जगा वही सकता है, जो स्वयं जागा हुआ हो

-वीर जुझार पनराज जयंती कार्यक्रम

By: Deepak Vyas

Published: 11 Oct 2021, 06:57 PM IST


जैसलमेर. वीर जुझार पनराज जयंती कार्यक्रम के दौरान क्षत्रिय युवक संघ के संघ प्रमुख लक्ष्मणसिंह बेन्याकाबास ने कहा कि जगा वही सकता है, जो स्वयं जागा हुआ हो। यदि हमें नई क्रांति की शुरुआत करनी है, तो इस आलस्य को छोडऩा होगा, इसलिए यह समय सोने का नहीं, अब जागें। संघ हमें जगाने का प्रयास कर रहा हैं। जब कोई वस्तु अनुपयोगी हो जाती है तो उसे फेंक दिया जाता है क्योंकि उसकी उपयोगिता ही नहीं रह जाती। हमें जिस कुल में जन्म भगवान ने दिया है उसका भी कुछ है, बिना उद्देश्य के लिए कोई निर्माण नहीं होता। हनुमान को अपनी शक्ति का एहसास नहीं था, इसलिए अपनी शक्ति का एहसास करवाया गया, तब पता चला था इसी तरीके से यहां उपस्थित हजारों की संख्या में हनुमान उपस्थित है। इनके भीतर शक्ति को टटोलने की जरूरत है। पनराजसर में आयोजित कार्यक्रम में उन्होंने कहा कि आज हम वीर पनराज जी को याद करने के लिए एकत्रित हुए हैं। यह आपकी भावना है जो यहां खींच लाई है, क्योंकि उन्होंने त्याग किया था। इसी का यह परिणाम आज हजारों भावनाएं उमड़ पड़ी है, ऐसे वीर जिनका सर कट जाए और मीलों तक धड़ लड़ता रहे। यह श्रेष्ठ कौम है, जिसमें हमने जन्म लिया है, इसलिए हमारा बड़ा है। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए स्वामी प्रतापपुरी ने कहा कि आप लोगों के बीच यह पवित्र धारा आई है, इसका रसपान कर लीजिए, यह मौका हाथ से ना चूक जाए, क्योंकि क्षत्रिय युवक संघ संस्कार निर्माण का कार्य करता है। संघ आपको बताता है कि आपका जीवन क्या है? हमारा इतिहास क्या है, हमारी संस्कृति और सभ्यता क्या है, इससे रु-ब-रु करवाता है। उन्होंन कहा कि अपने बच्चों को और बालिकाओं को संघ के शिविरों में भेजे हैं। यही भाग्य विधाता है, यही कल की भविष्य है, हमारी संतान श्रेष्ठ होगी तो आने वाली पीढ़ी भी श्रेष्ठ होगी। कार्यक्रम के प्रारंभ में संघ की भूमिका रखते हुए संभाग प्रमुख तारेन्द्रसिंह झिंझनियाली ने कहा कि हीरक जयंती वर्ष पर विभिन्न जगहों पर इस तरह के आयोजन हो रहे हैं, जो हमारी सामाजिक शक्ति को बढ़ाने का कार्य करता है। संघ हमें जगाने का कार्य कर रहा हैं। सेवा समिति के अध्यक्ष गोवर्धनसिंह ने आयोजित होने वाले प्रत्येक वर्ष के मेले के बारे में जानकारी दी और ऐतिहासिक बिंदुवार अपनी बात को रखा व पहुंचे हुए सभी लोगों को धन्यवाद दिया। संघ की स्वयंसेविका हेमा जोगा ने कहा कि संघ बालिकाओं में संस्कार निर्माण का कार्य कर रहा है, जो हमें यह बताता है कि हमारे पूर्वज कैसे थे, हमारा गौरवशाली इतिहास व परंपराएं, जिस पर हमें गर्व की अनुभूति होती है। दीपसिंह रणधा की ओर से वीर पनराज पर काव्य छंद किया गया। स्थानीय लीलूसिंह की ओर से जुझार वीर पनराज इतिहास भूमिका को रखा गया व पूरी वंशावली एवं वर्तमान में कहां-कहां इनके वंशज रहते हैं। उनके बारे में जानकारी दी गई। रामगढ़ प्रांत प्रमुख पदमसिंह ने बताया कि यह कार्यक्रम क्षत्रिय युवक संघ हीरक जयंती वर्ष कार्यक्रमों की शृंखला में आयोजित किया गया है। कार्यक्रम में निर्जन भारती, जिलाप्रमुख प्रतापसिंह रामगढ़, सांगसिंह, छोटूसिंह, अंजना मेघवाल, मूलाराम चौधरी, विक्रमसिंह नाचना, खेमेंद्रसिंह जाम, हीरसिंह रणधा, गंगासिंह तेजमालता, बाबूसिंह बैरसियाला, भंवरसिंह साधना, सवाईसिंह, आईदानसिंह, हाथीसिंह, नरेंद्रसिंह, आसपास गांवों से ग्रामीणों सहित जिसमें मातृ शक्ति, युवा शक्ति व बालिकाएं संघ के स्वयंसेवक तथा जनप्रतिनिधि, सामाजिक कार्यकर्ता उपस्थित रहे।

Deepak Vyas Bureau Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned