रेगिस्तान में दुनिया देख चुकी हमारी हवाई ताकत

-डिफेंस सिस्टम, काउंटर सरफेस और सर्च एंड रेस्क्यू ऑपरेशन में तजुर्बे के साथ तकनीक भी
-हमारी वायुसेना की पहचान- निर्धारित समय, अचूक लक्ष्य भेदन और हर समय तैयार।

By: Deepak Vyas

Published: 08 Oct 2021, 01:19 PM IST


जैसलमेर. दोपहर हो या शाम या फिर रात...। अलग-अलग हालात में वायु योद्धाओं ने हवाई ताकत दुनिया को दिखा चुकी है। हथियार हो या बम या फिर मिसाइल की ताकत..। हवा में हर तरह की क्षमताओं का परीक्षण आयरन फीस्ट व वायुशक्ति जैसे युद्धाभ्यासों में साबित हो चुका है। मरुप्रदेश के बाश्ंिादों को देश की हवाई ताकत आज भी विजयी अहसास की अुनुभूति कराती है। यहां के लोगों के जेहन में याद है वर्ष 1971, जब पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान के दुस्साहसपूर्ण धावे के जवाब में जब आकाशवीरों ने अचूक निशाने साधे तो लोंगेवाला में दुश्मन टेंकों की कब्रगाह ही बन गई। सरहद को पार कर भीतर तक घुस आए दुश्मन जो जैसलमेर में सुबह का नाश्ता करना चाहते थे, उन्हें मैदान छोड़कर भागने पर मजबूर कर दिया। दुश्मन को वायुसेना के लड़ाकू विमानों ने सूरज की पहली किरण के साथ ध्वस्त करना शुरू किया।देखते ही देखते लोंगेवाला का युद्धस्थल दुश्मन के जवानों व टैंकों.ट्रकों के अवशेषों से भर गया। एक देश के 90 हजार जवानों ने हथियारबंद होने के बावजूद आत्मसमर्पण करते हुए पराजय स्वीकार कर ली। पाक सीमा से सटे सरहदी जैसलमेर जिले में अब तक के दो युद्धाभ्यासों में वायुसेना ने एयर डिफेंस सिस्टम, काउंटर सरफेस फोर्सेज, ऑपरेशन सर्च व रेस्क्यू ऑपरेशन की जलवा दुनिया देख चुकी है। ताकत, तकनीक व तजुर्बें में वायुसेना की गूंज दुनिया देख चुकी है और मान भी चुकी है।

ऐसी है हमारी एयर पावर
-अग्रिम पंक्ति के सुपरसोनिक लड़ाकू विमान माने जाते है सुखोई-30 व एमकेआई
-अचूक निशाने साधने में विशेषज्ञ माने जाते हैं स्वदेशी लाइट काम्बेट एयरक्राफ्ट तेजस, जगुहार, मिराज व मिग ।
-युद्ध हो या संकटकाल, हेलिकॉप्टर्स से राहत पहुंचाने में वायुसेना सक्षम।
-लड़ाकू हेलिकॉप्टर सारंग एमआईए, सी-30, सुपर हरक्यूलिस, आईसी एएन-32 परिवहन विमान भी अंतरिक्ष वैमानिकी में श्रेष्ठ।
-सरहदी जिले में वर्ष 2016 में आयरन फिस्ट और वर्ष 2019 में वायुशक्ति 2019 में दुनिया देख चुकी है हमारी हवाई ताकत
-एमआइ 17 वीएसए एमआइ- 35 और एएलएच एमके-4 विमान और परिवहन वायुयान एएन- 32, हरक्यूलिस सी-130 की अपूर्व हवाई शक्ति।

Deepak Vyas Bureau Incharge
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned