहा था आरोपी, तीन दिन से पुलिस दे रही थी दबिश

By: Deepak Vyas

Published: 16 Apr 2021, 12:41 PM IST

पोकरण. गत दिनों फलोदी जेल से फरार हुए 16 में से एक और बंदी को जैसलमेर पुलिस ने गुरुवार को सुबह गिरफ्तार किया। जिसे फलोदी पुलिस को सुपुर्द किया गया। गौरतलब है कि गत 5 अप्रेल को फलोदी के उपकारागृह से 16 आरोपी फरार हो गए थे, जिनमें से एक आरोपी को पूर्व में जैसलमेर पुलिस की ओर से पकड़ा गया था। गुरुवार को सुबह भी हत्या के फरार आरोपी को मोहनगढ़ गांव के पास से गिरफ्तार किया गया। पुलिस के अनुसार गत 5 अप्रेल को उपकारागृह से 16 बंदी जेल प्रहरियों पर सब्जी व मिर्ची फैककर फरार हो गए थे। जिस पर फलोदी पुलिस थाने में मामला दर्ज करते हुए जोधपुर संभाग के सभी थानों को अलर्ट किया गया था। पुलिस अधीक्षक जोधपुर ग्रामीण अनिल कयाल के निर्देशन में विशेष टीमों का गठन कर आरोपियों को पकडऩे के लिए जगह-जगह दबिशें भी दी गई थी।
मोहनगढ़ के पास किया गिरफ्तार
अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक विपिन शर्मा जैसलमेर व दीपककुमार फलोदी के निर्देशन में फलोदी के वृताधिकारी पारस सोनी के नेतृत्व में थानाधिकारी इमरानखां लोहावट, नेमाराम मतौड़ा, स्पेशल टीम के प्रभारी सहायक उपनिरीक्षक अमानाराम की ओर से बाप थानाक्षेत्र के देदासरी निवासी शौकतअली पुत्र नूर मोहम्मद का तकनीकी साक्ष्यों के आधार पर डाटाबैस तैयार किया गया। गुरुवार को सुबह जिला स्पेशल टीम जैसलमेर व जोधपुर ग्रामीण के साथ पुलिस थाना फलोदी, लोहावट, मोहनगढ़ व लाठी के पुलिस बल की ओर से आरोपी शौकतअली को मोहनगढ़ गांव के पास से गिरफ्तार किया गया। गौरतलब है कि शौकतअली हत्या के आरोप में उपकारागृह में बंदी था, जो गत पांच अप्रेल को अन्य बंदियों के साथ फरार हो गया था।
तीन दिन से पीछा रही थी टीमें
पुलिस के अनुसार शौकतअली की गिरफ्तारी को लेकर पुलिस की विशेष टीमें गत तीन दिनों से दबिशें दे रही थी। कच्चे रास्तों, रेत के टीलों व आरोपी की ओर से बार-बार लोकेशन बदलने के कारण उन्हें पकडऩे में परेशानी हो रही थी, लेकिन गुरुवार को सुबह पुलिस को सफलता हाथ लगी तथा आरोपी को गिरफ्तार किया।

Deepak Vyas Bureau Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned