हाथ से मौके फिसले, जैसाण को 20 करोड़ का नुकसान

-हॉलीवुड फिल्म का बड़ा प्रोजेक्ट जैसलमेर से अमेरिकी उपमहाद्वीप में स्थानांतरित
-फिल्मों व वेब सीरीजों की प्रस्तावित शूटिंग भी अब नहीं होगी।

By: Deepak Vyas

Published: 07 Sep 2021, 08:27 PM IST


जैसलमेर. कोरोना महामारी की मार से दुनिया जहां के साथ सीमा पर बसा जैसलमेर जिला भी बच नहीं पाया है। दूसरी लहर में हजारों व्यक्ति संक्रमित हुए और ढाई-तीन सौ लोग काल के गाल में समा गए वहीं विदेशी पर्यटन लगातार दो साल से ठप है। अब जानकारी मिली है कि जैसलमेर को देश और दुनिया भर में शोहरत दिलाने वाली कई फिल्मों तथा वेब सीरीजों की शूटिंग भी यहां अब नहीं होगी। इसमें कुछ प्रोजेक्ट्स तो पूरी तरह से स्थानांतरित हो गए हैं। जिसमें हॉलीवुड के बड़े बैनर की निर्माणाधीन फिल्म शामिल है। जिसकी शूटिंग जैसलमेर ही नहीं भारत के मनोरंजन व पर्यटन जगत के लिए बहुत फायदेमंद होती। बताया जाता है कि उक्त फिल्म की शूटिंग कोविड.19 के प्रकोप के चलते भारत में करने के स्थान पर फिल्मकार ने अमेरिकी उपमहाद्वीप में करने का फैसला लिया है। यह जगह जैसलमेर की भांति ऐतिहासिक व प्राचीन होगी। जानकारों के मुताबिक इस कारण जैसलमेर को 20 करोड़ का नुकसान हुआ है।
बड़े बैनर्स आने थे जैसलमेर
जानकारी के अनुसार चालू अगस्त माह में ही टाइगर श्राफ की मुख्य भूमिका वाली हीरोपंती-2 की शूटिंग जैसलमेर में होनी प्रस्तावित थी। वह स्थगित कर दी गई है। ऐसे ही निर्माता-निर्देशक अपूर्व लखिया जिन्होंने जैसलमेर जिले में मुम्बई से आया मेरा दोस्त फिल्म की शूटिंग की थी, की एक फिल्म के कई दृश्य यहां फिल्माए जाने थे। इस फिल्म की यूनिट के फिलहाल यहां आने की संभावना नहीं है। ऐसे ही हिंदी की दो वेब सीरीजों की शूटिंग जैसलमेर में निरस्त किए जाने की जानकारी मिली है। एक दक्षिण भारतीय भाषा की फिल्म का फिल्मांकन भी टाला गया है। इतने सारे प्रोजेक्ट्स का निरस्त या स्थगित होना जैसलमेर के लिए बड़ा नुकसान माना जा रहा है। जबकि पिछले अर्से के दौरान यहां अक्षय कुमार की बच्चन पांडे तथा सैफ अली खान व अर्जुन कपूर की भूत पुलिस की शूटिंग यहां की गई थी। ये दोनों फिल्में जल्द ही रिलीज होंगी। कुछ वेब सीरीज भी यहां फिल्माई गई।
फिल्मों ने दिलाई प्रसिद्धि
जैसलमेर को पर्यटन के क्षेत्र में लोकप्रियता के नए आयाम दिलाने में 1980 के दशक से अब तक हुई हिंदी व अन्य भाषाओं की फिल्मों की शूटिंग की बड़ी भूमिका रही है। प्रारंभिक दौर में रेशमा और शेरा तथा सोनार किला जैसी फिल्मों से देश भर के लोगों का जैसलमेर से परिचय हुआ। बाद के वर्षों में लम्हें, ऐलान- ए-जंग, कृष्णा, रुदाली, लेकिन, सरफरोश, दीवार, अब तुम्हारे हवाले वतन साथियो, ढाई अक्षर प्रेम के कच्चे धागे, बजरंगी भाईजान आदि कई हिंदी फिल्मों का अहम हिस्सा जैसलमेर बना। इससे देशी पर्यटन को खास तौर पर बढ़ावा मिला है। साथ ही यहां के ट्रेवल एजेंट्स, लोक कलाकारों और व्यवस्थाओं में सहयोग करने वाले लोगों को रोजगार भी मिला है।

एक्सपर्ट व्यू: हालात सुधरे तो मिल सकेगी राहत
फिल्म शूटिंग की व्यवस्थाओं से जुड़े तनसिंह सोढ़ा बताते हैं कि ेदुनिया के गिने-चुने क्लासिक स्थानों में जैसलमेर शामिल है। यह फिल्मों की शूटिंग के लिए बेजोड़ स्थल है। कोरोना की वजह से कई फिल्मों की शूटिंग के कार्यक्रम निरस्त हुए या स्थगित किए गए हैं। इसमें हॉलीवुड की फिल्म का बहुत बड़ा प्रोजेक्ट शामिल है। अब भी कई प्रोजेक्ट पाइप लाइन में है। कोरोना के हालात सही रहे तो ही आने वाले समय में जैसलमेर में शूटिंग का दौर शुरू होगा।

हाथ से मौके फिसले, जैसाण को 20 करोड़ का नुकसान
-हॉलीवुड फिल्म का बड़ा प्राजेक्ट जैसलमेर से अमेरिकी उपमहाद्ीप स्थानांतरित
-फिल्मों व वेब सीरीजों की प्रस्तावित शूटिंग भी अब नहीं होगी

Deepak Vyas Bureau Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned